उज्जैन जिले के 52 प्रमुख दर्शनीय और पर्यटन स्थल – Top 52 Ujjain me Ghumne ki Jagah

Ujjain me Ghumne ki Jagah :- उज्जैन मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध जिला है। इस लेख में हम आपको उज्जैन में घूमने की जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah), उज्जैन के प्रमुख धार्मिक स्थान, उज्जैन कैसे पहुंचे और उज्जैन के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानकारी देंगे।

Table of Contents

उज्जैन जिले के बारे में जानकारी – Information about Ujjain district

उज्जैन मध्य प्रदेश का प्रमुख शहर है। उज्जैन शहर को धार्मिक नगरी कहा जाता है। उज्जैन शहर को  महाकाल की नगरी कहा जाता है। उज्जैन में शिप्रा नदी बहती है। शिप्रा नदी उज्जैन की प्रसिद्ध नदी है और पवित्र नदी है। शिप्रा नदी के तट पर हर 12 साल में  महाकुंभ लगता है।

उज्जैन में भारत में सबसे प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर बना हुआ है। यह उज्जैन शहर के बीचो-बीच में बना हुआ है। महाकालेश्वर मंदिर पूरे विश्व में प्रसिद्ध है और पूरे विश्व से लोग महाकाल के दर्शन करने के लिए आते हैं। उज्जैन शहर में ढेर सारे प्राचीन मंदिर बने हुए हैं।

प्राचीन समय में उज्जैन को उज्जैयनी के नाम से जाना जाता था। उज्जैन में प्राचीन समय में राजा विक्रमादित्य का राज हुआ करता था। राजा विक्रमादित्य एक शूरवीर, महान और दयालु राजा थे।

शिप्रा नदी के तट पर रामघाट बना हुआ है। रामघाट का धार्मिक महत्व है। रामघाट रामायण काल से प्रसिद्ध है। रामघाट में ही महाकुंभ मेले का आयोजन होता है। उज्जैन में त्रिवेणी संगम देखने के लिए मिलता है, जहां पर तीन प्रमुख नदियां मिलती हैं।

उज्जैन में घूमने के लिए बहुत सारी जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) हैं, जो बहुत सुंदर है। इन सभी जगह में जाकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। उज्जैन में घूमने के लिए धार्मिक, ऐतिहासिक और प्राकृतिक स्थान हैं, जो बहुत सुंदर हैं। इन सभी जगह में आप अपने फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए जा सकते हैं।

अगर आप उज्जैन जाने का प्लान बना रहे हैं, तो हमारा यह ब्लॉग पोस्ट आपको उज्जैन यात्रा में मदद करेगा। हमारे इस ब्लॉग पोस्ट में आपको उज्जैन के प्रमुख पर्यटन स्थलों (Ujjain me Ghumne ki Jagah) के बारे में जानकारी दी गई है, जिससे आप उज्जैन में आराम से सैर कर सकें।

आप उज्जैन के सभी पर्यटन स्थलों (Ujjain me Ghumne ki Jagah) की सैर कर सके। उज्जैन में ढेर सारे पर्यटन स्थल हैं, जो लोगों को पता नहीं है। मगर हमारे इस ब्लॉग पोस्ट के जरिए लोगों को उज्जैन के सारे पर्यटन स्थलों (Ujjain me Ghumne ki Jagah) के बारे में पता चल जाएगा।

उज्जैन मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से 200 किलोमीटर दूर है। उज्जैन में पहुंचने के लिए रेल मार्ग और सड़क मार्ग उपलब्ध है।

उज्जैन धार्मिक शहर है। यहां पर बहुत सारे धार्मिक स्थल देखने के लिए मिलते हैं। चलिए जानते हैं – उज्जैन में घूमने के लिए कौन-कौन सी जगह है।

 

उज्जैन में घूमने की जगह – Ujjain me ghumne ki jagah

उज्जैन जिले के दर्शनीय और पर्यटन स्थल की सूची – Ujjain Tourist Places list in Hindi

  1. महाकाल मंदिर
  2. श्री काल भैरव मंदिर उज्जैन
  3. सिंहासन बत्तीसी उज्जैन
  4. हरसिद्धि माता का मंदिर उज्जैन
  5. चार धाम मंदिर उज्जैन
  6. रामघाट उज्जैन
  7. त्रिवेणी संग्रहालय उज्जैन
  8. जंतर मंतर उज्जैन
  9. गढ़कालिका मंदिर उज्जैन
  10. भरथरी गुफा उज्जैन
  11. सिद्धवट उज्जैन
  12. मंगलनाथ मंदिर उज्जैन
  13. कालियादेह पैलेस उज्जैन
  14. बावन कुंड उज्जैन
  15. 24 खंबा मंदिर उज्जैन
  16. नगरकोट की रानी उज्जैन
  17. बड़ा गणेश मंदिर उज्जैन
  18. भारत माता मंदिर उज्जैन
  19. चिंतामन गणेश मंदिर उज्जैन
  20. ऋषि सांदीपनि का आश्रम उज्जैन
  21. राम जनार्दन मंदिर उज्जैन
  22. विष्णु सागर तालाब उज्जैन
  23. अंगारेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन
  24. गुरुद्वारा श्री नानक साहब उज्जैन
  25. इस्कॉन मंदिर उज्जैन
  26. प्रशांति धाम उज्जैन
  27. चामुंडा माता का मंदिर उज्जैन
  28. नौलखी इको टूरिज्म पार्क उज्जैन
  29. बिजासन माता मंदिर उज्जैन
  30. ऋणमुक्तेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन
  31. गोपाल मंदिर उज्जैन
  32. भूखी माता मंदिर उज्जैन
  33. त्रिवेणी संगम उज्जैन
  34. चकोर पार्क उज्जैन
  35. रणकेश्वर धाम मंदिर
  36. तारामंडल
  37. कोठी महल
  38. अटल अनुभूति उद्यान
  39. कालिदास अकादमी उद्यान
  40. गायत्री शक्ति पीठ मंदिर
  41. मैलाना रूमी का मकबरा
  42. श्री विक्रांत भैरव मंदिर
  43. माँ बगलामुखी धाम
  44. श्री संत मत्स्येंद्रनाथ जी समधी स्थल
  45. वीर दुर्गादास राठौर की छत्री
  46. रानी बाग गार्डन
  47. गंभीर डैम
  48. बिल्केश्वर महादेव मंदिर
  49. उन्दासा लेक उज्जैन
  50. वैश्य टेकरी स्तूप
  51. पिंग्लेश्वर महादेव मंदिर
  52. नवग्रह शनि मंदिर उज्जैन

 

उज्जैन के दर्शनीय स्थल – Ujjain me Ghumne ki Jagah

 

महाकाल मंदिर – Mahakal Temple

महाकाल मंदिर उज्जैन मुख्य शहर में बना हुआ है। महाकाल मंदिर पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। पूरे भारत देश से लोग इस मंदिर में दर्शन करने के लिए आते हैं और भगवान शिव के दर्शन करने के बाद अपने आप को धन्य समझते हैं। कहा जाता है, कि भगवान शिव के दर्शन करने के बाद अकाल मृत्यु का खतरा टल जाता है।

महाकाल मंदिर या महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। महाकालेश्वर मंदिर में महाकाल अर्थात कालों के देवता, शिव भगवान विराजमान है। महाकालेश्वर मंदिर बहुत अच्छी तरह से बना हुआ है। महाकालेश्वर मंदिर में आप आराम से आ सकते हैं। महाकालेश्वर मंदिर परिसर में ढेर सारे मंदिर है। आप सभी मंदिरों के दर्शन कर सकते हैं। मंदिर के मुख्य गर्भगृह में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।

महाकालेश्वर शिवलिंग दक्षिणमुखी है। महाकालेश्वर मंदिर की भस्म आरती बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर भस्म आरती की जाती है और यह आरती हर सुबह की जाती है और यह आरती रात को 4 बजे की जाती है।

इस आरती में शामिल होने के लिए बहुत सारे लोग आते हैं। यह आरती चिता की राख से की जाती है। गर्भगृह में शिवलिंग और मंडप में नंदी भगवान जी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। गर्भगृह बहुत ही सुंदर है और सुबह सुबह यहां पर भगवान की आरती करके, भोले बाबा का श्रृंगार किया जाता है।

महाकालेश्वर मंदिर परिसर में और भी बहुत सारे मंदिर हैं, जिनके दर्शन किए जाते हैं और जिनका अपना अपना महत्व है। यहां पर नागचंद्रेश्वर मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो साल में एक बार खुलता है।

यहां पर साक्षी गोपाल मंदिर देखने के लिए मिलता है। हनुमान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। नवग्रह मंदिर देखने के लिए मिलता है। इन सभी मंदिरों का अपना-अपना महत्व है और यह सभी मंदिर बहुत सुंदर है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। भोले बाबा के यहां प्रतिदिन हजारों लोग बाबा के दर्शन करने के लिए आते हैं।  यह उज्जैन में घूमने वाली प्रमुख जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

श्री काल भैरव मंदिर उज्जैन – Shri Kaal Bhairav Temple Ujjain

श्री काल भैरव मंदिर उज्जैन शहर का प्रसिद्ध मंदिर है। भक्तगण उज्जैन में महाकाल के दर्शन करने के बाद, श्री काल भैरव मंदिर में दर्शन करने के लिए जाते हैं। काल भैरव मंदिर मुख्य शहर से थोड़ी दूरी पर स्थित है। यहां पर आप ऑटो से आराम से पहुंच सकते हैं। यह मंदिर शिप्रा नदी के तट पर बना हुआ है। काल भैरव जी का मंदिर शिप्रा नदी के किनारे पहाड़ी पर बना हुआ है।

यह मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर में आपको चमत्कार देखने के लिए मिलता है। यहां पर काल भैरव जी की प्रतिमा को शराब का प्रसाद चढ़ाया जाता है और काल भैरव की प्रतिमा शराब के प्रसाद को ग्रहण करती है। मंदिर में प्याले में शराब को भरकर काल भैरव जी को चढ़ाया जाता है और शराब कुछ ही क्षण में गायब हो जाती है। इस चमत्कार को देखने के लिए, यहां पर बहुत सारे भक्त आते हैं और यहां पर बहुत भीड़ रहती है।

काल भैरव का मंदिर प्राचीन है और इस मंदिर को बहुत अच्छी तरह बनाया गया है। काल भैरव मंदिर परिसर में ढेर सारे देवी देवता विराजमान है, जिनके दर्शन किए जा सकते हैं। मंदिर के बाहर आपको ढेर सारी शराब की दुकान देखने के लिए मिल जाती है। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

सिंहासन बत्तीसी उज्जैन – Sinhasan Battisi Ujjain

सिंहासन बत्तीसी उज्जैन में घूमने का एक मुख्य स्थान है। सिहासन बत्तीसी उज्जैन में महाकालेश्वर मंदिर के पास में स्थित एक सुंदर जगह है। इस जगह को विक्रम टीला भी कहते हैं। यहां पर राजा विक्रमादित्य की बहुत बड़ी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर उनके 9 दरबारी भी देखने के लिए मिलते हैं, जिनके अलग-अलग कार्य हुआ करते थे और राजा विक्रमादित्य इन की सलाह पर ही काम किया करते थे।

यहां पर राजा विक्रमादित्य की कहानियां भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर अलग-अलग कहानियां और अलग-अलग सुंदरियां की मूर्तियां देखने के लिए मिलती है। यह जगह रूद्र सागर तालाब के बीच में बनी हुई है और यह जगह महाकालेश्वर मंदिर के पास ही में है। आप महाकालेश्वर मंदिर में दर्शन करने के बाद, इस जगह में घूम सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

हरसिद्धि माता का मंदिर उज्जैन – Harsiddhi Mata Temple Ujjain

हरसिद्धि माता का मंदिर उज्जैन शहर का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। यह मंदिर हरसिद्धि माता को समर्पित है। हरसिद्धि माता उज्जैन के राजा विक्रमादित्य की कुलदेवी थी। यह मंदिर महाकालेश्वर मंदिर के पास ही में बना है। इस मंदिर के गर्भ गृह में हरसिद्धि माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।

इस मंदिर की छत में श्री यंत्र के दर्शन करने के लिए मिलते हैं और बहुत सुंदर सुंदर पेंटिंग भी बनाई गई है। हरसिद्धि मंदिर के बाहर दो बड़े-बड़े दीपस्तंभ बनाए गए हैं। यह दीपस्तंभ मराठाकालीन है, जो बहुत सुंदर लगते हैं।

महाकालेश्वर मंदिर में घूमने के बाद, आप हरसिद्धि माता के मंदिर घूमने के लिए जा सकते हैं। हरसिद्धि माता मंदिर के परिसर में बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। हरसिद्धि माता मंदिर के बाहर बहुत बड़ा मार्केट लगता है और यहां पर खाने पीने का सामान और अन्य सामान मिलता है। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

चार धाम मंदिर उज्जैन – Char Dham Temple Ujjain

चार धाम मंदिर उज्जैन का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन मुख्य शहर में बना हुआ है। यह मंदिर भी महाकालेश्वर मंदिर के पास ही में स्थित है। इस मंदिर में आप महाकालेश्वर मंदिर से पैदल ही घूमने के लिए जा सकते हैं। यहां पर वैष्णो माता की गुफा बनाई गई है, जहां पर वैष्णो माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं और गुफा के अंदर बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।

इस मंदिर में चारों धाम की प्रतिकृति बनाई गई है। वैष्णो देवी गुफा में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। वह बहुत कम लिया जाता है। यहां पर गौशाला भी बनाई गई है और यहां पर बगीचा बना हुआ है। यहां पर अगर कोई पर्यटक रुकना चाहता है, तो रूम भी उपलब्ध रहते हैं। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

रामघाट उज्जैन – Ramghat Ujjain

रामघाट उज्जैन में घूमने का एक धार्मिक स्थान है। रामघाट उज्जैन में महाकालेश्वर मंदिर के बहुत करीब है। आप यहां पर पैदल ला सकते हैं। यह महाकालेश्वर मंदिर से एक या डेढ़ किलोमीटर दूर होगा। रामघाट शिप्रा नदी के किनारे बना हुआ एक सुंदर घाट है। राम घाट में बहुत सारे प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। रामघाट में नहाने का मजा लिया जा सकता है। यहां पर बहुत सारे लोग नहाते हैं।

रामघाट में शाम के समय शिप्रा नदी की आरती होती है। यहां पर शिप्रा नदी का आरती स्थल भी देखा जा सकता है। यहां पर बहुत सारे लोग मछलियों को खाना खिलाते हैं। शाम के समय यह जगह बहुत अच्छी लगती है। शिप्रा नदी के दोनों तरफ का घाट पक्का बना हुआ है। रामघाट के दूसरी तरफ गुरुद्वारा देखने के लिए मिलता है। यह गुरुद्वारा भी प्राचीन है। आप यहां पर भी जाकर घूम सकते हैं।

रामघाट उज्जैन में रात में घूमने के लिए एक मुख्य जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है। आप रात के समय उज्जैन के रामघाट में आकर अपना समय बिता सकते हैं। यहां पर आकर शांति का अनुभव होता है।

 

त्रिवेणी संग्रहालय उज्जैन – Triveni Museum Ujjain

त्रिवेणी संग्रहालय उज्जैन शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। त्रि त्रिवेणी संग्रहालय मुख्य शहर में स्थित है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यहां पर पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्पेस दिया गया है। त्रिवेणी संग्रहालय में आपको बहुत सारी प्राचीन वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिलता है।

वेणी संग्रहालय में बहुत सारी धार्मिक वस्तुएं देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर पुरानी मूर्तियां, पुरानी पेंटिंग, मंदिर की प्रतिकृति, नौ देवियों की बड़ी-बड़ी प्रतिमाएं, पुराने सिक्के, उज्जैन में प्राचीन स्थल, श्री कृष्ण की पेंटिंग और भी बहुत सारी वस्तुएं देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यह म्यूजियम बहुत ही सुंदर तरीके से बनाया गया है। इस म्यूजियम में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है।

यहां पर एक व्यक्ति का 20 रुपए लिया जाता है। अगर आप उज्जैन घूमने के लिए आते हैं, तो आपको इस म्यूजियम में जरूर घूमने के लिए आना चाहिए। यहां पर आपको उज्जैन शहर के बारे में बहुत सारी जानकारियां मिलती है और यहां पर जो कर्मचारी हैं। वह बहुत अच्छे हैं और आपको वह पूरी जानकारी देने की कोशिश करते हैं। यहां पर लाइब्रेरी भी है, जहां पर आप बुक पढ़ सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

जंतर मंतर उज्जैन – Jantar Mantar Ujjain

जंतर मंतर उज्जैन शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है। जंतर मंतर मुख्य उज्जैन शहर से करीब दो या ढाई किलोमीटर दूर होगा। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यहां पार्किंग के लिए व्यवस्था है। जंतर मंतर में प्रवेश करने के लिए शुल्क लिया जाता है।

यह एक प्राचीन वेधशाला है। यहां पर ग्रह नक्षत्र के बारे में जानकारी मिलती है। इस वेधशाला की स्थापना जयपुर के राजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने की थी। यहां पर एक बहुत बड़ा ग्लोब देखने के लिए मिलता है। यहां पर टेलिस्कोप के द्वारा तारों को भी देखा जा सकता है। जंतर मंतर में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। मगर आपको यहां पर बहुत सारी जानकारी प्राप्त होती है।

यहां पर प्राचीन समय में ग्रह, नक्षत्रों और समय का पता लगाने के लिए प्राचीन यंत्र बनाए गए हैं। वह यंत्र यहां पर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत बड़े-बड़े यंत्र बनाए गए हैं। अभी कुछ नये यंत्र भी यहां पर देखने के लिए मिल जाते हैं। यह जगह शिप्रा नदी के किनारे बनी हुई है। यहां से शिप्रा नदी का घाट भी देखने के लिए मिलता है।

 

गढ़कालिका मंदिर उज्जैन – Garhkalika Temple Ujjain

गढ़कालिका मंदिर उज्जैन शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। उज्जैन शहर का प्रसिद्ध और प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन मुख्य शहर से करीब दो किलोमीटर दूर होगा। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर में आप ऑटो से आ सकते हैं। मंदिर के बाहर पार्किंग के लिए स्पेस दिया गया है।

गढ़कालिका मंदिर के बाहर प्रसाद की बहुत सारी दुकाने हैं। यह मंदिर बहुत सुंदर है और प्राचीन तरीके से बना हुआ है। यह मंदिर गढ़कालिका माता को समर्पित है। मंदिर के अंदर मुख्य मंदिर बना हुआ है, जिसके गर्भगृह में गढ़ कालिका जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।

गढ़ कालिका माता कालिदास कवि की इष्ट देवी थी। गढ़ कालिका माता के द्वारा ही कालिदास जी को ज्ञान प्राप्त हुआ था और वह महान कवि बने थे। गढ़ कालिका मंदिर उज्जैन में भरथरी गुफा की ओर जाने वाले रास्ते पर स्थित है। गढ़कालिका मंदिर के पास में ही गणेश जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर स्थिरमन मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है। इस मंदिर में गणेश जी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

भरथरी गुफा उज्जैन – Bharthari Cave Ujjain

भरथरी गुफा उज्जैन शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। भरथरी गुफा उज्जैन में घूमने का मुख्य स्थान है। यह उज्जैन में शिप्रा नदी के तट पर बना हुआ है। यहां पर पहुंचने के लिए सड़क मार्ग उपलब्ध है। आप यहां पर बाइक और कार से आ सकते हैं। यहां पार्किंग के लिए स्पेस दिया गया है।

भरथरी की गुफा तक पहुंचने के लिए आपको सीढ़यों से नीचे आना पड़ता है। यहां पर सीढ़यों के रास्ते में आपको ढेर सारी दुकान देखने के लिए मिलती हैं, जहां पर अलग-अलग सामान मिलता है।

भरथरी एक महान संत थे, जिन्होंने तपस्या की थी और सिद्धि हासिल करी थी। भरथरी राजा विक्रमादित्य जी के भाई थे। मगर उन्होंने अपने राजपाट को त्याग दिया और घोर तपस्या की और सिद्धि हासिल करें।

यहां पर आपको दो गुफाएं देखने के लिए मिलती है। यहां पर एक गुफा भूमिगत है। भूमिगत गुफा में नीचे जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है और नीचे जाकर एक एक बहुत बड़ा हॉल देखने के लिए मिलता है और यहां पर भरथरी जी ने तपस्या किया था। यहां पर शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।

यहां पर एक रास्ता देखने के लिए मिलता है। यह सुरंग का रास्ता है और कहा जाता है कि इस रास्ते से भरथरी जी चारों धामों में दर्शन किया करते थे। दूसरी गुफा में भी शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर और भी बहुत सारे संतो के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर गौशाला है, जहां पर अच्छी नस्ल की गायों को रखा गया है। यहां पर शिप्रा नदी का घाट भी देखने के लिए मिलता है। आपको यहां पर जरूर जाकर, दर्शन करने चाहिए। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

सिद्धवट उज्जैन – Siddhavat Ujjain

सिद्धवट उज्जैन में स्थित एक धार्मिक स्थल है। सिद्धवट उज्जैन में शिप्रा नदी के तट पर स्थित है। सिद्धवट उज्जैन की एक सुंदर जगह है। यहां पर शिप्रा नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यह मुख्य उज्जैन शहर से करीब 3 से 4 किलोमीटर दूर होगा। यहां पर पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्पेस दिया गया है।

यहां पर एक सिद्धवट वटवृक्ष के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। वटवृक्ष के बारे में कहा जाता है, कि इस वट वृक्ष को माता पार्वती ने लगाया था और यहां पर कार्तिकेय जी ने भोजन किया था। इस वट वृक्ष के दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर श्राद्ध करने के लिए बहुत सारे लोग आते हैं। वटवृक्ष के पास में ही शिव भगवान जी का शिवलिंग विराजमान है। यह घाट बहुत सुंदर है और आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

मंगलनाथ मंदिर उज्जैन – Mangalnath Temple Ujjain

मंगलनाथ मंदिर उज्जैन शहर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। मंगलनाथ मंदिर उज्जैन का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में सांदीपनि आश्रम के आगे बना हुआ है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर के बाहर पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्पेस दिया गया है। यह मंदिर उज्जैन में शिप्रा नदी के तट में बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदर है और बहुत ही अच्छी तरह से बनाया गया है।

यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंगलनाथ मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि यहां पर मंगल ग्रह का जन्म हुआ था और यहां पर जिसका भी मंगल भारी रहता है। वह यहां पर पूजा करा सकता है। यहां पर पूजा का सामान मिलता है, जिसके द्वारा वह पूजा करा सकता है।

यहां पर बहुत सारे पंडित जी हैं, जो मंगल ग्रह की पूजा करते हैं। यह मंदिर बहुत बड़ा है और बहुत सुंदर है। यह मंदिर शिप्रा नदी के किनारे बना हुआ है। शिप्रा नदी का यहां पर सुंदर घाट देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर सिद्धवट मंदिर के पास ही में स्थित है। यहां पर गौशाला भी है, जहां पर बहुत सारी गायों को रखा गया है। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

कालियादेह पैलेस उज्जैन – Kaliyadeh Palace Ujjain

कालियादेह पैलेस उज्जैन शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह महल उज्जैन शहर के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। यह महल उज्जैन में शिप्रा नदी के किनारे बना हुआ है। यह महल शिप्रा नदी के पास में एक टापू में बना हुआ है। इस महल में आप आसानी से जा सकते हैं। इस महल में अगर आप जाएं, तो दिन के समय जाएं, तो बेहतर होगा। इस महल में आप बाइक और कार से जा सकते हैं। यहां पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्पेस दिया गया है।

यह महल बहुत पुराना है। इस महल में सूर्य भगवान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस महल के पास में ही शिप्रा नदी में डैम भी बना हुआ है। यह डैम बहुत बड़ा है और बहुत सुंदर है। इस महल के बारे में कहा जाता है, कि यहां पर नेगेटिव एनर्जी है और लोग यहां पर जाने से डरते हैं। वैसे यह महल आउट एरिया में बना हुआ है और यहां पर ज्यादा लोग नहीं रहते हैं। यहां पर लोकल लोग ही ज्यादा घूमते हैं। इसलिए थोड़ा डरने की बात जरूर है। आप यहां जाएं, तो ग्रुप के साथ जाएं और रात को यहां पर ना जाए।

कालियादेह महल बहुत सुंदर है और इस महल का अभी रिनोवेशन हो रहा है, जिससे यह महल बहुत सुंदर लगेगा। फ्यूचर में इस महल में ज्यादा लोग घूमने लिए आ सकते है। मगर अभी यहां पर बहुत कम लोग घूमने लिए आते हैं। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

बावन कुंड उज्जैन – Bawan Kund Ujjain

बावन कुंड उज्जैन में घूमने का एक ऐतिहासिक स्थान है। बावन कुंड उज्जैन में कालियादेह महल के पास में स्थित एक सुंदर स्थल है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं और इन कुंड में घूमने के लिए जा सकते हैं।

बावन कुंड प्राचीन स्थल है और यहां पर 52 कुंड देखने के लिए मिलते हैं। इन 52 कुंड को बहुत ही अच्छी तरह से बनाया गया है। यहां पर काल भैरव जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। इन कुंडों में बारिश के समय जब शिप्रा नदी में पानी बढ़ जाता है, तो इन कुंडों में पानी भर जाता है। इन कुंडों में रंग बिरंगी मछलियां देखने के लिए मिलती हैं। कार्तिक पूर्णिमा में यहां पर विशाल मेला लगता है और लोग यहां पर आते हैं। आप यहां पर आकर बावन कुंड और कालियादेह महल दोनों ही घूम सकते हैं।

बावन कुंड बहुत सुंदर है और यहां पर आकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। मगर इस जगह पर सफाई का अभाव है। यहां पर सरकार किसी भी तरह का देखभाल नहीं कर रही है, जिससे यहां पर बहुत अधिक मात्रा में कचरा देखा जा सकता है। सरकार को इस जगह पर जरूर ध्यान देना चाहिए। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

24 खंबा मंदिर उज्जैन – 24 Khamba Temple Ujjain

24 खंबा मंदिर उज्जैन में घूमने का एक धार्मिक स्थल है। यह उज्जैन का प्रसिद्ध और प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन मुख्य शहर में बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यह मंदिर उज्जैन मुख्य बाजार क्षेत्र में स्थित है।

इस मंदिर में प्राचीन 24 खंबे देखने के लिए मिलते हैं। इसमें 12 खंबे नीचे और 12 खंबे ऊपर बने हुए हैं। मंदिर के सामने महामाया और महालाया देवियों के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर में पंडित जी बैठे रहते हैं, जो आपको इस मंदिर के बारे में जानकारी दे सकते हैं। यहां पर यह मंदिर महाकालेश्वर मंदिर जाने के रास्ते में ही स्थित है। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

नगरकोट की रानी उज्जैन – Queen of Nagarkot Ujjain

नगरकोट की रानी मंदिर उज्जैन शहर का धार्मिक स्थल है। यह मंदिर उज्जैन शहर के बीचो बीच में स्थित है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि नगरकोट की रानी मंदिर में विराजमान माता उज्जैन शहर की संरक्षक है और वह उज्जैन शहर की रक्षा करती हैं। आप इस मंदिर में घूमने के लिए जा सकते हैं। यह  मंदिर बहुत सुंदर है और माता की प्रतिमा भी बहुत आकर्षक है। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

बड़ा गणेश मंदिर उज्जैन – Bada Ganesh Temple Ujjain

बड़ा गणेश मंदिर उज्जैन शहर में महाकालेश्वर मंदिर के पास ही में स्थित है। इस मंदिर में गणेश जी की बहुत बड़ी प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शिव भगवान जी की प्रतिमा के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर महाकालेश्वर मंदिर के पास मुख्य सड़क में ही स्थित है। आप महाकालेश्वर मंदिर में दर्शन करने के बाद, यहां पर आ सकते हैं और गणेश जी के दर्शन कर सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

भारत माता मंदिर उज्जैन – Bharat Mata Temple Ujjain

भारत माता मंदिर उज्जैन शहर में घूमने का एक सुंदर मंदिर (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है। यह मंदिर मुख्य उज्जैन शहर में बना हुआ है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। यह मंदिर महाकालेश्वर मंदिर के पास ही में स्थित है। इस मंदिर में आप पैदल आ सकते हैं।

यह मंदिर भारत माता को समर्पित है। इस मंदिर में भारत माता की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में मार्बल से बना हुआ भारत का नक्शा देखने के लिए मिलता है। इस नक्शे में बहुत सारी जगह की जानकारी दी गई है। यहां पर गार्डन बना हुआ है, जहां पर शांति से बैठ जा सकता है।

 

चिंतामन गणेश मंदिर उज्जैन – Chintaman Ganesh Temple Ujjain

चिंतामन गणेश मंदिर उज्जैन शहर में घूमने का प्रमुख धार्मिक स्थल (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है। चिंतामन गणेश मंदिर उज्जैन शहर के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। चिंतामन गणेश मंदिर उज्जैन से करीब 6 किलोमीटर दूर है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यहां पर आप रेल मार्ग और सड़क मार्ग से पहुंच सकते हैं। चिंतामन मंदिर के पास में ही रेलवे स्टेशन बना हुआ है। यहां पर चिंतामन रेलवे स्टेशन बना हुआ है। आप स्टेशन से उतरकर कुछ कदम चलने के बाद मंदिर पहुंच सकते हैं।

चिंतामन गणेश मंदिर गणेश जी को समर्पित है। इस मंदिर में गणेश जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में विराजमान गणेश जी के दर्शन करने से इंसानों की जो भी चिंता रहती है, उससे मुक्ति मिलती है। इस मंदिर में गणेश जी की तीन प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती हैं।

यहां पर दूर-दूर से लोग गणेश जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। कोई भी शुभ काम करने से पहले लोग यहां पर गणेश जी के दर्शन करते हैं। गणेश जी को लड्डू का प्रसाद चढ़ाया जाता है। गणेश जी के मंदिर के बाहर ढेर सारी दुकान है, जहां पर प्रसाद एवं अन्य धार्मिक सामान मिलता है। आप अगर उज्जैन की यात्रा करते हैं, तो आपको इस मंदिर में जरूर आना चाहिए और मंदिर में घूमना चाहिए। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

ऋषि सांदीपनि का आश्रम उज्जैन – Rishi Sandipani’s Ashram Ujjain

ऋषि सांदीपनि आश्रम उज्जैन शहर में घूमने का एक प्रमुख धार्मिक स्थल (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है। यहां पर आपको श्री कृष्ण जी का और भगवान शिव का मंदिर देखने के लिए मिलता है।  ऋषि सांदीपनि की आश्रम उज्जैन मुख्य शहर से थोड़ा दूरी पर स्थित है। यहां पर आप बाइक और कार से आ सकते हैं। यह मुख्य सड़क पर बना हुआ है। यहां पार्किंग के लिए बहुत बड़ी जगह है। मंदिर के बाहर आपको ढेर सारी दुकान देखने के लिए मिलती है, जहां पर खाने-पीने का सामान और अन्य तरह के सामान मिलते हैं।

ऋषि सांदीपनि आश्रम का धार्मिक महत्व है। यह जगह श्री कृष्ण जी का पाठशाला थी। यहां पर श्री कृष्ण जी ने 64 विद्या और 16 कलाएं सीखी थी। यहां पर श्री कृष्ण, बलराम और सुदामा जी ने शिक्षा ली थी। यहां पर उनका शिक्षा स्थल देखने के लिए मिलता है। यहां पर गोमती कुंड देखने के लिए मिलता है।

यहां पर कुंडेश्वर महादेव मंदिर बना है। कुंडेश्वर महादेव मंदिर में शिव भगवान जी का शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं और यहां पर खड़ी हुई नंदी भगवान जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो एक अद्भुत प्रतिमा है। यहां पर महाप्रभुजी की बैठक के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर श्री सर्वेश्वर महादेव के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।

उज्जैन के सांदीपनि आश्रम में आकर अच्छा लगता है और शांति का एहसास होता है।  अगर आप उज्जैन यात्रा के लिए जाए, तो आप इस मंदिर में आकर दर्शन जरूर करें। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

राम जनार्दन मंदिर उज्जैन – Ram Janardan Temple Ujjain

राम जनार्दन मंदिर उज्जैन शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में महर्षि सांदीपनि आश्रम के करीब है। आप इस मंदिर में आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर में आने के लिए अच्छी सड़क व्यवस्था है। यह मंदिर प्राचीन है।

इस मंदिर में आपको श्री विष्णु भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में आपको भगवान विष्णु जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत आकर्षक लगती है। यह मंदिर 300 साल पुराना है। इस मंदिर की वास्तुकला देखने लायक है। यहां पर आकर अच्छा लगता है।

राम जनार्दन मंदिर गवर्नमेंट के द्वारा संरक्षित किया गया है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। इस मंदिर में भगवान राम की वनवास काल की प्रतिमा देखी जा सकती है, जिसमें भगवान राम की दाढ़ी और मूंछ निकली हुई है। यहां पर आप आकर अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। उज्जैन यात्रा में आप इस मंदिर में जरूर दर्शन करें। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

विष्णु सागर तालाब उज्जैन – Vishnu Sagar Pond Ujjain

विष्णु सागर तालाब उज्जैन का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थान है। विष्णु सागर तालाब उज्जैन में राम जनार्दन मंदिर के पास में बना हुआ है। आप यहां पर आराम से आ सकते हैं और इस जगह में घूम सकते हैं। यहां पर आपको राम जनार्दन मंदिर देखने के लिए मिलता है।

यहां पर एक बहुत बड़ा तालाब बना हुआ है, जिसे विष्णु तालाब के नाम से जाना जाता है। तालाब के पास में ही गार्डन बना हुआ है। यहां पर आपको प्राचीन बावड़ी देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर है। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से परिपूर्ण है और आप यहां पर जाकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। इस तालाब को सप्तसागर के नाम से भी जाना जाता है। आप अपनी उज्जैन यात्रा में इस जगह की यात्रा को भी शामिल कर सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है और शांति का एहसास होता है। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

श्री अंगारेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन – Shri Angareshwar Mahadev Temple Ujjain

श्री अंगारेश्वर महादेव उज्जैन का एक प्रसिद्ध शिव मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में शिप्रा नदी के तट पर स्थित है। यह मंदिर मंगलनाथ मंदिर के आगे बना हुआ है। इस मंदिर में आने के लिए सड़क मार्ग उपलब्ध है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं।

यह उज्जैन के सबसे सुंदर मंदिरों में से एक है। यहां पर आकर आपको भगवान शिव के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह 84 महादेव शिवलिंग में से एक है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर आप आकर शिप्रा नदी के भी दर्शन कर सकते हैं। यहां पर आकर आप मंगल ग्रह और कालसर्प पूजा करवा सकते हैं। यहां पर गौशाला भी बनी हुई है, जहां पर ढेर सारी गायों की सेवा की जाती है। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

गुरुद्वारा श्री गुरु नानक साहिब उज्जैन – Gurudwara Sri Guru Nanak Sahib Ujjain

गुरुद्वारा श्री गुरु नानक साहिब उज्जैन का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थान है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह गुरुद्वारा रामघाट के सामने बना हुआ है। इस गुरुद्वारा में आप आसानी से पहुंच सकते हैं।

इस गुरुद्वारे का ऐतिहासिक महत्व है, कहा जाता है कि यहां पर प्राचीन समय में श्री गुरु नानक जी आए थे और लोगों को गुरु वाणी का पाठ सुनाया था। यहां पर एक इमली का प्राचीन पेड़ देखने के लिए मिलता है, जिसके नीचे बैठकर गुरु जी ने लोगों को ज्ञान की बात सुनाई थी। यहां पर आज भी आप वह इमली का पेड़ देख सकते हैं। यह गुरुद्वारा बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है और यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर ठहरने के लिए और लंगर की सुविधा उपलब्ध है। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

इस्कॉन मंदिर उज्जैन – ISKCON temple ujjain

इस्कॉन मंदिर उज्जैन का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में मुख्य शहर में स्थित है।  यह उज्जैन रेलवे स्टेशन से करीब चार किलोमीटर दूर है। इस मंदिर में आप ऑटो के द्वारा आराम से पहुंच सकते हैं। मंदिर के बाहर पार्किंग की अच्छी व्यवस्था है।

इस्कॉन मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से बनाया गया है। यह मंदिर बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यह मंदिर बहुत ही भव्य है। इस मंदिर के बाहर आपको बहुत बड़ा गार्डन देखने के लिए मिलता है। गार्डन में तरह-तरह के पेड़ पौधे लगे हुए हैं।

मंदिर के अंदर भगवान श्री कृष्ण जी और राधा रानी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा बहुत सुंदर है और इस प्रतिमा को देखकर मन को शांति मिलती है। इस मंदिर में शाम के समय भजन कीर्तन होते हैं, जो मन को शांति देते हैं। आप यहां पर शाम की आरती में शामिल हो सकते हैं। यहां पर एक छोटी सी कैंटीन बनी हुई है, जहां पर खाने का सामान मिलता है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर ठहरने की व्यवस्था उपलब्ध है। इस्कॉन मंदिर को मदन मोहन मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

प्रशांति धाम उज्जैन – Prashanti Dham Ujjain

प्रशांति धाम उज्जैन का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है। प्रशांति धाम उज्जैन का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में शिप्रा नदी के तट पर बना हुआ है। इस मंदिर में आप आ सकते हैं। यह मंदिर साई बाबा जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर मैं आपको एक बहुत बड़ा गार्डन देखने के लिए मिलता है, जहां पर ढेर सारे पेड़ पौधे लगे हुए हैं।

मंदिर में मुख्य गर्भगृह में साई बाबा जी की आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर शिप्रा नदी के तट पर सुंदर घाट बना हुआ है, जहां पर आप घूम सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

चामुंडा माता मंदिर उज्जैन – Chamunda Mata Temple Ujjain

चामुंडा माता मंदिर उज्जैन का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन मुख्य शहर में बना हुआ है। यह मंदिर उज्जैन में चामुंडा माताजी सर्कल के पास में बना हुआ है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। यह मंदिर चामुंडा माता को समर्पित है।

चामुंडा माता मां दुर्गा का ही अवतार है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर बहुत सुंदर है।  यह उज्जैन में घूमने लायक एक प्रमुख स्थान है। यहां पर आकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। नवरात्रि में यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। यहां पर मां की बहुत सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर मां चामुंडा के मुख के आप दर्शन कर सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है और शांति मिलती है। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

नौलखी इको टूरिज्म पार्क उज्जैन – Naulakhi Eco Tourism Park Ujjain

नौलखी इको टूरिज्म पार्क उज्जैन में घूमने का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह पार्क उज्जैन में उज्जैन मक्सी हाईवे मार्ग के पास में स्थित है। इस पार्क में आप आसानी से आ सकते हैं। यह पार्क बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है और बहुत सुंदर है।

यहां पर आकर आप ढेर सारे पक्षी और जीव जंतु को देख सकते हैं। यहां पर आपको मोर बड़ी आसानी से देखने के लिए मिल जाता है। इस पार्क में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यह पार्क बहुत सुंदर है।

आप यहां बरसात के समय आएंगे, तो आपको ज्यादा मजा आएगा। पार्क के अंदर आपको झील देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर है। यहां पर एक रास्ता बना हुआ है, जहां पर आप आराम से घूम सकते हैं। यहां पर छोटे-छोटे वॉच टावर बने हुए हैं, जहां से आप चारों तरफ का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर अगर आप चाहे, तो कैंपिंग का भी आनंद उठा सकते हैं। यह जगह बहुत सुंदर है और यह उज्जैन में घूमने का एक मुख्य स्थान (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

श्री बिजासन माता मंदिर उज्जैन – Shri Bijasan Mata Temple Ujjain

श्री बिजासन माता मंदिर उज्जैन का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में हामुखेड़ी गांव के पास में बना हुआ है। यह मंदिर उज्जैन देवास मार्ग पर बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़यों की व्यवस्था है। यह मंदिर बहुत सुंदर है।

श्री बिजासन माता मंदिर के अंदर माता की भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। मंदिर में आकर अच्छा लगता है। मंदिर से आपको चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाएगा। यहां पर नवरात्रि के समय बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे लोग यहां पर आकर माता के दर्शन करते हैं। यह उज्जैन में देखने लायक एक मुख्य स्थान है। आप अपने उज्जैन यात्रा में इस मंदिर को भी शामिल कर सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने का एक मुख्य स्थान (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

ऋणमुक्तेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन – Ranmukteshwar Mahadev Temple Ujjain

ऋणमुक्तेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में शिप्रा नदी के तट पर बना हुआ है। यह मंदिर मुख्य शहर के बाहर स्थित है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर में आने के लिए सड़क मार्ग उपलब्ध है। यह मंदिर उज्जैन में सबसे अधिक देखे जाने वाला मंदिर में से एक है।

यहां पर लोग आकर ऋण मुक्तेश्वर जी के दर्शन करते हैं। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि इस मंदिर में भगवान भोलेनाथ के दर्शन करने से और पूजा करने से आपके जो भी ऋण रहते हैं, उनसे आपको मुक्ति मिलती है।

यहां पर आपको पीली पूजा करवानी पड़ती है और कुछ समय बाद आपके जो भी लोन या कर्ज रहता है, उससे आपको मुक्ति मिल जाती है। यहां पर बहुत सारे लोग आते हैं। यह जगह बहुत सुंदर है। अगर आप उज्जैन घूमने लिए जाते हैं, तो इस मंदिर को अपनी यात्रा में जरूर शामिल करें। यह उज्जैन में घूमने का एक मुख्य स्थान (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

गोपाल मंदिर उज्जैन – Gopal Temple Ujjain

गोपाल मंदिर उज्जैन में घूमने का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है। यह उज्जैन का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन मुख्य शहर में बना हुआ है। यह मंदिर बड़ा बाजार चौक के बीच में स्थित है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं।

गोपाल मंदिर एक प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर का निर्माण 19वीं शताब्दी में महाराजा दौलत राव शिंदे की रानी बायजाबाई शिंदे ने करवाया था। यह मंदिर श्री कृष्ण जी को समर्पित है। मंदिर में श्री कृष्ण जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के गर्भगृह में शिव पार्वती, गरुड़ और बायजाबाई की प्रतिमा है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर जाकर शांति का एहसास होता है।

यह मंदिर मराठा वास्तुकला का एक सुंदर उदाहरण है। मंदिर का गर्भगृह बहुत सुंदर है और संगमरमर से सजा हुआ है। मंदिर के दरवाजे में चांदी की नक्काशी की गई है। इस मंदिर में आप श्री कृष्ण जी के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर उज्जैन रेलवे जंक्शन से 2 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यहां पर जन्माष्टमी और हरिहर पर्व में बहुत बड़ा उत्सव मनाया जाता है। यह मंदिर उज्जैन में जाने लायक मुख्य स्थान है। अगर आप उज्जैन की यात्रा करते हैं, तो अपनी यात्रा में इस मंदिर को भी शामिल करें। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

भूखी माता मंदिर उज्जैन – Bhukhi Mata Temple Ujjain

भूखी माता मंदिर उज्जैन में घूमने का एक प्रसिद्ध स्थान है। भूखी माता मंदिर उज्जैन में शिप्रा नदी के तट पर स्थित है। भूखी माता मंदिर महाकालेश्वर मंदिर से करीब चार से पांच किलोमीटर दूर है। आप यहां पर आराम से आ सकते हैं। यहां पर आने के लिए सड़क मार्ग उपलब्ध है।

भूखी माता मंदिर बहुत ही अच्छे तरीके से बना हुआ है। मंदिर के मुख्य गर्भगृह में भूखी माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के गर्भगृह में भूखी माता और धूमावती माता के दर्शन किए जा सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है।

भूखी माता मंदिर के बारे में एक कहानी प्रसिद्ध है, जो आप जान सकते हैं। यह जगह बहुत सुंदर है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। आप अपनी उज्जैन यात्रा में इस मंदिर को भी शामिल कर सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

त्रिवेणी संगम उज्जैन – Triveni Sangam Ujjain

त्रिवेणी संगम उज्जैन का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है। त्रिवेणी संगम मुख्य उज्जैन शहर के बाहर स्थित है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यह उज्जैन इंदौर हाईवे सड़क के पास में स्थित है। यहां पर आपको तीन नदियों का संगम देखने के लिए मिलता है। यहां पर शिप्रा नदी, खान नदी और सरस्वती नदी का संगम हुआ है। यहां पर सरस्वती नदी गुप्त है।

आप यहां पर आकर इस संगम स्थल को देख सकते हैं, जो बहुत सुंदर है। यहां पर आकर अच्छा लगता है और मन को शांति मिलती है। यहां पर आप संगम में आकर स्नान भी कर सकते हैं। संगम स्थल के पास में शनि भगवान जी का प्रसिद्ध मंदिर बना हुआ है। आप मंदिर में भी घूमने के लिए जा सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने का एक मुख्य स्थान (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

चकोर पार्क उज्जैन – Chakor Park Ujjain

चकोर पार्क उज्जैन में घूमने का एक मुख्य स्थान (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है। यह उज्जैन के सबसे अच्छे पार्कों में से एक है। यह पार्क उज्जैन में उज्जैन मक्सी हाईवे सड़क के बहुत करीब है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यह उज्जैन मुख्य शहर के बाहरी क्षेत्र स्थित है।

चकोर पार्क बहुत बड़ा है। इस पार्क का प्रबंधन नगर निगम के द्वारा किया जाता है। यह पार्क सुबह 6 बजे से 10:00 बजे तक और शाम को 5:00 से 9:00 तक खुला रहता है। इस पार्क में आकर आप लाइट एंड साउंड शो एवं फाउंटेन शो देख सकते हैं, जो शाम को होता है। इस पार्क में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है।

इस पार्क में आपको चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर फूलों वाले पौधे लगाए हुए हैं। यहां पर आपको ट्री हाउस और हॉबिट हाउस देखने के लिए मिलेगा। यह पार्क बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है।

इस पार्क में बहुत सारी एक्टिविटी का आप आनंद उठा सकते हैं। यहां बहुत सारे झूले हैं, जिनमें आप झूल सकते हैं। यहां व्यायाम के साथ बच्चों के खेलने के लिए एक अच्छा क्षेत्र है। यहां एक्यूप्रेशर ट्रैक है, जिसमें आप चल सकते हैं। यहां पर पेड़ों पर सुंदर कलाकारी की गई है।

यहां पर आकर आपको अच्छा लगेगा और शांति का अनुभव होगा। यह उज्जैन में घूमने वाली मुख्य जगह है। अगर आप उज्जैन यात्रा करते हैं, तो आप इस जगह में आ सकते हैं।

 

रणकेश्वर धाम मंदिर उज्जैन – Rankeshwar Dham Temple Ujjain

रणकेश्वर धाम मंदिर उज्जैन का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन मुख्य शहर के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। यह मंदिर मुख्य सड़क पर स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर के आस-पास का वातावरण शांतिपूर्ण है। यहां पर आकर अच्छा लगता है।

यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंदिर में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर की वस्तुकला भी अद्भुत है। मंदिर के ऊपर एक विशाल शिवलिंग बना हुआ है, जो बहुत ही आकर्षक लगता है। मंदिर के मुख्य गर्भगृह में शिवलिंग के दर्शन होते हैं। आप अपनी उज्जैन यात्रा में इस मंदिर को भी शामिल कर सकते हैं और यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। यह उज्जैन के पास घूमने का एक मुख्य पर्यटन स्थल (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

उज्जैन तारामंडल – Ujjain Planetarium

उज्जैन तारामंडल उज्जैन शहर का एक प्रमुख आकर्षक स्थल है। उज्जैन तारामंडल उज्जैन में वसंत विहार में बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं और घूम सकते हैं। यहां पर पार्किंग के लिए अच्छा स्पेस दिया गया है। यहां पर प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है।

यह जगह उज्जैन में बच्चों के घूमने के लिए बहुत ही बढ़िया है। बच्चे यहां पर आकर बहुत इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर खगोल विज्ञान और उज्जैन के इतिहास के बारे में बताया जाता है। यहां पर ब्रह्मांड की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी जाती है।

यहां पर शो का आयोजन किया जाता है, जिसमें ढेर सारी जानकारी रहती है। यहां पर ढेर सारे शो का आयोजन होता है। आप इन सभी शो को देख सकते हैं। उज्जैन तारामंडल सोमवार को बंद रहता है। आप यहां पर अपने बच्चों के साथ आ सकते हैं और इंजॉय कर सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

कोठी महल उज्जैन – Kothi Mahal Ujjain

कोठी महल उज्जैन में घूमने का एक प्रमुख दर्शनीय स्थान है। कोठी महल उज्जैन में विक्रम विश्वविद्यालय के पास में स्थित है। कोठी महल में जिला कलेक्टर का ऑफिस है। यहां पर आप घूमने लिए आ सकते हैं और इस महल को देख सकते हैं। इस महल में उज्जैन शहर आने वाले पर्यटकों के लिए शाम के समय लाइट एंड साउंड शो का आयोजन होता है, जिसमें आप उज्जैन का इतिहास के बारे में जान सकते हैं।

कोठी महल का निर्माण माधवराव सिंधिया के शासनकाल में ब्रिटिश रीजेंसी काउंसिल के द्वारा किया गया था। कोठी महल राजपूत और मराठा वास्तुकला शैलियों में बना हुआ है। यह एक सुंदर महल है। इस महल के सामने एक बड़ा सा बगीचा बना हुआ है। अगर आप उज्जैन आते हैं, तो अपनी उज्जैन यात्रा में इस महल को भी शामिल कर सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने वाली जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

अटल अनुभूति पार्क उज्जैन – Atal Anubhuti Park Ujjain

अटल अनुभूति पार्क उज्जैन में घूमने का एक प्रसिद्ध स्थान है। अटल अनुभूति पार्क उज्जैन के सबसे बेस्ट पार्क में से एक है। यह उज्जैन में कोठी महल के पास में बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यह पार्क बहुत बड़ी एरिया में फैला हुआ है।

इस पार्क में आपको चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर ढेर सारे पौधे लगे हुए हैं। इस पार्क में आपको बहुत सारी मनोरंजक गतिविधियों करने के लिए मिलती है। यह पार्क बच्चों को बहुत पसंद आएगी।

बच्चों के लिए यहां पर ढेर सारे झूले लगे हुए हैं। इस पार्क में आपको बहुत सारे मोर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर एक्यूप्रेशर प्लेटफार्म, बच्चों के लिए एक छोटा सा खेल क्षेत्र, व्यायाम करने के लिए यंत्र लगे हुए हैं।

यहां पर आपको द्रोणागिरी वाटिका, साइंस के यंत्र देखने के लिए मिलते हैं। आप इस पार्क में घूम सकते हैं। यहां पर मचान बनी हुई है, जहां पर जाकर आप चारों तरफ का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। इस को भारत रत्न प्राप्त श्री अटल बिहारी वाजपेई जी की स्मृति में बनाया गया है। यह उज्जैन में बच्चों के घूमने के लिए एक मुख्य स्थान है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। यह उज्जैन में घूमने लायक जगह (Ujjain me Ghumne ki Jagah) है।

 

कालिदास संस्कृत अकादमी उज्जैन – Kalidas Sanskrit Academy Ujjain

कालिदास संस्कृत अकादमी उज्जैन का एक प्रसिद्ध दर्शनीय स्थान है। कालिदास संस्कृत अकादमी उज्जैन में मुख्य शहर में स्थित है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। अगर आप कला और संस्कृति में रुचि रखते हैं, तो आप यहां पर आकर इस जगह में ढेर सारी कलात्मक वस्तुएं देख सकते हैं। यहां पर शास्त्रीय संगीत, नृत्य, लोक गीत आदि सुनने और देखने के लिए मिल जाता है।

यहां पर एमएनसी उज्जैन द्वारा समय-समय पर हस्तशिल्प मेले का आयोजन किया जाता है, जहां पर आपके हाथ से बने हुए सामान खरीदने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते है। यहां आपको छोटा सा म्यूज़ियम, पुस्तकालय देखने के लिए मिलता है, जहां पर आपको ढेर सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर लगती है। यहां पर कालिदास जी की कविताएं मिलती हैं, जिन्हें आप इन्हें पढ़ सकते हैं। यहां पर सरकारी या अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

 

गायत्री माता मंदिर उज्जैन – Gayatri Mata Temple Ujjain

गायत्री माता मंदिर उज्जैन का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह उज्जैन में घूमने की सबसे अच्छी जगह में से एक है। यह मंदिर उज्जैन में मुख्य शहर में अंकपात द्वार के पास में स्थित है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। यह मंदिर मुख्य सड़क पर बना हुआ है।

यह मंदिर गायत्री माता को समर्पित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर में आकर एक अलग ऊर्जा का संचार होता है। यहां पर आपको मुख्य गर्भगृह में गायत्री माता की बहुत सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है।

इस मंदिर में आप अगर शादी एवं अन्य कार्यक्रम करवाना चाहते हैं, तो कर सकते हैं।  यहां पर शादी के लिए ग्राउंड और मंडप की सेवा उपलब्ध रहती है। यहां पर एक गौशाला भी बनी हुई है, जहां पर ढेर सारी गायों की सेवा की जाती है। आप अपनी उज्जैन यात्रा में इस मंदिर को भी शामिल कर सकते हैं। यह उज्जैन की सुंदर जगह में से एक है।

 

मौलाना रूमी का मकबरा उज्जैन – Tomb of Maulana Rumi Ujjain

मौलाना रूमी का मकबरा उज्जैन में घूमने का एक ऐतिहासिक स्थान है। यह मकबरा 500 वर्ष प्राचीन है। मौलाना रूमी के बारे में कहा जाता है, कि यह तुर्की के एक सौदागर थे। इंडियन हिस्ट्री में सूफी संत जलालुद्दीन रूमी की जीवनी और उपदेश का संकलन पाया जाता है। संभवत यह उसी रूमी का मकबरा है।

यह मकबरा भरतरी गुफा के पास में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह स्मारक गवर्नमेंट के द्वारा संरक्षित की गई है।

 

श्री विक्रांत भैरव मंदिर उज्जैन – Shri Vikrant Bhairav Temple Ujjain

श्री विक्रांत भैरव मंदिर उज्जैन का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में शिप्रा नदी के तट पर स्थित है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर का ऐतिहासिक महत्व है। यह  मंदिर उज्जैन में ओख्लेश्वर घाट के दूसरी तरफ स्थित है। इस मंदिर में आप घूमने के लिए आ सकते हैं और विक्रांत भैरव के दर्शन कर सकते हैं।

यहां पर आपको शिप्रा नदी के तट पर एक छोटा सा मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर है। मंदिर के अंदर विक्रांत भैरव के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के बाहर आपको ढेर सारे कुत्ते देखने के लिए मिलते हैं। आप उनके लिए भी खाना लेकर जा सकते हैं।

विक्रांत भैरव उज्जैन के अष्ट भैरव में से एक है। यह मंदिर उज्जैन की सीमा में स्थित है। आप यहां पर आ सकते हैं और विक्रांत भैरव जी के दर्शन कर सकते हैं। विक्रांत भैरव जी की प्रतिमा बहुत सुंदर है। यहां पर आपको प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर शिप्रा नदी का दृश्य भी बहुत सुंदर है।

 

मां बगलामुखी धाम उज्जैन – Maa Baglamukhi Dham Ujjain

मां बगलामुखी धाम उज्जैन का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन में काल भैरव मंदिर के समीप है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर में आपको मां बगलामुखी माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के मुख्य गर्भगृह में बगलामुखी माता के प्रतिमा विराजमान है।

यहां पर आकर अच्छा लगता है और शांति का अनुभव होता है। यहां पर आपको ढेर सारे संतों की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर शिवलिंग विराजमान है, जो बहुत सुंदर है। यह उज्जैन में घूमने लायक मुख्य स्थान में से एक है। आप अपनी उज्जैन यात्रा में इस जगह को भी शामिल कर सकते हैं।

 

श्री मत्स्येंद्र नाथजी का समाधि स्थल – Samadhi place of Shri Matsyendra Nathji

श्री मत्स्येंद्र नाथ जी का समाधि स्थल उज्जैन में घूमने का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह उज्जैन में शिप्रा नदी के तट के पास में स्थित है। यह उज्जैन की भरतरी गुफा से थोड़ी दूर उत्तर पश्चिम दिशा में स्थित है। यह नाथ पंथ के महान आचार्य मत्स्येंद्र नाथ जी का स्मारक है।

यह अति प्राचीन स्थान है। नाथ आचार्य को पीर खाने की परंपरा भी है। इसलिए इस नाम के आधार पर इस जगह को इस्लाम और हिंदू दोनों धर्म के द्वारा पूजा जाता है। आप अपने उज्जैन यात्रा में इस जगह को शामिल कर सकते हैं। यह जगह बहुत सुंदर है। यहां पर आपको समाधि स्थल देखने के लिए मिलता है।

 

वीर दुर्गादास जी की छतरी उज्जैन – Veer Durgadas Ji’s Chhatri Ujjain

वीर दुर्गादास राठौड़ जी की छतरी उज्जैन का एक प्रमुख दर्शनीय स्थान है। यह उज्जैन का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह उज्जैन में शिप्रा नदी के तट पर बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यहां पर आपको प्राचीन छतरी देखने के लिए मिलती है।

वीर दुर्गा दास जी जोधपुर के राजा जसवंत सिंह के वीर सेनापति थे। मालवा के इतिहास में उनका महत्वपूर्ण योगदान है। वीर दुर्गा दास जी के अंतिम काल में रहे तथा चक्रतीर्थ  के उत्तर में मरने के उपरांत उनका दाह संस्कार हुआ। इस योद्धा की स्मृति में जोधपुर के शासको ने इस छतरी का निर्माण 18वीं शताब्दी में करवाया था। यह छतरी राजपूत शैली में बनी हुई है। यह छतरी लाल बलुआ पत्थरों से बनी हुई है। यह छतरी बहुत सुंदर है और आप यहां पर आकर इस छतरी को देख सकते हैं।

 

रानी बाग गार्डन – Rani Bagh Garden

रानी बाग गार्डन उज्जैन का एक उज्जैन में घूमने का एक मुख्य स्थान है। यह उज्जैन का एक सुंदर पार्क है। यह पार्क उज्जैन में मेला ग्राउंड के पास में बना हुआ है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यह गार्डन बहुत अच्छी तरह से बनाया गया है। गार्डन में ढेर सारे पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यहां पर चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर बच्चों के लिए ढेर सारे झूले लगे हुए हैं। आप यहां पर घूमने लिए आ सकते हैं और अपना अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं।

 

गंभीर बांध उज्जैन – Gambhir Dam Ujjain

गंभीर बांध उज्जैन का एक उज्जैन के पास घूमने का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। गंभीर बांध उज्जैन से करीब 20 किलोमीटर दूर कन्थार्खेदी गांव के पास में बना हुआ है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यह बांध बहुत सुंदर है।

गंभीर बांध चारों तरफ से प्राकृतिक सुंदरता से घिरा हुआ है। यह बांध गंभीर नदी पर बना हुआ है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और इस बांध का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यह बांध उज्जैन के प्राकृतिक स्थान में से एक है। यहां पर आप बरसात के समय आएंगे, तो आपको बहुत अच्छा दृश्य देखने के लिए मिलेगा। बरसात में यह बांध पानी से पूरी तरह ओवरफ्लो होकर बहता है, जिसका दृश्य देखने लायक रहता है।  आप यहां पर आकर अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं।

 

बिल्वेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन – Bilveshwar Mahadev Temple Ujjain

बिल्वेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन के पास घूमने का एक प्रसिद्ध स्थान है। यह मंदिर उज्जैन से करीब 15 किलोमीटर दूर बना हुआ है। यह मंदिर गंभीर बांध के किनारे भराव क्षेत्र के पास में स्थित है। यह मंदिर अंबोदिया गांव में बना है। यह मंदिर उज्जैन के प्रसिद्ध 84 महादेव में से 83 वे महादेव हैं।

आप इस मंदिर में आकर घूम सकते हैं। यह मंदिर बहुत ही अच्छी तरह बना हुआ है। मंदिर के मुख्य गर्भगृह में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं, जो बहुत सुंदर हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर चारों तरफ का वातावरण बहुत सुंदर है। आप महाकाल वन के पंचकोशी यात्रा में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए आ सकते हैं।

 

उन्दासा लेक उज्जैन – Undasa Lake Ujjain

उन्दासा लेक उज्जैन में घूमने का एक प्राकृतिक आकर्षक स्थल है। उन्दासा झील उज्जैन से थोड़ी दूरी पर स्थित है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यह उज्जैन की पंचकोशी यात्रा का एक अच्छा पॉइंट है। आप यहां पर आकर सनसेट और सनराइज का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यह जगह बहुत ही आकर्षक है।

यहां पर आपको एक बहुत बड़ी झील देखने के लिए मिलती है। यह झील बहुत बड़े एरिया में फैली हुई है। यह बरसात के समय ज्यादा अच्छा लगता है। यहां पर आप अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं।

यह भी पढ़े :- ओरछा के प्रमुख 18 पर्यटन स्थल

वैश्य टेकरी उज्जैन – Vaishya Tekri Ujjain

वैश्य टेकरी उज्जैन में घूमने का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह उज्जैन मुख्य शहर के पास में स्थित एक अच्छी जगह है। आप यहां पर आसानी से जा सकते हैं। यहां पर आपको एक टेकरी देखने के लिए मिलती है, जहां पर उत्खनन के बाद स्तूप के अवशेष प्राप्त हुए हैं।

वैश्य टेकरी का नाम वर्ण व्यवस्था में तीसरे शब्द वैश्यों के नाम पर पड़ा है। यह एक विशाल वृताकार टीला है। जिसके आधार का व्यास लगभग 500 फीट और ऊंचाई लगभग 100 फिट है। मुख्य टीला के अतिरिक्त यहां पर दो और टीले है, जो पश्चिम और दक्षिण पश्चिम दिशा में स्थित है। जब इन टीलों का उद्घाटन किया गया, तो यहां पर स्तूप के अवशेष पाए गए हैं।

आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और इस जगह को देख सकते हैं। यह जगह बरसात में बहुत ही ज्यादा आकर्षक लगती है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर बौद्ध धर्म के बहुत सारे लोग घूमने लिए आते हैं।

यह भी पढ़े :- मंदसौर जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल

पिंग्लेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन – Pingleshwar Mahadev Temple Ujjain

पिंग्लेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर उज्जैन के पास घूमने का एक मुख्य स्थान है। यह मंदिर उज्जैन के पास पिंगलेश्वर गांव में बना हुआ है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। आप यहां पर रेल मार्ग और सड़क मार्ग के द्वारा आ सकते हैं। यह मंदिर मुख्य रेलवे स्टेशन से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है।

पिंगलेश्वर महादेव मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर मंदिर के मुख्य गर्भगृह में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस शिवलिंग के बारे में माना जाता है, कि यह शिवलिंग स्वयंभू है। यह पंचकोसी परिक्रमा का पहला पड़ाव है। यहां पर जाकर शांति मिलती है।

यह 84 महादेव शिवलिंग में से एक है। यह शिवलिंग बहुत सुंदर है। इस जगह के बारे में कहा जाता है कि यहां पर पिंगला नदी गुप्त रूप से बहती है। इसलिए इसे पिंगलेश्वर महादेव मंदिर कहते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर चारों तरफ का दृश्य बहुत सुंदर है। यह उज्जैन में देखने लायक जगह है।

यह भी पढ़े :- पचमढ़ी के 22 प्रमुख दर्शनीय स्थल

नवग्रह शनि मंदिर उज्जैन – Navgraha Shani Temple Ujjain

नवग्रह शनि मंदिर उज्जैन का प्रसिद्ध मंदिर है। यह उज्जैन में इंदौर उज्जैन हाईवे मार्ग पर स्थित है। यह मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है। यह इंदौर एवं उज्जैन के आसपास के क्षेत्र में घूमने का प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर में आप घूमने के लिए आ सकते हैं।

नवग्रह शानी मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है। यह मंदिर शिप्रा नदी के किनारे बना हुआ है। इस मंदिर में आपको नौ ग्रहों के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। नवग्रह हमारी राशि के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।

यहां पर आपको शानी भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शनि भगवान जी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा विराजमान है। यहां पर शनिवार के दिन बहुत सारे लोग आते हैं। आप यहां पर शिप्रा नदी का सुंदर दृश्य देख सकते हैं।

यह भी पढ़े :- नरसिंहगढ़ के प्रमुख आकर्षण दर्शनीय स्थल

उज्जैन में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Ujjain

उज्जैन में घूमने का सबसे अच्छा समय ठंड का रहता है। आप यहां पर ठंड में आ सकते हैं और उज्जैन की सारी जगह घूम सकते हैं। ठंड का मौसम बहुत ही बढ़िया रहता है। ठंड में घूमने में कोई भी दिक्कत नहीं रहती है। उज्जैन में आप महाशिवरात्रि और सावन सोमवार के समय भी आ सकते हैं। इस समय उज्जैन में बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। इस समय यहां पर भगवान शिव के मंदिर में बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। इस समय यहां पर बहुत विशाल मेले का आयोजन होता है।

यह भी पढ़े :- खजुराहो के प्रमुख दर्शनीय स्थल

उज्जैन में रहने की व्यवस्था – Places to stay in Ujjain

उज्जैन में रहने के लिए बहुत सारे होटल धर्मशाला एवं लॉज की सुविधा उपलब्ध है। उज्जैन में महाकालेश्वर मंदिर के आस-पास ढेर सारे धर्मशाला बनी हुई है, जहां पर आप ठहर सकते हैं। धर्मशाला में आपको सभी प्रकार की सुविधा मिल जाती है। यहां पर आप आराम से रुक सकते हैं। उज्जैन में आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। मंदिरों के पास में आश्रम बना हुआ है, जहां पर आप ठहर सकते हैं। उज्जैन में ठहरने के लिए आपका ₹500 से ₹1000 का शुल्क लगता है और आप यहां पर आराम से ठहर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- रीवा के प्रमुख पर्यटन स्थल

महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन दर्शन का समय – Mahakaleshwar Temple Ujjain Darshan Timings

महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन में दर्शन का समय सुबह 4 बजे से शाम को 9:00 बजे तक है। आप यहां पर सुबह के 4:00 से आ सकते हैं और महाकालेश्वर के दर्शन कर सकते हैं। सुबह के समय यहां पर भगवान शिव की भस्म आरती की जाती है। उसके बाद श्रृंगार किया जाता है। उसके बाद 6:00 यहां पर भगवान शिव की आरती होती है। आप यहां पर आरती में शामिल हो सकते हैं। आप यहां पर आरती के बाद भगवान शिव के दर्शन के लिए आ सकते हैं। आप यहां पर दिनभर दर्शन के लिए भगवान शिव के आ सकते हैं। शाम को मंदिर 9:00 बजे तक खुला रहता है।

यह भी पढ़े :- उज्जैन के प्रसिद्ध मंदिर

उज्जैन में क्या प्रसिद्ध है – What is famous in Ujjain

उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। महाकालेश्वर मंदिर में विराजमान शिवलिंग को कालों का काल कहा जाता है अर्थात इनके दर्शन करने से मौत का खतरा दूर हो जाता है। आप यहां पर आकर महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन कर सकते हैं। महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग पूरे भारत में प्रसिद्ध है। महाकालेश्वर उज्जैन में ढेर सारी मंदिर बने हुए हैं, जो प्राचीन है और जिनका ऐतिहासिक महत्व है। आप उन सभी मंदिरों के भी दर्शन कर सकते हैं।

उज्जैन में चमत्कारी मंदिर भी है, जिनका चमत्कार आपको जरुर देखना चाहिए। उज्जैन अपने मंदिरों के लिए पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है।

उज्जैन में हर 12 सालों में कुंभ मेले का आयोजन किया जाता है। इसलिए भी उज्जैन पूरे देश में प्रसिद्ध है। पूरे देश से श्रद्धालु उज्जैन में कुंभ मेले में भाग लेने के लिए आते हैं।

यह भी पढ़े :- बालाघाट जिले के पर्यटन स्थल

उज्जैन का पुराना नाम – old name of ujjain

उज्जैन का पुराना नाम बहुत सारे हैं। उज्जैन को प्राचीन समय में बहुत सारे नाम से जाना जाता था। उज्जैन को प्राचीन समय में अवंतिका, उज्जैनिय, विक्रमादित्य की नगरी और भी बहुत सारे नाम से जाना जाता था।

 

उज्जैन में धर्मशाला – Dharamshala in Ujjain

उज्जैन में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। चलिए जानते हैं उज्जैन के प्रसिद्ध धर्मशालाओं के नाम –

  • माधव सेवा न्यास महाकाल मंदिर
  • यादव धर्मशाला
  • चार धामपुर मंदिर आखंड आश्रम
  • सेठ मुरलीधर मानसिंगका यात्री निवास
  • पंडित श्री सूर्य नारायण व्यास धर्मशाला
  • गंगोत्री गेस्ट हाउस श्री दातार आश्रम
  • नया गुजराती लोहार समाज धर्मशाला

यह भी पढ़े :- कटनी जिले के पर्यटन स्थल

उज्जैन में टोटल कितने मंदिर हैं – How many temples are there in total in Ujjain?

उज्जैन में अनगिनत मंदिर है। उज्जैन के मंदिर गिनती में संख्या बताई नहीं जा सकती है।  उज्जैन की हर गली में आपको मंदिर देखने के लिए मिल जाता है।उज्जैन में 84 महादेव मंदिर है, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर उज्जैन के हर हिस्से में स्थित है और आप इन सभी मंदिरों के दर्शन कर सकते हैं। इन मंदिरों को लेकर विशेष कहानी प्रसिद्ध है। इसके अलावा उज्जैन में और भी बहुत सारे मंदिर है, जहां पर आप घूम सकते हैं।

यह भी पढ़े :- मुरैना जिले के पर्यटन स्थल

उज्जैन कब जाना चाहिए – When should one go to Ujjain

उज्जैन में वैसे आप साल भर में कभी भी घूमने के लिए जा सकते हैं। उज्जैन में लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए जाते हैं। मगर उज्जैन में आप महाशिवरात्रि और सावन के समय जा सकते है। इस समय उज्जैन में बहुत अधिक संख्या में लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं और इस समय भगवान शिव के दर्शन करके अच्छा लगता है। यह समय भगवान शिव के दर्शन करने के लिए शुभ रहता है। यहां पर मेले का आयोजन भी होता है।

यह भी पढ़े :- सीधी जिले के दर्शनीय स्थल

उज्जैन की प्रसिद्ध खाने की चीजें – Famous food items of Ujjain

उज्जैन अपने महाकाल मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।  उज्जैन में हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक आते हैं। यहां पर पर्यटक जाकर उज्जैन का खाना भी ट्राई करते हैं। उज्जैन का खाना भी बहुत जबरदस्त रहता है। चलिए जानते हैं कि – उज्जैन में कौन सा खाना प्रसिद्ध है

पोहा

पोहा उज्जैन का एक प्रसिद्ध भोजन है। पोहा नाश्ते के रूप में खाया जाता है। पोहा उज्जैन में आपको हर जगह मिल जाता है। पोहा में ढेर सारे आइटम में लाए जाते हैं, जिससे पोहा स्वादिष्ट लगते हैं। सुबह के समय पोहा और चाय का नाश्ता बहुत बढ़िया रहता है।

दाल बाफला

दाल बाफला उज्जैन का एक प्रसिद्ध व्यंजन है। दाल बाफला उज्जैन में आपको बहुत सारी जगह में खाने के लिए मिल जाता है। दाल बाफला में आटे के गोले बनाकर इसे उबालकर फिर सेक कर परोसा जाता है। दाल बाफला खाने में बहुत ही मस्त लगता है। आटे के गोले को बाफला कहा जाता है और इसमें दाल के साथ परोसी जाती है।

समोसा

समोसा मध्य प्रदेश का एक फेमस व्यंजन है। समोसा उज्जैन में बहुत प्रसिद्ध है। समोसा उज्जैन में आपको हर जगह मिल जाता है। समोसा मैदा और आलू के मिश्रण से बनाया जाता है। आलू के मिश्रण में ढेर सारे मसाले मिलाए जाते हैं और उसको मैदे के अंदर भर कर तला जाता है। समोसा बहुत ही स्वादिष्ट लगता है। समोसा को चटनी के साथ परोसा जाता है।

आलू बंडा

आलू बंडा उज्जैन में बहुत प्रसिद्ध है। आलू बंडा बेसन और आलू के मिश्रण के साथ बनाया जाता है। इसमें आलू के मिश्रण में ढेर सारे मसाले मिलाए जाते हैं और उन मसाले को बेसन में लपेटकर तला जाता है। आलू बंडा को चटनी के साथ परोसा जाता है। आलू मंडा बहुत ही टेस्टी लगता है।

यह भी पढ़े :- होशंगाबाद जिले के दर्शनीय स्थल

उज्जैन कैसे पहुंचे – How to reach Ujjain

उज्जैन मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध जिला है। उज्जैन में हर साल लाखों पर्यटक महाकालेश्वर मंदिर में घूमने के लिए आते हैं। उज्जैन अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। उज्जैन में आप आसानी से पहुंच सकते हैं। चलिए जानते हैं – उज्जैन कैसे पहुंचे

 

उज्जैन में वायु मार्ग से कैसे पहुंचे – How to reach Ujjain by air

उज्जैन में वायु मार्ग से पहुंचना आसान है। उज्जैन का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा इंदौर में बना हुआ है। इंदौर में देवी अहिल्याबाई होलकर हवाई अड्डा बना हुआ है। इंदौर उज्जैन से करीब 53 किमी दूर है। आप पहले इंदौर वायु मार्ग से आ सकते हैं और उसके बाद सड़क मार्ग से उज्जैन पहुंच सकते हैं।

 

उज्जैन में रेल मार्ग द्वारा कैसे पहुंचे – How to reach Ujjain by rail

उज्जैन में रेल मार्ग द्वारा आसानी से आ सकते हैं। उज्जैन मुख्य शहर में रेलवे स्टेशन बना हुआ है। यह रेलवे स्टेशन प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यहां पर कई बड़ों शहरों से आने के लिए ट्रेन की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर भोपाल, इंदौर, जबलपुर, मुंबई, दिल्ली जैसे शहरों से डायरेक्ट ट्रेन आती है। आप उज्जैन में ट्रेन से आराम से आ सकते हैं।

 

सड़क मार्ग से उज्जैन कैसे पहुंचे – How to reach Ujjain by road

उज्जैन में ढेर सारे राष्ट्रीय राजमार्ग गुजरते हैं। उज्जैन में राष्ट्रीय राजमार्ग तीन और राष्ट्रीय राजमार्ग 59 गुजरता है, जिसके द्वारा उज्जैन अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। उज्जैन शहर में बस की सुविधा उपलब्ध है। उज्जैन, अहमदाबाद, आगरा,  बैतूल झलवारा, इंदौर, दिल्ली जैसे शहरों से उज्जैन में आराम से पहुंचा जा सकता है। उज्जैन में पहुंचने के लिए बस की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर इन शहरों से डायरेक्ट बस सेवा उपलब्ध है। आप आराम से उज्जैन आ सकते हैं।

यह भी पढ़े :- सिवनी जिले के दर्शनीय स्थल

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे, तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment