ताप्ती नदी का उद्गम स्थल – Holy Tapti Nadi ka Udgam sthal, Betul

ताप्ती नदी (Tapti Nadi) भारत की प्रमुख नदी है। ताप्ती नदी का उद्गम (Tapti Nadi ka Udgam) भारत में बैतूल जिले में होता है। ताप्ती नदी बैतूल (Tapti Nadi Betul) जिले के मुलताई तहसील से निकलती है। ताप्ती नदी मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात राज्यों में बहती है। ताप्ती नदी सूरत में खंभात की खाड़ी में मिल जाती है।

Table of Contents

 

ताप्ती नदी की जानकारी – Information about Tapti River

ताप्ती नदी मध्य प्रदेश (Tapti River Madhya Pradesh) की प्रमुख नदी है। ताप्ती नदी को सूर्यपुत्री कहा जाता है। ताप्ती शनि भगवान जी की बहन है। ताप्ती नदी को तापी नदी भी कहते हैं। ताप्ती नदी मध्य प्रदेश (Tapti nadi madhya pradesh) के बैतूल जिले से निकलती है। ताप्ती नदी 1 कुंड से निकलती है।

इस कुंड के आस पास बहुत सारे प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर मां ताप्ती का भी मंदिर देखने के लिए मिलता है। ताप्ती नदी का पानी बहुत ही शुद्ध पवित्र है। ताप्ती नदी के दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं और मां ताप्ती के दर्शन कर कर पुण्य लाभ अर्जित करते हैं।

ताप्ती नदी मध्य प्रदेश (Tapti nadi madhya pradesh) के बैतूल जिले के मुलताई तहसील की सतपुड़ा पर्वतमाला से निकलती है। यहां पर बहुत बड़ा कुंड बना हुआ है। ताप्ती नदी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात राज्य में बहती है। ताप्ती नदी की कुल लंबाई 724 किलोमीटर है। ताप्ती नदी सूरत में खंभात की खाड़ी में मिल जाती है। ताप्ती नदी नर्मदा नदी के समान ही पूरब से पश्चिम की ओर बहती है।

ताप्ती नदी का उद्गम (Tapti nadi ka udgam) मुलताई तहसील से हुआ है। यहां पर कुंड बना हुआ है, जिसे ताप्ती कुंड (Tapti Kund) के नाम से जाना जाता है। इस कुंड के किनारे बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं। ताप्ती कुंड (Tapti Kund) के किनारे ताप्ती माता का मंदिर बना हुआ है।

यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर में माता की प्रतिमा बहुत सुंदर लगती है। यह मंदिर बरसात के समय पानी से डूब जाता है। यह मंदिर पूरा नहीं डूबता है,  थोड़ा ही डूबता है। मगर आपको पानी देखने के लिए मिलेगा।

यहां पर ताप्ती माता का एक प्राचीन मंदिर भी है, जो ताप्ती कुंड से थोड़ी दूरी पर स्थित है। यहां पर ताप्ती माता का यह प्राचीन मंदिर बहुत पुराना है और यहां पर छोटा सा कुंड मिलेगा, जिसके बारे में कहा जाता है, कि ताप्ती नदी की उत्पत्ति (Tapti nadi ki utpatti) इसी कुंड से हुई है।

ताप्ती कुंड (Tapti Kund) के किनारे शनि मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। शनि भगवान ताप्ती माता के भाई हैं। ताप्ती कुंड (Tapti Kund) के किनारे दसवा घाट (daswa ghat) भी देखने के लिए मिलता है। दसवा घाट (daswa ghat) ताप्ती नदी के किनारे बना हुआ एक सुंदर घाट है।

दसवा घाट (daswa ghat) में आकर बैठ सकते हैं। यहां पर बहुत अच्छा लगता है और ताप्ती कुंड (Tapti Kund) का बहुत सुंदर नजारा देखने के लिए मिलता है। इस घाट में मरे हुए लोगों के तर्पण और अन्य धार्मिक कार्यक्रम किए जाते हैं।

यहां पर मुंडन भी किया जाता है और बालों को ताप्ती कुंड (Tapti Kund) पर डाला जाता है। कहा जाता है, कि ताप्ती कुंड (Tapti Kund) में बाल और हड्डियां पूरी तरह से गल जाती हैं। मगर मुझे यह बात सही नहीं लगती, कि अपने बालों एवं हड्डियों को पवित्र ताप्ती कुंड में डाला जाए।

ताप्ती कुंड (Tapti Kund) के किनारे श्री संकट मोचन हनुमान जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर हनुमान घाट भी है। ताप्ती कुंड (Tapti Kund) के बीचो बीच एक टापू बना हुआ है, स्टापू में इस टापू में सुंदर मंदिर बना हुआ है। इस मंदिर में ताप्ती माता की सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है।

इस मंदिर में जाने के लिए ताप्ती कुंड में पुल बना हुआ है। यहां पर आपको बदक भी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर छोटा सा घाट बना हुआ है। यहां पर गार्डन भी बना हुआ है, जहां पर बैठने के लिए जगह है और यहां पर बच्चों के खेलने के लिए झूले एवं फिसल पट्टी है। यहां पर बच्चों का बहुत अच्छा समय बीत जाएगा। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और अच्छा समय व्यतीत होता है। ताप्ती कुंड के किनारे संत रविदास जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। मंदिर में रविदास जी की बहुत सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है।

ताप्ती उद्गम स्थल (tapti udgam sthal) बहुत सुंदर है और ताप्ती कुंड के पास में एक छोटा सा कुंड और है, जिसे छोटी ताप्ती कुंड के नाम से जाना जाता है। इस कुंड में पहले मूर्तियों का विसर्जन किया जाता था। मगर अब यहां पर मूर्तियों का विसर्जन नहीं किया जाता है।

यह कुंड बहुत सुंदर लगता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आया जा सकता है। यह मध्य प्रदेश पर्यटन स्थलों (Madhya Pradesh Tourist Places) में एक प्रमुख स्थल है। यह एक धार्मिक स्थल है।

यह भी पढ़े :- सोन नदी का उद्गम स्थल

ताप्ती नदी परियोजना एवं बांध – Tapti River Project and Dam

ताप्ती नदी में बहुत सारी बांध और परियोजनाएं बनी हुई है। तापी नदी (Tapi River) की मुख्य परियोजनाएं एवं बांध

  • चंदोडा बांध
  • पारसडोह बांध
  • हतनूर बांध
  • तापी डैम
  • उकाई बांध
  • काकरापार परियोजना
  • लोअर तापी बांध या पडलसरे बांध

यह भी पढ़े :- केवटी जलप्रपात रीवा

ताप्ती नदी की सहायक नदियां – Tapti nadi ki Sahayak Nadiyan

ताप्ती नदी की बहुत सारी सहायक नदियां हैं, जो ताप्ती नदी से मिलती हैं और ताप्ती नदी में विलीन हो जाती हैं। चलिए जानते हैं – ताप्ती नदी की सहायक नदियां कौन कौन सी है –

ताप्ती नदी के मुख्य सहायक नदियां – Tapti nadi ki mukhya Sahayak Nadiyan

  • गडगा नदी
  • उतावली नदी
  • सिप्ना नदी
  • मोहना नदी
  • पूर्णा नदी
  • धामनी नदी
  • वाघूर नदी
  • गुल  नदी
  • गिरना नदी
  • बोरी नदी
  • अनेर नदी
  • पंजारा नदी
  • अमरावती नदी।

यह भी पढ़े :- हसदेव नदी

ताप्ती नदी कौन-कौन से जिलों में बहती है – Tapti nadi kaun-kaun se Jile mein Bahti hai

ताप्ती नदी (Tapti River) या तापी नदी मध्यप्रदेश (Tapi River Madhya Pradesh) के बैतूल और बुरहानपुर जिले में बहती है। उसके बाद यह भुसावल, शिरपुर, सारंगखेड़ा में बहती है। यह जिले महाराष्ट्र के हैं। उसके बाद यह नदी गुजरात में सोनगढ़, मांडवी, कामरेज और सूरत जिले में बहती है।

यह भी पढ़े :- बगदरी जलप्रपात जबलपुर

FAQ

 

ताप्ती नदी कहां से निकलती है – Tapti Nadi kahan se nikalti hai

ताप्ती नदी मध्य प्रदेश के बैतूल जिले से निकलती है।

 

ताप्ती नदी कहां पर है – Tapti nadi kahan hai

ताप्ती नदी मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में है।

 

ताप्ती नदी किस राज्य में है – Tapti nadi kis rajya mein hai

ताप्ती नदी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात राज्य में है।

 

ताप्ती नदी किस दिशा में बहती है – Tapti Nadi kis disha mein bahti hai

ताप्ती नदी पश्चिम की ओर बहती है।

 

ताप्ती नदी का जन्मोत्सव या जन्म दिन कब मनाया जाता है – Tapti nadi ka janmotsav ya janamdin kab manaya jata hai

ताप्ती नदी का जन्म आषाढ़ शुक्ल सप्तमी को मनाया जाता है।

 

ताप्ती नदी की लंबाई कितनी है – Tapti Nadi ki lambai kitni hai

ताप्ती नदी की लंबाई 724 किलोमीटर है।

 

ताप्ती नदी किस समुद्र में गिरती है – Tapti nadi kis samundar mein girta hai

ताप्ती अरब सागर में खंभात की खाड़ी में गिरती है।

 

ताप्ती नदी का उद्गम स्थल किस जिले में है – Tapti nadi ka udgam sthal kis jile mein hai

ताप्ती नदी का उद्गम स्थल बैतूल जिले में है।

यह भी पढ़े :- पांडव गुफा पचमढ़ी

ताप्ती नदी का मध्य प्रदेश के किस जिले से उद्गम है – Tapti nadi ka madhya pradesh ke kis jile se udgam hai

ताप्ती नदी का मध्य प्रदेश के बैतूल जिले से उद्गम हुआ है।

 

यह लेख अगर आपको अच्छा लगा हो, तो आप इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment