सोनीपत जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल – Top 7 Sonipat me Ghumne ki Jagah

Sonipat me Ghumne ki Jagah :- सोनीपत हरियाणा का एक प्रमुख जिला है। इस लेख में हम आपको सोनीपत में घूमने की जगह (Sonipat me Ghumne ki Jagah), सोनीपत के प्रमुख धार्मिक स्थान, सोनीपत कैसे पहुंचे और सोनीपत के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानकारी देंगे।

Table of Contents

सोनीपत जिले के जानकारी – Information about Sonipat district

सोनीपत हरियाणा का एक प्रमुख जिला है। सोनीपत भारत की राजधानी दिल्ली से करीब 50 किलोमीटर दूर है। सोनीपत जिला दिल्ली, उत्तर प्रदेश राज्य की सीमा के साथ लगा हुआ है। यमुना नदी इस जिले की पूर्वी सीमा के साथ बहती है।

सोनीपत में बहुत सारी जगह है, जहां पर जाकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। यह सभी जगह बहुत खूबसूरत है। सोनीपत में घूमने के लिए ऐतिहासिक, धार्मिक और प्राकृतिक जगह हैं। आप इन सभी जगह में अपने फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए जा सकते हैं।

सोनीपत जिला में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है और इस ब्लॉग में हमने सोनीपत जिले में घूमने वाली प्रमुख जगह के बारे में बताया है। आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़े। ताकि आपको सोनीपत में घूमने लायक जगह के बारे में पता चल सके।

इस ब्लॉग में हमने सोनीपत में घूमने वाली प्रमुख जगह, सोनीपत कैसे जाएं, सोनीपत घूमने का सबसे अच्छा समय, सोनीपत किस लिए प्रसिद्ध है, इन सभी की जानकारी दी है।

 

सोनीपत में घूमने की जगह – Sonipat me Ghumne ki Jagah 

सोनीपत जिले के प्रमुख पर्यटन और दर्शनीय स्थलों की सूची – Sonipat Tourist Places list in Hindi

  1. बड़खालसा मेमोरियल सोनीपत
  2. जुरासिक पार्क सोनीपत
  3. बाबा धाम सोनीपत
  4. खिजार खान का मकबरा सोनीपत
  5. श्री चंडी मां महाकाली प्राचीन मंदिर सोनीपत
  6. स्वर्णप्रस्थ म्यूजियम सोनीपत
  7. मामा भांजा दरगाह सोनीपत

 

सोनीपत जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल – Sonipat me ghumne ki jagah

 

बड़खालसा मेमोरियल सोनीपत – Badkhalsa Memorial Sonipat

बड़खालसा मेमोरियल सोनीपत का एक प्रमुख स्थल है। यह सोनीपत में राई में स्थित है। यह एक ऐतिहासिक स्थल है। यह एक संग्रहालय है। यहां पर सिख लोगों की हिस्ट्री पता चलती है। यहां पर और एक बार जरूर घूमने के लिए आना चाहिए। यह मेन जीटी करनाल मुख्य हाईवे सड़क पर स्थित है। आप यहां पर आराम से अपने वाहन से या बस के द्वारा पहुंच सकते हैं।

गुरु तेग बहादुर जी की शहादत के बाद,  गुरु तेग बहादुर जी के शीश को लेकर भाई जैता जी ने अपने साथियों सहित बिना विश्राम किए भागते हुए दिल्ली से 20 मील दूर गढ़ी नामक गांव में पहुंच कर शरण लिया। इस गांव अब को बड़खालसा नाम से भी जाना जाता है। यहां के लोग धार्मिक और गुरु के प्रति श्रद्धा रखने वाले थे। भाई जैता ने सारी बात गांव वालों के बताई। गांव वालों ने उन्हें विश्वास दिलाया, कि गुरु जी का सम्मान सहित आनंदपुर ले जाया जाएगा। उसी वक्त गांव वालों को मुगल सेना ने घेर लिया।

गांव के श्री कुशाल सिंह ने कहा कि उनका सर धड़ से अलग करके मुगल सेना को सौंप दिया जाए। यह सुनकर स्तब्ध रह गए। लेकिन पिता की आज्ञा पर गुरु शीश का सम्मान करते हुए पुत्रों ने ऐसा ही किया।

इस तरह यह जगह ऐतिहासिक रूप से प्रसिद्ध हो गई। यहां पर भाई कुशाल सिंह दहिया जी की प्रतिमा बनी हुई है और जैता भाई जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आप पहुंचकर और भी बहुत सारी हिस्ट्री जान सकते हैं। यहां पर गुरुद्वारा भी बना हुआ है।

 

जुरासिक पार्क सोनीपत – Jurassic park Sonipat

जुरासिक वॉटर और एडवेंचर पार्क सोनीपत का एक प्रमुख स्थान है। यह पार्क सोनीपत में मुख्य जीटी हाईवे सड़क से कुछ दूरी पर ही स्थित है। यहां पर पार्किंग के लिए बहुत बड़ा एरिया है। यहां पर आप अपने स्वयं के वाहन से घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आकर आप बहुत सारी राइड्स का मजा ले सकते हैं। यहां पर वाटर पार्क बना हुआ है, जहां पर आप वाटर राइड को इंजॉय किया जाता है।

इस पार्क में बहुत सारे डायनासोर के स्टेचू देखने के लिए मिलते हैं। यह पार्क डायनासोर थीम पर बना हुआ है। यहां पर स्नोवर्ल्ड है, जहां पर बर्फ में आप इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर जानवरों के स्टेचू बनाए गए हैं। सुपर हीरो के स्टेचू देखने के लिए मिलते हैं।

यहां पर बच्चों के लिए बहुत सारी राइड है, जिनमें बच्चे लोग इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर बड़ों के लिए बहुत सारी राइडस उपलब्ध है। इस जगह में एंट्री का शुल्क लिया जाता है। यहां पर एक कैफिटेरिया बना हुआ है, जहां पर खाने पीने का बहुत सारा सामान मिलता है।

 

बाबा धाम सोनीपत – Baba Dham Sonipat

बाबा धाम सोनीपत का एक प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर में बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर श्री हनुमान जी, मां दुर्गा जी, शिव शंकर जी, श्री विष्णु जी की बहुत बड़ी-बड़ी मूर्तियां देख सकते हैं। इनकी मूर्तियां बहुत विशाल है और बहुत सुंदर लगती हैं। यह मूर्तियां दूर से ही देखने के लिए मिल जाती हैं।

इसके अलावा मंदिर में श्री राधे कृष्ण जी, मां दुर्गा जी, विष्णु भगवान जी, शनि देव जी, जगन्नाथ जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शाम के समय बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। मंदिर परिसर बहुत अच्छा है और इसे अच्छी तरह से बना कर रखा गया है। यहां पर एक छोटी सी गुफा भी है, जिसमें वैष्णो माता जी विराजमान है।

 

खिजार खान का मकबरा सोनीपत – Tomb of Khizar Khan Sonipat

खिजार खान का मकबरा सोनीपत का एक प्रमुख आकर्षण स्थल है। यह मक़बरा सोनीपत बस स्टॉप से २ किलोमीटर दूर है। यह मकबरा प्राचीन है और देखने में बहुत सुंदर लगता है। इस मकबरे में मुगल वास्तुकला देखी जा सकती है। यह मकबरा एक बहुत बड़े चबूतरे के ऊपर बना हुआ है।

यह मकबरा खिजार खान का है, जो गुलबदन बेगम के पति थे। गुलबदन बेगम हुमायूं की बहन थी और उन्होंने हुमायूंनामा लिखा था। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर मकबरे के चारों तरफ पार्क बना हुआ है। यह मकबरा जटवाड़ा गांव में बना हुआ है। यह मकबरा एक ऊंचे टीले पर बना हुआ है।

टीले के ऊपर चबूतरा है। मकबरे में जाने के लिए पहले प्रवेश द्वार बनाया गया है, जो बहुत सुंदर लगता है। प्रवेश द्वार के ऊपर छतरी देखी जा सकती है। मकबरे के अंदर कब्र देखने के लिए मिलती है। मकबरे के ऊपर एक बड़ा सा गुंबद बना हुआ है, जो बहुत सुंदर और विशाल है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा।

 

श्री चंडी मां महाकाली प्राचीन मंदिर सोनीपत – Shri Chandi Maa Mahakali Ancient Temple Sonipat

श्री चंडी मां महाकाली प्राचीन मंदिर सोनीपत का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर 5000 वर्ष पुराना है। इस मंदिर का इतिहास बहुत ही रोचक है। कहा जाता है, कि जब पांडव महाभारत युद्ध के लिए इस रास्ते से कुरुक्षेत्र गए थे।

तब पांडवों ने चौराहे के पास वाले कुएं के जल में स्नान कर मां चंडी की पूजा अर्चना कर मां से आशीर्वाद प्राप्त किया था। जिसके बाद इस कुए को पांडव वाला कुआं कहा जाता है। यह कुआं अब बंद हो चुका है। उस समय इस देवी को ग्राम देवी भी कहा जाता था। कुछ व्यक्ति इसे कुलदेवी भी मानते थे। यहां पर आप मंदिर आ सकते हैं।

इस मंदिर में आपको काली मैया के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। माता की प्रतिमा बहुत ही भव्य है। यहां नवरात्रि में बहुत सारे भक्त आकर मां के दर्शन करते हैं। यह मंदिर मुख्य रोड पर बना हुआ है।

 

स्वर्णप्रस्थ म्यूजियम सोनीपत – Swarnaprastha Museum Sonipat

स्वर्णप्रस्थ म्यूजियम सोनीपत में बीच शहर में बना हुआ है। यह म्यूजियम बहुत अच्छी तरह से बना हुआ है। इस म्यूजियम में आपको महाभारत काल से संबंधित बहुत सारी जानकारी मिलेगी। यह आकर आप बहुत सारी जानकारी हासिल कर सकते हैं। यह सोनीपत का एक मुख्य टूरिस्ट प्लेस है।

यह भी पढ़े :- झज्जर में घूमने की जगह

मामा भांजा दरगाह सोनीपत – Mama Bhanja Dargah Sonipat

मामा भांजा दरगाह सोनीपत का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह हिंदू और मुस्लिम एकता का प्रतीक माना जाता है। यहां पर हिंदू और मुस्लिम दोनों ही पूजा और आराधना करने के लिए आते हैं। यह  मस्जिद प्राचीन है। यह मस्जिद पुरानी डीसी रोड पर स्थित है। यहां पर पहले एक मंदिर हुआ करता था, जहां बाद में इस मजार का निर्माण किया गया। यहां पर आकर बहुत सारे लोग प्रार्थना करते हैं और उनकी इच्छाएं पूरी होती है।

यह भी पढ़े :- गुरुग्राम (गुड़गांव) में घूमने की जगह

सोनीपत में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Sonipat

सोनीपत में घूमने का सबसे अच्छा समय ठंड का रहता है। आप यहां पर अक्टूबर से मार्च महीने के बीच में आकर घूम सकते हैं। यहां पर उस समय ठंडा मौसम रहता है। यहां पर आप गर्मी में नहीं घूम सकते, क्योंकि यहां पर बहुत ज्यादा धूप रहती है और तपन रहती है।

यह भी पढ़े :- पंचकूला के प्रमुख पर्यटन स्थल

सोनीपत कैसे पहुंचे – How to reach Sonipat

सोनीपत हरियाणा का एक प्रमुख जिला है। सोनीपत अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। सोनीपत में आप आसानी से आ सकते हैं। सोनीपत पहुंचने के लिए हवाई मार्ग, रेल मार्ग और वायु मार्ग उपलब्ध है। आप तीनों ही माध्यम से सोनीपत आ सकते हैं।

 

वायु मार्ग से सोनीपत कैसे पहुंचे – How to reach Sonipat by air

वायु मार्ग से सोनीपत पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी हवाई अड्डा इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है, जो दिल्ली में स्थित है और सोनीपत से करीब 67 किलोमीटर दूर है। यहां पर देश के विभिन्न हिस्सों से फ्लाइट आती है। यहां पर देश के बाहर विदेश से भी फ्लाइट आती है। आप दिल्ली में हवाई मार्ग से पहुंचकर, सोनीपत सड़क मार्ग से जा सकते हैं।

 

रेल मार्ग से सोनीपत कैसे पहुंचे – How to reach Sonipat by rail

सोनीपत रेल मार्ग से पहुंचा जा सकता है। सोनीपत मुख्य शहर में रेलवे स्टेशन बना हुआ है। सोनीपत रेलवे नेटवर्क देश के विभिन्न हिस्सों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। यहां पर एक्सप्रेस, शताब्दी ट्रेन और लोकल ट्रेन आती है।

 

सड़क मार्ग से सोनीपत कैसे पहुंचे – How to reach Sonipat by road

सोनीपत में सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है। सोनीपत में नेशनल हाईवे 44, नेशनल हाईवे 34बी गुजरते हैं। सोनीपत सड़क मार्ग  द्वारा विभिन्न शहरों से अच्छी तरह कनेक्टेड है। आप यहां पर बस के द्वारा आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां पर आप सरकारी बस या वोल्वो बस के द्वारा आ सकते हैं। आप यहां पर अपने स्वयं के वाहन से भी घूमने के लिए आ सकते हैं।

यह भी पढ़े :- फतेहाबाद में घूमने की जगह

सोनीपत में कहां ठहरे – Where to stay in Sonipat

सोनीपत में ठहरने के लिए, आपको बहुत सारे होटल और रेस्टोरेंट मिल जाते हैं। यहां पर लग्जरी रिजॉर्ट मिल जाते है। सोनीपत दिल्ली से बहुत करीब है। आप यहां पर अपने बजट के अनुसार रूक सकते हैं। यहां पर आप होटल की बुकिंग ऑनलाइन कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- कुरुक्षेत्र के प्रमुख दर्शनीय स्थल

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे, तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment