सिद्धनाथ दरी जलप्रपात मिर्जापुर – Famous Sidhnath Dari Waterfall Mirzapur

सिद्धनाथ दरी जलप्रपात (Sidhnath Dari Waterfall) मिर्जापुर का एक प्रसिद्ध जलप्रपात है। सिद्धनाथ दरी जलप्रपात मिर्जापुर (Sidhnath Dari waterfall Mirzapur) में चुनार के पास स्थित है। यह जलप्रपात पहाड़ियों के ऊपर से बहता है और बहुत सुंदर लगता है। इस जलप्रपात के आसपास घूमने के लिए ढेर सारी जगह है। यहां पर आपको सिद्ध नाथ बाबा का मंदिर देखने के लिए मिलता है। अगर आप मिर्जापुर आते हैं, तो आपको इस जलप्रपात में जरूर घूमने के लिए आना चाहिए।

सिद्धनाथ दरी झरना चुनार मिर्जापुर की जानकारी – Information about Sidhnath Dari Waterfall Chunar Mirzapur

सिद्धनाथ दरी झरना (Sidhnath Dari Waterfall) उत्तर प्रदेश का एक प्रसिद्ध झरना है। सिद्धनाथ दरी झरना (Sidhnath Dari Waterfall) एक प्राकृतिक सुंदरता से घिरा है। यहां पर चारों तरफ आपको प्राकृतिक सौंदर्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको बड़ी-बड़ी चट्टानें, पेड़ पौधे, धार्मिक स्थल और मंदिर देखने के लिए मिलता है।

सिद्धनाथ दरी झरना (Sidhnath Dari Waterfall) उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में स्थित है। यह मिर्जापुर के चुनार के पास में स्थित है। चुनार से यह जलप्रपात करीब 20 किलोमीटर दूर है। यहां पर आने के लिए अच्छी सड़क मार्ग बनी हुई है। यह जलप्रपात वाराणसी से करीब 50 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं।

यहां पर आपको चारों तरफ हरियाली और जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको चट्टानें देखने के लिए मिलती हैं। इस जलप्रपात में आप बाइक और कार से आ सकते हैं। जलप्रपात के पास पार्किंग की व्यवस्था है। आप यहां पर गाड़ी पर कार से आ सकते हैं। पार्किंग का यहां पर चार्ज लिया जाता है।

सिद्धनाथ दरी झरना चुनार (Sidhnath Dari Waterfall Chunar) नगर के पास स्थित एक मनमोहक झरना है। यह झरना जंगल के बीच में स्थित है। झरने में पहाड़ों के ऊपर से बहता हुआ पानी बहुत ही खूबसूरत लगता है। यहां पर झरना सीढ़ी नुमा पहाड़ियों पर बहता है, जो देखने में बहुत ही खूबसूरत लगता है और इस झरने का दृश्य बहुत ही मनमोहक होता है।

झरना बरसात के समय में बहुत तेज गति से बहता है। आप यहां पर आते हैं, तो बरसात के समय इस दृश्य का आनंद उठा सकते हैं। यह पानी नीचे कुंड में गिरता है। आपको यहां आकर बहुत अच्छा लगेगा। बरसात के समय चारों तरफ का जो एरिया है, वह हरियाली से भर जाता है।

सिद्धनाथ दरी झरने (Sidhnath Dari Waterfall) में बरसात के समय पानी रहता है और आप यहां पर बरसात के समय आ सकते हैं। आप यहां पर सर्दी के समय भी घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर गर्मी के समय पानी नहीं रहता है। गर्मी के समय पानी सूख जाता है, तो गर्मी में यहां आने का कोई फायदा नहीं है। यहां पर आपको बहुत सारे बंदर भी देखने के लिए मिलते हैं। इसलिए आप बंदरों से संभल कर रह, नहीं तो वह आपका सामान लूटकर ले जा सकते हैं।

सिद्धनाथ दरी जलप्रपात (Sidhnath Dari Waterfall) में आप बरसात के समय अगस्त और सितंबर के महीने में  आकर पिकनिक मना सकते हैं। यह जगह फैमिली वालों के लिए और दोस्तों के साथ आने के लिए बहुत ही बढ़िया हैं। आप यहां पर नहाने का मजा भी ले सकते हैं। यहां पर फोटोग्राफ भी बहुत मस्त आती है।

सिद्धनाथ दरी झरने (Sidhnath Dari Waterfall) का नाम सिद्धनाथ बाबा के नाम पर रखा गया है। सिद्धनाथ बाबा ने यहां पर तपस्या की थी। इसलिए झरने को सिद्धनाथ दरी झरने के नाम से जाना जाता है। यहां पर आपको एक गहरा कुंड देखने के लिए मिलता है, जिसे दरी के नाम से जाना जाता है। इस पूरी जगह को सिद्धनाथ दरी कहा जाता है। यहां पर सिद्ध नाथ बाबा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर भगवान शिव का मंदिर बना हुआ है, जिसे  सिद्धेश्वर महादेव के नाम से जाना जाता है।

सिद्धनाथ दरी जलप्रपात (Sidhnath Dari Waterfall) के पास आपको ढेर सारा एरिया मिलता है, जहां पर आप घूम सकते हैं। यह जलप्रपात बड़ी-बड़ी चट्टानों के बीच से बहता है और बहुत सुंदर लगता है। जलप्रपात के आस-पास आपको ढेर सारी दुकान देखने के लिए मिलती है, जहां पर खाने पीने का सामान मिलता है।

यहां पर बहुत सारे लोग आते हैं और पिकनिक मनाते हैं। यहां पर बहुत सारे लोग खाने-पानी का सामान लाते हैं और जलप्रपात के किनारे ही खाना बनाकर खाते है। यहां पर आपको सिद्धनाथ बाबा का मंदिर देखने के लिए मिल जाता है। सिद्ध नाथ बाबा के मंदिर जाने के लिए आपको झरने के आगे जाना पड़ता है। आप झरने के आगे घाटी में जाते है, तो आपके यहां पर सिद्धनाथ बाबा का मंदिर देखने के लिए मिलता है।

यहां पर आप आराम से जा सकते हैं और सिद्ध नाथ बाबा के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर सिद्धनाथ बाबा के चरण चिन्ह है, जिनके दर्शन किए जा सकते हैं। यहां पर और भी बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर वन देवी, हनुमान जी, शिव शंकर जी, गणेश जी के दर्शन किए जा सकते हैं।

सिद्धनाथ दरी में घाटी के और नीचे जाने पर आपको पहाड़ों से पानी गिरता हुआ देखने के लिए मिलता है। यहां पर बहुत सारे लोग स्नान भी करते हैं। नहाने में यहां पर बहुत मजा आता है। कुछ लोग घाटी में नीचे जाते हैं। यहां पर पुलिस भी लगी रहती है, जो लोगों को सावधान करती रहती है। यहां पर भारी बारिश के समय जलप्रपात में पानी की बहुत अधिक मात्रा देखने के लिए मिलती है। ठंड में पानी यहां पर बहुत कम मात्रा में रहता है। यहां पर ढेर सारे बंदर है। इसलिए आपको बंदर से संभाल कर रहना चाहिए।

सिद्धनाथ दरी के आसपास घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। यहां पर अगर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। सिद्धनाथ झरने के पहले आपको एक और सुंदर स्थल देखने के लिए मिलता है। यह धार्मिक स्थान है।

सिद्धनाथ दरी झरने (Sidhnath Dari Waterfall) के आसपास आपको बहुत सारे धार्मिक स्थल भी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको परमहंस आश्रम देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर स्वामी जी के दर्शन कर सकते हैं और यहां पर हर दिन भंडारा होता है, जिसे आप ग्रहण कर सकते हैं। यहां पर आपको और भी अद्भुत चीजें देखने के लिए मिलती है। आपको यहां पर आकर आध्यात्मिक शांति मिलेगी और अच्छा लगेगा।

यहां पर बहुत सारे लोग झरने को देखने के अलावा मंदिर में शांतिपूर्ण माहौल में अपना समय बिताने के लिए भी आते हैं। झरने में अगर आप नहाते हैं या आप झरने के अंदर जाते हैं, तो आप यहां पर संभल कर जाइएगा, क्योंकि झरने में बहुत फिसलन रहती है और आप फिसल कर गिर सकते हैं, तो आप अपना ध्यान रखें।

यह भी पढ़े :- धुआंधार जलप्रपात

सिद्धनाथ दरी जलप्रपात में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Siddhanath Dari Waterfall

सिद्धनाथ दरी झरने (Sidhnath Dari Waterfall) में घूमने का सबसे अच्छा समय बरसात का रहता है। आप यहां पर बरसात के समय आ सकते हैं और झरने का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। बरसात के समय झरने में पानी की बहुत अधिक मात्रा रहती है और झरना देखने में बहुत आकर्षक लगता है।

आप इस झरने में ठंड के समय भी आ सकते हैं। ठंड में भी यह जगह बहुत सुंदर रहती है। आप यहां गर्मी के समय ना आए, क्योंकि गर्मी में यहां पर झरने में पानी नहीं रहता है।

 

सिद्धनाथ दरी जलप्रपात में घूमने का समय – Time to visit Siddhanath Dari Waterfall

सिद्धनाथ दरी जलप्रपात (Sidhnath Dari Waterfall) में घूमने का समय सुबह 6 बजे से है। आप यहां सुबह 6 बजे से आ सकते हैं और शाम के 6:00 तक रुक सकते हैं। शाम को 6:00 के बाद यहां पर रुकने की मनाही है।

यह भी पढ़े :- दूध धारा जलप्रपात अमरकंटक

सिद्धनाथ दरी झरना कहां है – Where is Siddhnath Dari waterfall

सिद्धनाथ दरी झरना मिर्जापुर के चुनार नगर से करीब 21 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और आप इस झरने पर अपनी गाड़ी से आराम से पहुंच सकते हैं। झरने तक पहुंचने के लिए अच्छी सड़क हैं। आप यहां पर वाराणसी शहर से भी आ सकते हैं। वाराणसी शहर से यह झरना करीब 50 किलोमीटर दूर होगा। अगर आप मिर्जापुर से आते हैं, तो यह झरना 45 किलोमीटर दूर होगा। यह झरना सोनभद्र जिले से भी बहुत करीब है। आप सोनभद्र जिले से भी आना चाहो तो यहां पर आ सकते हो।

यह भी पढ़े :- निदान जलप्रपात दमोह मध्य प्रदेश

सिद्धनाथ दरी जलप्रपात में जाने से पहले कुछ सावधानियां – Some precautions before going to Siddhanath Dari Waterfall

सिद्धनाथ दरी झरने में घूमने से पहले कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। सिद्धनाथ दरी झरना बहुत खूबसूरत है और यहां पर आपको कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए।

  • सिद्धनाथ दरी झरने के आस-पास आपको कचरा नहीं फैलाना चाहिए। आप खाने-पीने का, जो भी सामान लाते हैं। उसमें जो भी कचरा होता है। उसे आप डस्टबिन में डाल सकते हैं या अपने बैग में रख सकते हैं।
  • सिद्धनाथ दरी के आसपास ढेर सारे बंदर हैं। इसलिए आपको खाने-पीने का ख्याल रखना चाहिए, नहीं तो खाना बंदर लेकर जा सकता है।
  • सिद्धनाथ दरी झरने में चट्टानों के ज्यादा करीब नहीं जाना चाहिए, क्योंकि यह पहाड़ी इलाका है और यहां पर पानी कभी भी बढ़ सकता है और बाढ़ आ सकती है, जिससे आप बाढ़ में बह सकते हैं। वैसे यहां पर सरकार की तरफ से बहुत सारी सुविधाएं की गई है। यहां पर झरने में जाल लगा दिया गया है, कि अगर कोई यहां पर बह तो वह जाल में अटक जाए। मगर आपको अपना ध्यान जरूर रखना है।
  • यहां पर चट्टानों में आपको ज्यादा नहीं जाना चाहिए, क्योंकि चट्टानों में फिसलन रहती है और आप फिसल सकते हैं।
  • यहां पर पुलिस वाले आपको घाटी में जाने से मना करते हैं। आप घाटी में ना जाएं, क्योंकि यहां पर आपको खतरा हो सकता है।
  • आप यहां पर किसी भी वन्य प्राणी को नुकसान ना पहुंचाएं।
  • आप यहां पर जाते हैं, तो आप यहां पर जूते पहन के जाएं। ताकि यहां पर चलने में  आपको दिक्कत ना हो, क्योंकि यहां पर चट्टानें हैं, जिसमें आपको चलने में दिक्कत हो सकती है।

यह भी पढ़े :- घुघरा झरना जबलपुर मध्य प्रदेश

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे, तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment