संत कबीर नगर के प्रमुख दर्शनीय स्थल – Top 6 Sant Kabir Nagar me Ghumne ki Jagah

Sant Kabir Nagar me Ghumne ki Jagah :- संत कबीर नगर उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। इस लेख में हम आपको संत कबीर नगर में घूमने की जगह (Sant Kabir Nagar me Ghumne ki Jagah), संत कबीर नगर कैसे पहुंचे, संत कबीर नगर के प्रमुख धार्मिक स्थलों एवं मंदिरों के बारे में जानकारी देंगे।

Table of Contents

संत कबीर नगर जिले के बारे में जानकरी – Information about Sant Kabir Nagar district

संत कबीर नगर उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। संत कबीर नगर की प्रमुख नदियों में घागरा और आमी है। संत कबीर नगर का नाम, प्रसिद्ध कवि संत कबीर दास जी के नाम पर रखा गया है। यहां पर कबीर दास जी का जन्म हुआ था।

इस जिले का नाम संत कबीर दास जी के नाम पर रखा गया है। यहां कबीरदास जी का तप स्थान देखने के लिए मिलता है। संत कबीर नगर की स्थापना 1997 में किया गया था। यह जिला बस्ती जिले से अलग करके, एक नया जिला बनाया गया था। संत कबीर नगर घूमने के लिए बहुत सारी जगह है।

इस ब्लॉग में हमने संत कबीर नगर में घूमने वाली प्रमुख जगह (Sant Kabir Nagar me Ghumne ki Jagah), संत कबीर नगर कैसे जाएं, संत कबीर नगर कहां पर है, संत कबीर नगर में कहां रुके, संत कबीर नगर में  घूमने का सबसे अच्छा समय के बारे में जानकारी दी है। आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़े, ताकि आपको पूरी जानकारी मिल सके।

 

संत कबीर नगर में घूमने की जगह – Sant Kabir Nagar me Ghumne ki Jagah

संत कबीर नगर के प्रमुख दर्शनीय और पर्यटन स्थलों की सूची – Sant Kabir Nagar tourist Places list in Hindi

  1. सद्गुरु संत कबीर समाधि स्थल संत कबीर नगर
  2. बखिरा पक्षी विहार संत कबीर नगर
  3. समय माता मंदिर
  4. बाबा तामेश्वर नाथ धाम
  5. कुबेर नाथ मंदिर संत कबीर नगर
  6. श्री झारखंडेश्वर नाथ महादेव मंदिर संत कबीर नगर

 

संत कबीर नगर के प्रमुख पर्यटन स्थल – Sant Kabir Nagar me Ghumne ki Jagah

 

सदगुरु संत कबीर समाधि स्थल संत कबीर नगर – Sadguru Sant Kabir Samadhi Sthal Sant Kabir Nagar

सतगुरु संत कबीर समाधि स्थल संत कबीर नगर का एक प्रमुख आकर्षण स्थल है। यह स्थल संत कबीर नगर में मगहरा में स्थित है। यह स्थल बहुत प्रसिद्ध है और यहां पर पूरे देश से श्रद्धालु आकर संत कबीर दास जी की समाधि में माथा टेकते हैं। यहां पर आपको समाधि एवं मजार दोनों ही देखने के लिए मिलते हैं, क्योंकि यहां पर हिंदू और मुस्लिम दोनों ही संत कबीर दास जी को नमन करते है।

संत कबीर दास एक महान संत थे। इनके दोहे सभी लोगों ने पढ़े हैं। इनकी दोहे हमें प्राइमरी स्कूल में पढ़ाई गए हैं। इनके दोहे से हमे बहुत बड़ी जीवन की सीख मिलती है। यहां पर संत कबीर दास जी की मृत्यु हुई थी। इस जगह को बहुत अच्छी तरह से डिवेलप किया गया है। यहां पर संत कबीर दास जी का मंदिर बना हुआ है। गार्डन बना हुआ है और व्याख्या केंद्र बना हुआ है। यहां पर आकर अच्छा लगता है।

यहां पर पास में ही आमी नदी बहती है, जिस पर घाट बना हुआ है। यहां पर नाव में सवारी की भी सुविधा उपलब्ध है। यह जगह बहुत बड़े एरिया में फैली हुई है। सदगुरु कबीर समाधि को मगहरा धाम के नाम से जाना जाता है। यहां पर संत कबीर दास जी की साधना गुफा बनी है। यहां पर 14 जनवरी के समय बहुत बड़ा मेला आयोजित होता है, जिसमें दूर दूर से लोग घूमने के लिए आते हैं।

 

बखीरा पक्षी विहार संत कबीर नगर – Bakhira Bird Sanctuary Sant Kabir Nagar

बखीरा पक्षी विहार संत कबीर नगर का एक प्रमुख आकर्षण स्थल है। यहां पर आपको स्थानीय और विदेशी पक्षी की प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। यहां पर आप आकर स्थानीय और विदेशी पक्षियों की प्रजातियों को देख सकते हैं। यहां पर एक बहुत बड़ी झील है।

यह झील बहुत बड़े एरिया में फैली हुई है। इस झील को बखीरा या मोतीझील के नाम से जाना जाता है। इस पक्षी विहार की स्थापना 1980 में की गई थी। इस झील में बोटिंग की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर आप आकर नौकायान का मजा ले सकते हैं। साथ में पक्षियों को देख सकते हैं।

यहां पर ठंड में बहुत सारे विदेशी पक्षी आते हैं, जो बहुत सुंदर लगते हैं। यहां पर आप अपनी फैमिली के साथ आ सकते हैं। यहां पर प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। इस झील को उत्तर प्रदेश का मिनी डल झील के रूप में जाना जाता है। यह एक बहुत अच्छी जगह है।

यहां पर आकर शांति मिलती है। यहां पर छोटे-छोटे वॉच टावर बने हुए हैं, जहां पर आप जाकर दूर दूर तक का दृश्य देख सकते हैं। यह झील 29 किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई है। यह गोरखपुर शहर से 44 किलोमीटर दूर है।

 

समय माता मंदिर – Samay Mata Temple

समय माता मंदिर संत कबीर नगर का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर संत कबीर नगर जिले में खलीलाबाद में स्थित है। इस मंदिर में पहुंचने के लिए सड़क मार्ग उपलब्ध है। यह प्राचीन मंदिर है। यहां पर गर्भ गृह में माता पिंडी रूप में विराजमान है। यहां पर मां समय माता की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ लगती है।

 

बाबा तामेश्वर नाथ धाम – Baba Tameshwar Nath Dham

बाबा तामेश्वर नाथ धाम संत कबीर नगर का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थान है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर प्राचीन है। यहां पर शिव जी के शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर की स्थापना पांडवों के द्वारा की गई थी। इस मंदिर में, जो शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। उसकी स्थापना कुंती माता के द्वारा की गई थी।

इस मंदिर के पास में एक तालाब बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है। बाबा तामेश्वर नाथ मंदिर खलीलाबाद से 10 किलोमीटर दूर है। यहां पर आप आकर भगवान शिव के दर्शन कर सकते हैं। मंदिर में महाशिवरात्रि और सावन सोमवार में बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। यहां पर सावन सोमवार में कावड़ यात्रा निकाली जाती है, जिसमें कावड़ यात्री सरजू नदी, जिसे घाघरा नदी भी कहते हैं, से जलाकर भगवान शिव को अर्पित करते हैं।

 

कुबेर नाथ मंदिर संत कबीर नगर – Kuber Nath Temple Sant Kabir Nagar

कुबेर नाथ मंदिर संत कबीर नगर का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है। यह मंदिर कबीर संत कबीर नगर मेहदावल तहसील में स्थित है। यहां पर शिव भगवान जी का मंदिर बना हुआ है। यहां पर शिवलिंग विराजमान है। इस मंदिर में और भी बहुत सारे देवी देवता विराजमान है। यहां पर राधा कृष्ण जी, श्री राम जी, श्री हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर एक तालाब बना हुआ है, जो बहुत बड़ा और बहुत सुंदर है। तालाब में विभिन्न प्रकार की मछलियां देखने के लिए मिलती हैं। आप इन मछलियों को खाना भी खिला सकते हैं।

 

श्री झारखंडेश्वर नाथ महादेव मंदिर संत कबीर नगर – Shri Jharkhandeshwar Nath Mahadev Temple Sant Kabir Nagar

श्री झारखंडेश्वर नाथ महादेव मंदिर संत कबीर नगर का प्रसिद्ध मंदिर है। यहां भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर कुदरहा ब्लॉक के गायघाट स्थित है। इस मंदिर में पहुंचने के लिए राम जानकी मार्ग उपलब्ध है। यहां पर शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह शिवलिंग पेड़ के बीच में विराजमान है, जो बहुत ही अनोखा है। यहां पर खुले वातावरण में शिवलिंग विराजमान है। यहां महाशिवरात्रि और सावन सोमवार के समय बहुत सारे लोग शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए आते हैं।

यह भी पढ़े :- मैनपुरी के प्रमुख दर्शनीय स्थल

संत कबीर नगर कैसे जाएं – How to reach Sant Kabir Nagar

संत कबीर नगर उत्तर प्रदेश का प्रमुख शहर है। संत कबीर नगर अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। संत कबीर नगर जाने के लिए बहुत सारे माध्यम उपलब्ध है। यहां पर सड़क माध्यम, रेल माध्यम और वायु मार्ग से पहुंचा जा सकता है। इन तीनों माध्यम से संत कबीर नगर पहुंचा जा सकता है।

 

वायु मार्ग से संत कबीर नगर कैसे पहुंचे – How to reach Sant Kabir Nagar by air

संत कबीर नगर में आने के लिए वायु मार्ग उपलब्ध है। संत कबीर नगर का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा गोरखपुर शहर में स्थित है। गोरखपुर शहर में हवाई अड्डा बना हुआ है, जिसे आर्मी के द्वारा प्रबंधित किया जाता है। यह हवाई अड्डा मुख्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

आप यहां पर हवाई मार्ग से आ सकते हैं और उसके बाद संत कबीर नगर सड़क माध्यम से जा सकते हैं। संत कबीर नगर गोरखपुर से करीब 35 किलोमीटर दूर है। आप लखनऊ में हवाई मार्ग से आ सकते हैं और संत कबीर नगर सड़क मार्ग द्वारा पहुंच सकते हैं। लखनऊ हवाई अड्डा भी संत कबीर नगर के पास स्थित एक मुख्य हवाई अड्डा है।

 

रेल मार्ग से संत कबीर नगर कैसे पहुंचे – How to reach Sant Kabir Nagar by rail

रेल मार्ग से संतकबीरनगर आया जा सकता है। संत कबीर नगर खलीलाबाद में रेलवे स्टेशन बना हुआ है। यह रेलवे स्टेशन मुख्य शहरों से संतकबीरनगर को जोड़ता है। आप यहां पर रेल मार्ग द्वारा आ सकते हैं। उसके बाद अपने गंतव्य स्थान पर जा सकते हैं।

 

सड़क मार्ग से संत कबीर नगर कैसे पहुंचे – How to reach Sant Kabir Nagar by road

सड़क मार्ग द्वारा संत कबीर नगर पहुंचा जा सकता है। संत कबीर नगर में नेशनल हाईवे 28 गुजरता है। यहां आने के लिए बस की सुविधा मिल जाती है। यहां पर लोकल और सरकारी बसें चलती हैं।

यह भी पढ़े :- अलीगढ़ के प्रमुख दर्शनीय स्थल

संत कबीर नगर में कहां ठहरे – Where to stay in Sant Kabir Nagar

संत कबीर नगर में ठहरने के लिए होटल और लॉज मिल जाते हैं। संत कबीर नगर एक छोटा सा शहर है। यहां पर आपको होटल आराम से मिल जाएंगे। होटल का चयन आप अपने बजट के हिसाब से कर सकते हैं।

 

संत कबीर नगर घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Sant Kabir nagar

संतकबीरनगर घूमने का सबसे अच्छा समय ठंडा का रहता है। यहां पर अक्टूबर से मार्च महीने के बीच में आ सकते हैं और संत कबीर नगर में घुमा जा सकता है, क्योंकि उस समय यहां का मौसम बहुत ही अच्छा रहता है। गर्मी में यहां पर घूमने में परेशानी हो सकती है और बरसात में भी यहां घुमा नहीं जा सकता है।

यह भी पढ़े :- इटावा में घूमने की जगह

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे, तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment