राहतगढ़ का किला मध्य प्रदेश – Famous Rahatgarh ka Kila Sagar Madhya Pradesh

राहतगढ़ का किला (rahatgarh ka kila) मध्य प्रदेश में प्रसिद्ध किलों में से एक है। राहतगढ़ का किला (rahatgarh ka kila) मध्य प्रदेश का एक ऐतिहासिक स्थल है। राहतगढ़ का किला (rahatgarh ka kila) मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह किला राहतगढ़ तहसील में बना हुआ है। अगर आप सागर जिले में हैं, तो आप इस किले में घूमने लिए आ सकते हैं।

राहतगढ़ का किला सागर मध्य प्रदेश की जानकारी – Information about Rahatgarh ka Kila Sagar Madhya Pradesh

राहतगढ़ का किला (rahatgarh ka kila) सागर जिले में स्थित एक प्राचीन किला है। यह किला सागर जिले की राहतगढ़ नगर में स्थित है। राहतगढ़ का किला राहतगढ़ नगर में बीना नदी के किनारे एक पहाड़ी पर बना है। यह किला बहुत सुंदर है और बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है।

राहतगढ़ के किले (rahatgarh ka kila) में आप आसानी से आ सकते हैं। राहतगढ़ के किले (rahatgarh ka kila) में पहुंचने के लिए सबसे पहले आपको राहतगढ़ तहसील में आना पड़ता है। राहतगढ़ तहसील सागर विदिशा हाईवे मार्ग पर स्थित है। आप यहां पर हाईवे रोड से आ सकते हैं और इस किले में घूमने के लिए आ सकते हैं। आप राहतगढ़ तहसील पहुंचते हैं, तो आपको यह किला पहाड़ी में देखने के लिए मिलता है।

राहतगढ़ का किला (rahatgarh ka kila) बहुत बड़ी एरिया में फैला हुआ है। राहतगढ़ का किला बहुत ही भव्य है। इस किले में आपको प्राचीन मंदिर, मस्जिद, कब्र, महल, बावड़ी बने है। यह 66 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर बहुत सारे महल बने हुए हैं। इनमें से बहुत सारे महल ध्वस्त हो गए हैं।

कुछ ही महल बचे हुए हैं, जो अच्छी अवस्था में हैं और आप इन्हें देख सकते हैं। राहतगढ़ के किले में बहुत सारे राजाओं ने शासन किया है। इस किले में चंदेल, परमार शासक और गोंडवाना राजा ने शासन किया है। इस महल में गोंडवाना राजा संग्राम शाह ने शासन किया है। इस किले को सुरक्षा की दृष्टि से बहुत ही अच्छी तरह से बनाया गया था।

इस किले के कोनों में बुर्ज देखने के लिए मिलते हैं, जिनमें प्राचीन समय में सैनिक रहा करते थे और किले की रखवाली किया करते थे। यहां पर 26 बुर्ज का निर्माण किया गया है, जहां पर बंदूकधारि सैनिक तैनात रहते थे।

राहतगढ़ के किले (rahatgarh ka kila) तक पहुंचने के लिए सड़क मार्ग बना हुआ है। राहतगढ़ का किला वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के पास में बना हुआ है। यहां पर आने के लिए पक्की सड़क है। आप इस किले तक आराम से पहुंच सकते हैं। किले के पास पहुंचने पर करीब 500 मीटर की सड़क में मोटे पत्थर हुए हैं, जिसमें आप अपनी कार और बाइक से जा सकते हैं।

यहां पर पार्किंग के लिए बहुत बड़ी जगह है। राहतगढ़ के किले में प्रवेश के लिए कोई भी शुल्क नहीं लगता है। यहां पर आप आराम से किले में जाकर घूम सकते हैं। राहतगढ़ के किले में पहुंचने के लिए चढ़ाई वाला मार्ग है। यहां पर सीढ़यों के द्वारा आप आराम से किले में पहुंच सकते हैं।

किले में आपको ढेर सारे प्रवेश द्वार देखने के लिए मिलते हैं। इन प्रवेश द्वार को पार करके आप किले के अंदर पहुंचते हैं, तो सबसे पहले यहां पर आपको एक खूबसूरत महल देखने के लिए मिलता है, जो पहाड़ी के किनारे में बना हुआ है।

इस महल को मोती महल के नाम से जाना जाता है। यह महल बहुत अच्छी तरह से बना हुआ है। यह महल बहुमंजिला है। आप महल के ऊपरी सिरे में जाकर भी घूम सकते हैं। महल के काफी सारे हिस्से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इस महल में आपको ढेर सारी आकर्षक चीज देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर बहुत सारे लोगों ने खुदाई भी की है, जिससे यहां पर बहुत सारे गड्ढे भी देखे जा सकते हैं।

मोती महल बहुत खूबसूरत है। मोती महल में राजा स्वयं रहा करते थे। इस इमारत में एक बहुत बड़ा आंगन है। आप इस इमारत दीवारें देख सकते हैं, जिनमें नक्काशी की गई है। मोती महल में बाहर का नजारा देखने के लिए खिड़कियां हैं। हवा का आने जाने के लिए खिड़कियां का प्रबंध उचित है।

यहां पर आपको राजा के स्नानगार भी देखने मिल जाएंगे, जो पुराने समय के हैं। यहां पर राजा और रानी के लिए कक्ष बनाए गए हैं। इस महल में खजाने की लालच में मोती महल के कई हिस्सों में लोगों के द्वारा खुदाई किए हैं। आप वह भी देख सकते हैं। महल के बहुत से हिस्सों को इसी तरह से नष्ट कर दिया है।

मोती महल में घूमने के बाद आप आगे जाएंगे, तो आपके यहां पर और भी महल देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत सुंदर हैं और आकर्षक है। राहतगढ़ किले में आपको धार्मिक स्थल भी देखने मिल जाते है। राहतगढ़ किले में बाबा साहब की मजार है। इस मजार को लेकर बहुत सारी मान्यता है। मजार में हर साल जश्न का आयोजन होता है, जिसमें बहुत सारे लोग शामिल होते हैं।

यहां पर आपको मंदिर के अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर एक चबूतरा है, जिसमें शिव मंदिर बना हुआ है। इस मंदिर के बारे में बहुत सारी बातें कही जाती है।

यहां पर शिवलिंग विराजमान है। शिवलिंग के कोने पर मूर्तियां रखी गई है, जो बहुत सुंदर है। यह प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर विराजमान शिवलिंग खंडित अवस्था में है। राहतगढ़ किले में एक हनुमान मंदिर भी है, जिसके दर्शन आप यहां आकर कर सकते है।

इस महल में आपको बहुत सारे अवशेष देखने के लिए मिलते हैं, जो यहां पर बिखरे पड़े हुए हैं। इस किले की देखरेख अच्छे से नहीं किया जा रही है, जिससे यह किला धीरे-धीरे खत्म होते जा रहा है और यहां पर जंगल बनता जा रहा है।

राहतगढ़ किले के और अंदर जाने पर आपको बावड़ी देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर है। बावड़ी के पास में ऊंचाई पर एक मंदिर भी बना हुआ है, जिस पर सुंदर नक्काशी की गई है और बहुत ही आकर्षक लगता है। यहां पर आपको कुछ कब्र भी देखने के लिए मिलते हैं।

बावड़ी का एक हिस्सा टूटा हुआ है। बावड़ी में पानी भरा रहता है। यहां पर ढेर सारी मछलियां रहती हैं। यहां पर मछलियों को दाना खिलाया जा सकता है। बावड़ी बहुत गहरी है। यहां पर आप जाकर नहाने की चेष्टा ना करें, नहीं तो आप बावड़ी में डूब सकते हैं। बावड़ी में नीचे जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है।

राहतगढ़ किले की इस बावड़ी को डुहेला कहते है। यह जलाशय राहतगढ़ किले की सबसे अच्छी जगह है। यह बावड़ी 1857 की क्रांति से जुड़ा हुआ है। जब 1857 का स्वतंत्रता संग्राम हुआ था, तब इस किलें में बहुत सारे विद्रोही एकत्र हुए थे। तब इस जलाशय के पानी को जहरीला बना दिया गया था, जिसके बाद इस किलें में अग्रेजों का कब्जा हो गया था।

बावड़ी को देखते हुए आप आगे जाएंगे तो आपको और भी बहुत सारे महल देखने के लिए मिलते हैं। आप इस किले में घूमने के लिए आते हैं, तो आपके करीब 1 से 2 घंटा लग जाएगा, क्योंकि यह महल काफी बड़े एरिया में फैला हुआ है और यहां पर देखने के लिए बहुत सारी जगह है। आप यहां पर आगे जाएंगे, तो आपके यहां पर एक सुंदर महल देखने के लिए मिलता है, जो बहुत आकर्षक है। इस महल को बादल महल के नाम से जाना जाता है। इस महल में राजा का दरबार लग जाता था, जिसे कचहरी भी कहा जाता है।

यहां पर राजा दोषी को सजा दिया करता था। राहतगढ़ किले में फांसी घर भी है। जहां पर दोषी को फांसी की सजा दी जाती थी। फांसी घर में एक इमारत है, जहां से दोषी को इस इमारत से फेंक दिया करते थे। आपको फांसी घर से बीना नदी का बहुत ही विहंगम दृश्य देखने मिलता है।

राहतगढ़ किला (rahatgarh ka kila) बहुत ही खूबसूरत है। यह किला धीरे-धीरे खत्म होता जा रहे हैं। अगर आप इस किलें में जाते है, तो अपने साथ पीने का पानी जरूर लेकर जाएं, क्योकि यहां पर पानी का व्यवस्था नहीं है। आप अपने ऐतिहासिक यादों को ताजा करने के लिए यहां आ सकते हैं और यहां पर घूम सकते हैं।

इस राहतगढ़ किले में बहुत सारे व्यूप्वाइंट बने हुए हैं, जहां से आप चारों तरफ का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर आकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। अगर आप राहतगढ़ में जाते हैं, तो आपको इस किले में जरूर घूमने के लिए आना चाहिए।

यह भी पढ़े :- विजयगढ़ किला सोनभद्र

राहतगढ़ किले में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Rahatgarh Fort

राहतगढ़ किले में घूमने का सबसे अच्छा समय बरसात का रहता है। आप यहां पर बरसात के समय आ सकते हैं। बरसात के समय यह जगह बहुत खूबसूरत लगती है। बरसात के समय यहां पर चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर आप बरसात के समय जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं। आप यहां पर ठंड के समय भी आ सकते हैं। ठंड के समय भी यह जगह खूबसूरत लगती है।

यह भी पढ़े :- होशंग शाह किला होशंगाबाद

राहतगढ़ का किला कहां पर स्थित है – Where is Rahatgarh ka kila located

राहतगढ़ का किला (rahatgarh ka kila) मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध किला है। राहतगढ़ का किला (rahatgarh ka kila) मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह मध्य प्रदेश की राहतगढ़ तहसील में स्थित है। यह सागर जिले से करीब 40 किलोमीटर दूर है। यहां पर आप सड़क मार्ग से आसानी से आ सकते हैं। यहां पर आप बाइक और कार से पहुंच सकते हैं। यह किला ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। किले में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है।

यह भी पढ़े :- सिंगौरगढ़ किला दमोह

राहतगढ़ का किला कैसे जाये – How to reach Rahatgarh ka Kila 

राहतगढ़ का किला (rahatgarh ka kila) सागर – भोपाल राजमार्ग में स्थित है। यह किला सागर से करीब 40 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर सडक माध्यम से आ सकते है। किलें तक आने के लिए अच्छी सडक है। किले में आप बाइक और कार से आ सकते हैं। यहां पर पार्किंग के लिए बहुत बड़ी जगह है। किला मुख्य हाईवे सड़क से करीब 3 किलोमीटर दूर है। यहां पर आने में कोई भी दिक्कत नहीं होती है।

यह भी पढ़े :- केवटी किला

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है। आप इसे शेयर जरूर करें। धन्यवाद

 

Leave a Comment