मंडी जिले के दर्शनीय और पर्यटन स्थल – Top 21 Mandi me Ghumne ki Jagah

Mandi me Ghumne ki Jagah :- मंडी हिमाचल प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। इस लेख में हम आपको मंडी में घूमने की जगह (Mandi me Ghumne ki Jagah), मंडी के प्रमुख धार्मिक स्थान, मंडी कैसे पहुंचे और मंडी के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानकारी देंगे।

Table of Contents

मंडी जिले के बारे में जानकारी – Information about Mandi district

मंडी भारत देश के हिमाचल प्रदेश प्रांत का एक मुख्य जिला है। मंडी जिला 15 अप्रैल 1948 को अस्तित्व में आया है। इस जिले को दो रियासतों मंडी और सुकेत के विलय के साथ गठित किया गया है। यह जिला प्राचीन है। मंडी जिले के बीचो-बीच से व्यास नदी बहती है। मंडी जिले को छोटा काशी भी कहा जाता है। मंडी शहर में बहुत सारे प्राचीन मंदिर बने हुए हैं। इस जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है।

मंडी जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है, जहां पर जाकर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। मंडी जिले में घूमने के लिए ऐतिहासिक, प्राकृतिक और धार्मिक जगह हैं, जो बहुत सुंदर है। इन जगहों में आप अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए जा सकते हैं। यहां पर जाकर अच्छा लगता है।

इस ब्लॉग को आप पूरा पढ़ें। इस ब्लॉग में हमने मंडी में घूमने वाली प्रमुख जगह (Mandi me Ghumne ki Jagah), मंडी में कहां-कहां जाएं, मंडी के आसपास घूमने की जगह (Mandi me Ghumne ki Jagah), मंडी कैसे जाये, मंडी कहां पर है, मंडी में कहां ठहरे, मंडी में घूमने का सही समय, इन सभी की जानकारी दी है। अगर आप मंडी जाने की प्लानिंग कर रहे हैं, तो यह ब्लॉग आपके लिए लाभकारी रहेगा।

 

मंडी में घूमने की जगह – Mandi me Ghumne ki Jagah 

मंडी के प्रमुख दर्शनीय और पर्यटन स्थलों की सूची – Mandi tourist Places list in Hindi

  1. त्रिलोकीनाथ मंदिर मंडी
  2. भगवती महिषासुर मर्दिनी मंदिर मंडी
  3. मांडव्य नेचर पार्क
  4. विक्टोरिया ब्रिज मंडी
  5. श्यामा काली मंदिर मंडी
  6. बाबा भूतनाथ मंदिर मंडी
  7. घंटाघर मंडी
  8. माधव राय मंदिर
  9. पंचवक्त्र मंदिर मंडी
  10. अर्धनारीश्वर मंदिर मंडी
  11. गुरुद्वारा गुरु गोविंद सिंह जी मंडी
  12. भीमा काली मंदिर मंडी
  13. हिमालय दर्शन गैलरी मंडी
  14. पंडोह बांध मंडी
  15. बगलामुखी माता मंदिर मंडी
  16. बाखली ईकोटूरिज्म नेचर पार्क
  17. सुंदर नगर मंडी
  18. सुंदरनगर झील
  19. सुखदेव वाटिका सुंदर नगर
  20. मुरारी देवी जी का मंदिर सुंदर नगर
  21. हटेश्वरी माता मंदिर सुंदर नगर

 

मंडी जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल – Mandi me Ghumne ki Jagah

 

त्रिलोकी नाथ मंदिर मंडी – Trilokinath Temple Mandi

त्रिलोकीनाथ मंदिर मंडी शहर का एक प्रमुख मंदिर है। यह मंदिर पूरे मंडी शहर में प्रसिद्ध है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण राजा अजबर सेन की रानी सुल्ताना देवी ने 1520 में करवाया था। यह मंदिर शिखर शैली में निर्मित किया गया है। इस मंदिर का गर्भगृह वर्गाकार है। इस मंदिर में गर्भगृह, अंतराल और एक बड़ा सा मंडप देखने के लिए मिलता है।

यहां पर गर्भगृह में शिव भगवान जी की तीन मुख की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। शिव भगवान जी और पार्वती जी के आलिंगन करती हुई प्रतिमा है और शिव भगवान और पार्वती जी नंदी भगवान जी के ऊपर विराजमान है। मंदिर के बाहर नंदी भगवान जी की खड़ी हुई प्रतिमा देखी जा सकती है। मंदिर की दीवारों में सुंदर नक्काशी की गई है।

यह मंदिर पूरा पत्थर से बना हुआ है और बहुत ही सुंदर लगता है। मंदिर की बाहरी दीवारों में आले बने हुए हैं। इन आले में महिषासुरमर्दिनि, गणेश। दिवार में नृत्य करती हुई लोग, हाथियों की प्रतिमा और भी बहुत सारी प्रतिमा देखी जा सकती हैं। यह मंदिर मंडी शहर में व्यास नदी के किनारे बना हुआ है।

 

भगवती महिषासुर मर्दिनी मंदिर मंडी – Bhagwati Mahishasur Mardini Mandir Mandi

भगवती महिषासुर मर्दिनी मंदिर मंडी जिले का एक प्रमुख दर्शनीय स्थल है। भगवती महिषासुर मर्दिनी मंदिर मंडी में ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यह मंदिर महिषासुर मर्दिनी माता को समर्पित है। इस मंदिर से चारों तरफ का बहुत ही सुंदर दृश्य देखा जा सकता है।

यहां पर आप शाम के समय आएंगे, तो आपको और भी अच्छा लगेगा। शाम के समय यहां पर सूर्यास्त का दृश्य देखा जा सकता है। यहां से मंडी शहर का  दृश्य देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर लगता है। यहां पर पंचमुखी हनुमान जी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां से व्यास नदी का दृश्य देखने मिलता है।

 

मांडव्य नेचर पार्क – Mandavya Nature Park

मांड्या नेचर पार्क मंडी में महिषासुर मर्दिनी मंदिर के पास में बना हुआ है। यह पार्क बहुत सुंदर है। यहां पर आपको पेड़ पौधों की प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। यह पार्क विक्टोरिया ब्रिज से करीब 1 किलोमीटर दूर है।

इस पार्क में आपको पक्षियों की बहुत सारी प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती है। इस पार्क में जिपलाइन और स्काई साइकिल जैसे खेल उपलब्ध हैं ,जो बहुत ही एडवेंचरस लगते हैं। यहां पर आप आकर एंजॉय कर सकते हैं। यहां बच्चों के लिए नौका विहार की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर आप आकर पूरे मंडी शहर का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर एक छोटा सा स्टाल है, जहां पर खाने पीने का सामान मिल जाता है।

 

विक्टोरिया ब्रिज मंडी – Victoria Bridge Mandi

विक्टोरिया ब्रिज मंडी का एक पुराना ब्रिज है। यह ब्रिज व्यास नदी पर बना हुआ है। इस ब्रिज का निर्माण 1877 में राजा बिजाई सेन के द्वारा करवाया गया था। इसको बनाने में एक लाख का खर्चा हुआ था। यह ब्रिज बहुत सुंदर है। इस ब्रिज का निर्माण लंदन और कोलकाता के इंजीनियर के द्वारा किया गया था।

 

श्यामा काली मंदिर मंडी – Shyama Kali Mandir Mandi

श्यामा काली मंदिर मंडी शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर मंडी शहर में टारना पहाड़ी पर बना हुआ है। इस मंदिर से मंडी शहर का विहंगम दृश्य देखा जा सकता है। श्यामा काली का यह मंदिर 17 शताब्दी के मध्य में राजा श्याम सेन द्वारा देवी के आशीर्वाद से सुकेत के राजा जीत सिंह से युद्ध में हुई जीत के उपलक्ष में बनाया गया था।

यह मंदिर बहुत सुंदर है। नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। यहां पर माता श्यामा काली जी के दर्शन किए जा सकते हैं। श्यामा काली जी माता पार्वती जी का स्वरुप है। इस मंदिर के पास में छोटा सा पार्क बना हुआ है, जिस टारना पार्क के नाम से जाना जाता है।

 

बाबा भूतनाथ मंदिर मंडी – Baba Bhootnath Mandir Mandi

बाबा भूतनाथ मंदिर मंडी शहर का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर मुख्य मंडी सिटी में बना हुआ है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण  महाराजा अजबर सेन ने 1527 में करवाया था। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। यहां पर भगवान शिव का शिवलिंग देखा जा सकता है।

यह पूरा मंदिर पत्थर को काटकर बनाया गया है। मंदिर के बाहर नंदी भगवान जी की प्रतिमा के दर्शन किए जा सकते हैं। इसमें नंदी भगवान जी खड़ी हुई अवस्था में है। यहां पर आकर अच्छा लगता है।

 

घंटाघर मंडी – Ghantaghar Mandi

घंटाघर मंडी का एक मुख्य स्थान है। यह स्थान मुख्य बाजार में बना हुआ है। यहां घंटाघर प्राचीन समय में ब्रिटिश एरा में बनाया गया है। इस घंटाघर का निर्माण 1929 में किया गया था। यह घंटाघर तीन मंजिला है और पगोड़ा शैली में बना हुआ है। यह  इंदिरा बाजार में बना हुआ है। इस घंटाघर की पहली मंजिल में एक काफी वजन की घंटी लगी हुई है, जो बजती है।

इस घंटा घर के पास एक उद्यान बना हुआ है, जिसे सुभाष उद्यान के नाम से जाना जाता है। यहां पर आप आकर घूम सकते हैं। इसे क्लॉक टावर के नाम से भी जाना जाता है। यह बहुत सुंदर लगता है। इसमें सबसे ऊपरी मंजिल पर घड़ी लगी हुई है।

 

माधव राय मंदिर – Madhav Rai Temple

माधव राय मंदिर मंडी का प्रसिद्ध मंदिर है। इस माधो राय मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर को  बहुत ही अच्छी तरह से बनाया गया है। यहां पर आकर भगवान विष्णु के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर घंटाघर के पास में बना हुआ है।

 

पंचवक्त्र मंदिर मंडी – Panchvaktra Mandir Mandi

पंचवक्त्र मंदिर मंडी का एक प्रमुख मंदिर है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर शिखर शैली में बना हुआ है। यह मंदिर उत्तर भारत में बना सर्वश्रेष्ठ मंदिर माना जाता है। इस मंदिर का निर्माण 15 वी शताब्दी में हुआ था। यह मंदिर मंडी जिले में सुकेतु और व्यास नदी के संगम पर स्थित है। पूरा मंदिर पत्थर से बना हुआ है। मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग विराजमान है। यह शिवाकृति पंचमुखी है। यहां पर नंदीबैल एवं शिव के आकाशीय वाहन की नक्काशी अद्भुत है।

मंदिर के बाहर नंदी भगवान जी की प्रतिमा देखी जा सकती है, जो खड़ी हुई अवस्था में है और एक देव नंदी भगवान जी की पूंछ खींच रहे हैं। यह मंदिर बाढ़ में क्षतिग्रस्त हो गया था। यह मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर के आसपास और भी बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं। यहां पर हनुमान मंदिर, एवं अन्य मंदिर बने है। यहां पर व्यास नदी का सुंदर दृश्य भी देखा जा सकता है।

 

अर्धनारीश्वर मंदिर मंडी – Ardhanarishwar Temple Mandi

अर्धनारीश्वर मंदिर मंडी का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर वास्तुकला की दृष्टि से मंडी के अन्य मंदिरों से सुंदर है। यह मंदिर पूरा पाषाण से बना हुआ है। मंदिर की बाहरी दीवारों में सुंदर नक्काशी की गई है। मंदिर का निर्माण शिखर शैली में किया गया है। इस मंदिर के गर्भ गृह में पंचरथ शैली का प्रयोग किया गया है। मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग विराजमान है। यहां पर दीवारों में सुंदर नक्काशी की गई है। यहां पर शिवरात्रि में बहुत सारे लोग आते हैं।

 

गुरुद्वारा गुरु गोविंद सिंह जी मंडी – Gurudwara Guru Gobind Singh Ji Mandi

गुरुद्वारा गुरु गोविंद सिंह जी मंडी का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह गुरुद्वारा मंडी जिले में नेशनल हाईवे 21 में स्थित है। यह गुरुद्वारा मुख्य सड़क पर बना हुआ है। यहां पर आसानी से पहुंचा जा सकता है। यह गुरुद्वारा गुरु नानक देव जी की याद में बनाया गया है।

यह गुरुद्वारा प्राचीन है। इस गुरुद्वारे में गुरु नानक जी की बहुत सारी वस्तुओं को संभाल कर रखा गया है, जो वस्तुएं गुरु नानक जी के द्वारा उपयोग किए गई थी। यह वस्तुएं मंडी के राजा के द्वारा गुरु नानक जी को उपहार स्वरूप दी गई थी। यहां पर व्यास नदी पर एक बड़ी सी चट्टान पर बैठकर गुरु नानक जी ध्यान किया करते थे।

इस गुरुद्वारे का निर्माण 1527 में महाराज अग्रसेन द्वारा किया गया था, बाद में राजा जोगिंदर सिंह एवं रानी अमृता कौर और मंडी राज्य के मुख्य सचिव दीनानाथ द्वारा गुरुद्वारे का पुनर्निर्माण किया गया। इस गुरुद्वारे में ठहरने की व्यवस्था उपलब्ध है। यहां पर आपको एक बहुत बड़ा प्रार्थना कक्ष देखने के लिए मिलता है, जहां पर आप बैठ कर प्रार्थना कर सकते हैं। यहां पर लंगर की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर 24 घंटे लंगर मिलता है। यह हर कोई भोजन ग्रहण कर सकते हैं।

 

भीमा काली मंदिर मंडी – Bhima Kali Mandir Mandi

भीमा काली मंदिर मंडी का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर नेशनल हाईवे 21 में बना हुआ है। यह मंदिर व्यास नदी के किनारे बना हुआ है। यह मंदिर बहुत ही भव्य है। यह मंदिर काली माता जी को समर्पित है। मंदिर में आपको आकर विभिन्न देवी-देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के मुख्य गर्भ गृह में भीमा काली जी के दर्शन करने के लिए मिलेंगे। पूरा गर्भगृह चांदी से बना हुआ है और बहुत ही सुंदर लगता है।

मंदिर परिसर में बहुत सारे देवी देवता विराजमान है। यहां पर शिव भगवान जी की मूर्ति देखी जा सकती है। पांडव की प्रतिमा देखी जा सकती है। जब वह स्वर्ग जा रहे थे। पाचों पांडवों की प्रतिमा देखी जा सकती है। यह मंदिर मंडी बस स्टैंड से करीब 3 किलोमीटर दूर है। यहां आकर अच्छा लगता है। यहां से व्यास नदी का दृश्य देखने लायक है।

 

हिमालय दर्शन गैलरी मंडी – Himalaya Darshan Gallery Mandi

हिमालय दर्शन गैलरी मंडी का प्रमुख स्थल है। हिमालय दर्शन गैलरी मंडी में नेशनल हाईवे 21 में स्थित है। यह मंडी शहर से 5 किलोमीटर दूर है। हिमालय दर्शन गैलरी में प्रवेश निशुल्क है। यहां पर संग्रहालय, पुस्तकालय, स्थानीय दस्तकारी देखने के लिए मिलती है।

यह जगह बहुत ही सुंदर है। यहां पर आप आकर हिमाचल कलाकृतियां एवं पेंटिंग देख सकते हैं। यह संग्रहालय मुख्य सड़क पर स्थित है। यहां पर संग्रहालय के पास में व्यास नदी बहती है।

 

पंडोह बांध मंडी – Pandoh Dam Mandi

पंडोह बांध मंडी का एक फेमस टूरिस्ट स्पॉट है। यह बांध मंडी से करीब 21 किलोमीटर दूर है। यहां बांध बहुत सुंदर है। यह बांध व्यास नदी पर बना हुआ है। इस बांध में अंडरग्राउंड टनल बनी हुई है। यह टनल 12 किलोमीटर लंबी है। यह बांध बहुत ही आकर्षक लगता है। बरसात में यहां पर बहुत अच्छा लगता है, क्योंकि बरसात में बांध का पानी ओवरफ्लो होकर बहता है। यहां पर चारों तरफ ऊंचे ऊंचे पहाड़ देखे जा सकते हैं।

 

बगलामुखी माता मंदिर मंडी – Baglamukhi Mata Mandir Mandi

बगलामुखी माता मंदिर मंडी का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बगलामुखी माता को समर्पित है। बगलामुखी माता का मंदिर मंडी जिले में पंडोह डैम के पास में स्थित है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर चारों तरफ का दृश्य बहुत ही आकर्षक रहता है। यहां पर पहाड़ और पंडोह डैम का दृश्य बहुत ही सुंदर है। यह  मंदिर पीले रंग से पोता हुआ है।

यहां पर बहुत सारी प्राचीन प्रतिमाएं देखी जा सकती है। माता को पीले रंग का प्रसाद एवं श्रृंगार चढ़ाया जाता है। यहां पर बेसन की बर्फी का प्रसाद दिया जाता है। यहां पर आप आकर बहुत अच्छा अनुभव कर सकते हैं। बगलामुखी माता मंदिर मंडी में बाखली गांव में बना हुआ है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं।

 

बाखली ईकोटूरिज्म नेचर पार्क – Bakhali Ecotourism Nature Park

बाखली इको टूरिज्म नेचर पार्क मंडी के पास घूमने का एक मुख्य स्थान है। यह पार्क पंडोह डैम के पास बना है। यह पार्क बहुत सुंदर है। यहां पार्क चारों तरफ पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां पर आपको आकर लकड़ी के सुंदर-सुंदर घर देखने के लिए मिलते हैं।

यहां पर बहुत बड़ा गार्डन बना हुआ है। यह एक इको टूरिज्म पॉइंट है। यहां पर लकड़ी के घर, बोट हाउस, ब्रिज, रामसेतू बना हुआ है। आने वाले टाइम में यह जगह बहुत ही आकर्षक रहेगी। आप यहां पर आकर अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं।

 

सुंदर नगर मंडी – Sunder Nagar Mandi

सुंदर नगर मंडी जिले का एक मुख्य शहर है। सुंदर नगर मंडी जिले से 21 किलोमीटर दूर है। सुंदरनगर प्राचीन समय में एक रियासत थी। इसे सुकेत नाम से जाना जाता था। सुंदर नगर में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। सुंदर नगर में हिमाचल और पंजाबी लोग रहते हैं।

सुंदर नगर समुद्र तल से 1174 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां पर एशिया की सबसे बड़ी हाइडल परियोजना व्यास सतलुज हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट बना हुआ है। सुंदरनगर में घूमने वाली प्रमुख जगह

 

सुंदरनगर झील – Sundernagar Lake

सुंदरनगर झील सुंदरनगर का एक मुख्य स्थान है। यह झील बहुत बड़े एरिया में फैली हुई है। व्यास सतलुज परियोजना के तहत, यह मानव निर्मित सबसे  झील है। यह झील मंडी बिलासपुर हाईवे सड़क पर स्थित है। यहां पर आसानी से पहुंचा जा सकता है।

इस झील का दृश्य बहुत सुंदर रहता है। झील का दृश्य बरसात के समय बहुत सुंदर रहता है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। इस झील को बीबीएमबी जलाशय के नाम से भी जाना जाता है।

 

सुखदेव वाटिका सुंदर नगर – Sukhdev Vatika Sunder Nagar

सुखदेव वाटिका सुंदर नगर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। सुखदेव वाटिका में,  महाभारत काल के समय, ऋषि सुखदेव जी तपस्या किया करते थे। यहां पर प्राचीन गुफा देखने के लिए मिलती है। यह गुफा के बारे में कहा जाता है, कि इस गुफा में एक सुरंग है, जो हरिद्वार तक जाती है।

इसका उपयोग ऋषि सुखदेव जी किया करते थे और हरिद्वार जाकर गंगा जी में स्नान किया करते थे। यहां पर बहुत बड़ा गार्डन बना हुआ है। गार्डन में चारों तरफ हरियाली है। यहां बहुत सारे फूलों वाले प्लांट लगे हुए हैं। यहां पर फव्वारे लगे हुए हैं। यह वाटिका सुंदरनगर झील के पास में बनी हुई है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं।

 

मुरारी देवी जी का मंदिर सुंदर नगर – Murari Devi Ji Temple Sunder Nagar

मुरारी देवी जी का मंदिर सुंदर नगर का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर मुख्य शहर में बना है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यहां पर मुरारी माता जी पिंडी  के रूप में स्थापित है, जिनमें से एक पिंडी  को शांत कन्या और दूसरे को कालरात्रि का स्वरूप माना गया है।

मुरारी माता के कारण यह पहाड़ी मुरारी धार के नाम से प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि इस मंदिर का निर्माण पांडवों के द्वारा किया गया है। मंदिर में मुरारी मां के दर्शन किए जा सकते हैं। इस मंदिर से सुंदरनगर शहर का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है।

 

शीतला माता मंदिर सुंदर नगर – शीतला माता मंदिर सुंदर नगर

शीतला माता मंदिर सुंदर नगर का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर सुंदर नगर में भौन (कालहौद) में स्थित है। यह मंदिर शीतला माता समर्पित है। यह मंदिर एक पहाड़ी पर बना हुआ है। मंदिर परिसर बहुत बड़ा और भव्य है। यहां पर और भी बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं, जो अन्य देवी-देवताओं को समर्पित है। यह मंदिर सुंदर नगर से करीब 3 किलोमीटर दूर है। यहां पर आप आकर चारों तरफ का सुंदर दृश्य देख सकते हैं।

 

हटेश्वरी माता मंदिर सुंदर नगर – Hateshwari Mata Temple Sunder Nagar

हटेश्वरी माता मंदिर सुंदर नगर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर सुंदर नगर से करीब 5 किलोमीटर दूर है। यह मंदिर मां दुर्गा के अवतार हटेश्वरी को समर्पित है। यह मंदिर प्राचीन है। यहां बहुत सारी प्राचीन प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती हैं।

यहां पर गणेश जी, हनुमान जी, शंकर जी एवं अन्य देवी-देवताओं की प्रतिमाओं के दर्शन किए जा सकते हैं। यह मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है। यह मंदिर पहाड़ी पर बना हुआ है।

यह भी पढ़े :- लाहौल स्पीति में घूमने की जगह

मंडी कैसे पहुंचे – How to reach Mandi

मंडी हिमाचल प्रदेश का एक प्रमुख शहर है। मंडी अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। मंडी में पहुंचने के लिए परिवहन के साधन उपलब्ध है। मंडी पहुंचने के लिए रेल मार्ग, हवाई मार्ग और सड़क मार्ग उपलब्ध है। इन तीनों माध्यम से मंडी पहुंचा जा सकता है।

 

हवाई मार्ग से मंडी कैसे पहुंचे – How to reach Mandi by air

हवाई मार्ग से मंडी पहुंचना बहुत आसान है। मंडी का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा कुल्लू में बना हुआ है। कुल्लू के भिंतुर में हवाई अड्डा बना हुआ है, जिसमें भारत के मुख्य शहरों से फ्लाइट आती है। कुल्लू मंडी से करीब 60 किलोमीटर दूर है। कुल्लू से मंडी सड़क माध्यम से पहुंचा जा सकता है। भिंतुर  एयरपोर्ट के बाहर टैक्सी एवं बस की सुविधा उपलब्ध रहती हैं।

 

सड़क मार्ग से मंडी कैसे पहुंचे – How to reach Mandi by road

मंडी में सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है। मंडी मुख्य शहरों जैसे शिमला, पठानकोट, चंडीगढ़, दिल्ली जैसे शहरों से सड़क माध्यम से अच्छी तरह जुड़ी हुई है। मंडी में नेशनल हाईवे 21 गुजरता है। आप यहां पर सड़क माध्यम से आ सकते हैं। यहां पर आने के लिए बस की सुविधा उपलब्ध रहती है। यहां पर सरकारी और लोकल बस के द्वारा पहुंचा जा सकता है। यहां पर  स्वयं के वाहन से भी आया जा सकते हैं।

 

रेल मार्ग से मंडी कैसे पहुंचे – How to reach Mandi by rail

मंडी रेल मार्ग से पहुंचा जा सकता है। मंडी का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन पंजाब के किरतपुर साहिब में स्थित है। यहां पर आप रेल मार्ग से आ सकते हैं। उसके बाद सड़क मार्ग द्वारा मंडी जा सकते हैं। चंडीगढ़ और कालका रेलवे स्टेशन मंडी के बहुत करीब है और यहां पर ब्रॉडगेज लाइन बिछी हुई है। उसके बाद बस के द्वारा मंडी आ सकते हैं।

यह भी पढ़े :- कुल्लू का प्रमुख पर्यटन स्थल

मंडी में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Mandi

मंडी में घूमने का सबसे अच्छा समय ठंड का रहता है। आप यहां पर अक्टूबर से मार्च के महीने के बीच में आ सकते हैं। ठंड का मौसम यहां पर बहुत अच्छा रहता है। यहां पर आपको आकर अच्छा लगेगा।

यह भी पढ़े :- अयोध्या में घूमने की जगह

मंडी में कहां ठहरें – Where to stay in the Mandi

मंडी में ठहरने के लिए बहुत सारे होटल मिल जाते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं बनी हुई है, जहां पर बहुत कम चार्ज लिया जाता है और सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध रहती है। यहां पर आप होटल का चयन आप अपनी सुविधा अनुसार कर सकते हैं। यहां पर बजट के अनुसार आपको होटल मिल जाएगा।

यह भी पढ़े :- ऊना के पर्यटन स्थल

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे, तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment