खजुराहो के प्रमुख दर्शनीय और पर्यटन स्थल – Top 23 Khajuraho me Ghumne ki Jagah

Khajuraho me Ghumne ki Jagah :- खजुराहो मध्य प्रदेश के एक प्रमुख पर्यटन स्थल में से एक है। इस लेख में हम आपको खजुराहो में घूमने की जगह (khajuraho me ghumne ki jagah), खजुराहो कैसे पहुंचे, खजुराहो के प्रसिद्ध मंदिर के बारे में जानकारी देंगे। अगर आप खजुराहो जाने के प्लान बना रहे हैं, तो आप इस लेख को पढ़ सकते हैं, यह लेख आपके लिए उपयोगी होगा।

Table of Contents

खजुराहो के बारे में जानकारी – Information about Khajuraho

खजुराहो भारत देश के मध्य प्रदेश राज्य का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। खजुराहो छतरपुर जिले में स्थित है। खजुराहो मुख्य छतरपुर जिले से करीब 30 किलोमीटर दूर है। खजुराहो में घूमने के लिए बहुत सारी जगह (khajuraho me ghumne ki jagah) है, जहां पर जाकर आप अपना समय बिता सकते हैं। खजुराहो मुख्य शहर में घूमने के लिए बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं। यह सभी मंदिर बहुत सुंदर है। इन मंदिरों में आपको बारीक नक्काशी देखने के लिए मिलती है।

खजुराहो में पहुंचने के लिए सड़क मार्ग, रेल मार्ग और वायु मार्ग की सुविधा उपलब्ध है। खजुराहो एक वर्ल्ड हेरिटेज साइट है। खजुराहो में मंदिर बने हुए हैं। इन मंदिरों की मूर्ति कला विश्व प्रसिद्ध है। इन मंदिरों की दीवारों में और छतों में बारीक नक्काशी की गई है, जो बहुत ही उत्तम है।

खजुराहो के मंदिर 10 वीं से 12 वीं शताब्दी के बीच बनाये गए हैं। यह मंदिर चंदेल राजाओं के द्वारा बनाए गए हैं। खजुराहो में स्थित मंदिरों में हिंदू और जैन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर शिव भगवान जी, विष्णु भगवान जी, सूर्य देव, गणेश जी पार्वती को समर्पित मंदिर देखने के लिए मिल जाते हैं।

खजुराहो एक छोटा सा शहर है। इस पूरे शहर में ढेर सारे मंदिर और मंदिरों के अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। प्राचीन समय में कहा जाता है कि खजुराहो में 85 मंदिर हुआ करते थे। मगर वर्तमान में केवल 25 मंदिर ही बचे हैं, जिनमें से आप कुछ मंदिरों को देख सकते हैं और कुछ मंदिर अभी भी यहां पर खंडहर अवस्था में है। आप इन सभी मंदिरों में घूमने के लिए जा सकते हैं। यह सभी मंदिर खजुराहो के प्रसिद्ध मंदिर है।

खजुराहो के मंदिरों को देखने के लिए रोजाना देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। खजुराहो के मंदिर कामुक मूर्तियों के लिए भी प्रसिद्ध हैं। खजुराहो के मंदिर में कामुक मूर्तियां देखने के लिए मिलती है, जो इन मंदिरों को और ज्यादा विशेष बनती है, क्योंकि मंदिरों में इस तरह की प्रतिमाएं देखने के लिए नहीं मिलती।

मगर खजुराहो के मंदिर में ही इस तरह की प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती हैं। खजुराहो के मंदिर को तीन समूह में विभाजित किया गया है – पूर्वी मंदिर समूह, पश्चिमी मंदिर समूह और दक्षिणी मंदिर समूह। आप इन सभी मंदिरों को देख सकते हैं। खजुराहो के मंदिरों को यूनेस्को द्वारा 1986 में विश्व धरोहर के रूप में शामिल किया गया है। खजुराहो में आप अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ में जा सकते हैं।

इस लेख में हम आपको खजुराहो में घूमने वाली की जगह (khajuraho me ghumne ki jagah) के बारे में बताने वाले हैं। खजुराहो में घूमने (khajuraho me ghumne ki jagah) के लिए बहुत सारी जगह है, जहां पर आप जा सकते हैं। खजुराहो में मंदिर के अलावा भी बहुत सारे स्थल है, जो बहुत सुंदर है और जहां पर आपको जरूर घूमने के लिए जाना चाहिए।

खजुराहो के आस-पास घूमने (khajuraho me ghumne ki jagah) के लिए ढेर सारी जगह है, जो बहुत सुंदर है। इन जगहों में आप अपने फैमिली और दोस्तों के साथ जाकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। तो चलिए जानते हैं खजुराहो के आस-पास घूमने के प्रमुख आकर्षण स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) कौन कौन से है।

 

खजुराहो में घूमने की जगह – Khajuraho me Ghumne ki Jagah

खजुराहो में घूमने के दर्शनीय और पर्यटन स्थलों की सूची – Khajuraho Tourist Places list in Hindi

  1. कंदरिया महादेव मंदिर
  2. मतंगेश्वर शिव मंदिर
  3. लक्ष्मण मंदिर खजुराहो
  4. विश्वनाथ मंदिर खजुराहो
  5. चौसठ योगिनी मंदिर खजुराहो
  6. दूल्हा देव मंदिर खजुराहो
  7. चतुर्भुज मंदिर खजुराहो
  8. जैन मंदिर खजुराहो
  9. ब्रह्मा मंदिर खजुराहो
  10. वामन मंदिर खजुराहो
  11. जवारी मंदिर खजुराहो
  12. कुटनी बांध खजुराहो
  13. बेनी सागर बांध खजुराहो
  14. रनेह जलप्रपात खुजराहो
  15. केन घड़ियाल अभ्यारण खजुराहो
  16. राजगढ़ का किला खजुराहो
  17. पन्ना टाइगर रिजर्व खजुराहो
  18. गगउ अभ्यारण खजुराहो
  19. पांडव झरना एवं गुफा खजुराहो
  20. स्वर्गेश्वर मंदिर खजुराहो
  21. रघुवन बांध खजुराहो
  22. पुरातत्व संग्रहालय खजुराहो
  23. आदिवर्त संग्रहालय खजुराहो

 

कंदारिया महादेव मंदिर – Kandariya Mahadev Temple

कंदरिया महादेव मंदिर खजुराहो का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर पश्चिम मंदिर समूह का सबसे बड़ा मंदिर है। पश्चिमी मंदिर समूह मुख्य शहर में स्थित है। आप यहां पर आराम से आकर घूम सकते हैं। पश्चिमी मंदिर समूह में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर ढेर सारे मंदिर बने हुए हैं, जिनमें से कंदरिया महादेव मंदिर भी एक है।

कंदरिया महादेव मंदिर बहुत खूबसूरत है। यह मंदिर एक ऊंची जगती के ऊपर बना हुआ है। मंदिर के अंदर आपको शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर की बाहरी दीवारों में ढेर सारी कलात्मक मूर्तियां बनाई गई है, जो बहुत सुंदर है।

 

मतंगेश्वर शिव मंदिर – Matangeshwar Shiv Temple

मतंगेश्वर शिव मंदिर खजुराहो का प्रसिद्ध मंदिर है। खजुराहो के इसी मंदिर में आज भी पूजा की जाती है। खजुराहो के बाकी मंदिरों में पूजा नहीं की जाती है। यहां पर सभी लोग घूमने के लिए जा सकते हैं। यह मंदिर मुख्य शहर में बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से जा सकते हैं।

यह शिव भगवान जी को समर्पित एक प्राचीन मंदिर है। मतंगेश्वर मंदिर एक ऊंची जगती के ऊपर बना हुआ है। मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर के अंदर एक विशाल शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह शिवलिंग करीब 15 या 20 फीट ऊंचा है। इस मंदिर के बाहर आपको गणेश जी की बहुत ही भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। मंदिर परिसर में हनुमान जी की भी एक अद्भुत प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो पूरी सिंदूरी रंग से रंगी हुई है।

 

लक्ष्मण मंदिर खजुराहो – Laxman Temple Khajuraho

लक्ष्मण मंदिर पश्चिमी मंदिर समूह का एक प्रमुख मंदिर है। यह मंदिर भगवान विष्णु जी को समर्पित है। यह मंदिर एक ऊंची जगती के ऊपर बना हुआ है। इस मंदिर की दीवारों में बहुत सुंदर नक्काशी की गई है, जो बहुत ही अद्भुत लगती है। इस मंदिर के चबूतरे पर चारों कोने पर छोटे-छोटे मंदिर बने हुए हैं, जो बहुत खूबसूरत हैं।

लक्ष्मण मंदिर के सामने दो छोटे मंदिर बने हुए हैं। लक्ष्मण मंदिर के सामने लक्ष्मी मंदिर और वराह मंदिर बने हुए हैं। यह मंदिर छोटे आकार के हैं और बहुत सुंदर है। इन मंदिरों में विष्णु भगवान जी के वराह अवतार की बहुत सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही आकर्षक लगती है। लक्ष्मी मंदिर में लक्ष्मी जी की आकर्षक प्रतिमा देखी जा सकती है। पश्चिमी मंदिर समूह में और भी बहुत सारे मंदिर हैं।

 

विश्वनाथ मंदिर खजुराहो –  Vishwanath Temple Khajuraho

विश्वनाथ मंदिर खजुराहो के पश्चिमी मंदिर समूह का एक मुख्य मंदिर है। यह मंदिर बहुत खूबसूरत है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर की दीवारों में बहुत सुंदर नक्काशी की गई है, जो देखने लायक है। इस मंदिर के मुख्य गर्भगृह में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे के ऊपर बना हुआ है। इस मंदिर के चबूतरे के कोने में दो मंदिर बने है।

विश्वनाथ मंदिर के सामने नंदी मंदिर बना हुआ है, जहां पर नंदी महाराज की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा देखी जा सकती है। नंदी मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है। विश्वनाथ मंदिर के पीछे की तरफ पार्वती मंदिर बना हुआ है। यह मंदिर छोटा है। मगर बहुत सुंदर है।

विश्वनाथ मंदिर के पास ही में प्राप्तेश्वर मंदिर बना है। यह मंदिर 18वीं शताब्दी में बनाया गया है। पश्चिमी मंदिर समूह में दो और मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर चित्रगुप्त मंदिर और जगदंबा मंदिर देखने के लिए मिलता है। आप इन सभी मंदिरों में घूम सकते हैं। यह सभी मंदिर बहुत अच्छी तरह से बने हुए हैं और बहुत सुंदर है।

 

चौसठ योगिनी मंदिर खजुराहो –  Chausath Yogini Temple Khajuraho

64 योगिनी मंदिर खजुराहो का एक प्रमुख मंदिर है। यह मंदिर खजुराहो मुख्य शहर में ही बना हुआ है। यह मंदिर शिवसागर झील के पास में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए जा सकते हैं। यह मंदिर अब खंडहर अवस्था में है।

यहां पर 64 मंदिरों के अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर मंदिर में मूर्ति विराजमान नहीं है। यहां पर पत्थरों पर मूर्ति बनी है, जिसमें लोग फूल और पत्तियां चढ़ाते हैं।

 

दूल्हा देव मंदिर खजुराहो –  Dulhadev Temple Khajuraho

दूल्हा देव मंदिर खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर खजुराहो मुख्य शहर में खुदार नदी के तट पर बना हुआ है। इस मंदिर के बाहर आपको सुंदर बगीचा देखने के लिए मिलता है, जहां पर ढेर सारे पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है।

मंदिर की दीवारों में सुंदर नक्काशी की गई है। मंदिर के मुख्य गर्भ ग्रह में शिवलिंग स्थापित है। मंदिर में आज भी लोग पूजा करते हैं और भगवान शिव जी को फूल एवं बेलपत्र चढ़ाते हैं। इस मंदिर को कुंवारा मठ भी कहा जाता है।

 

चतुर्भुज मंदिर खजुराहो – Chaturbhuj Temple Khajuraho

चतुर्भुज मंदिर खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर में भगवान विष्णु जी की बहुत ही सुंदर चतुर्भुज प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत आकर्षक लगती है। भगवान विष्णु जी की प्रतिमा यहां पर खंडित अवस्था में विराजमान है। यह मंदिर खजुराहो एयरपोर्ट के पास में स्थित है। आप यहां पर घूमने लिए आ सकते हैं। इस मंदिर में बहुत ही खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलती है।

 

जैन मंदिर खजुराहो – Jain Temple Khajuraho

जैन मंदिर खजुराहो के प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर खजुराहो मुख्य शहर में स्थित है। इस मंदिर में आप आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां पर आपको ढेर सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर भगवान आदिनाथ मंदिर, भगवान पार्श्वनाथ मंदिर और भगवान शांतिनाथ मंदिर देखने के लिए मिलता है। इन सभी मंदिरों में भगवान आदिनाथ जी की प्रतिमा, भगवान पार्श्वनाथ जी की प्रतिमा और भगवान शांतिनाथ जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है।

यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में आते हैं। आप इन सभी मंदिरों के दर्शन कर सकते हैं। यह सभी मंदिर आसपास में बने हुए हैं। जैन मंदिर के पास में ही आपको घंटाई मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर वर्तमान समय में कोई भी मंदिर नहीं है। मगर यहां पर मंदिरों के स्तंभ देखने के लिए मिलते हैं, जो यहां पर मंदिर होने की बात को साबित करते हैं।

 

ब्रह्मा मंदिर खजुराहो –  Brahma Temple Khajuraho

ब्रह्मा मंदिर खजुराहो का एक छोटा सा मंदिर है। यह मंदिर खजुराहो में खजुराहो तालाब के किनारे बना हुआ है। इस मंदिर में एक बहुत ही सुंदर शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस शिवलिंग को ब्रह्मा जी की प्रतिमा भी कही जाती है और इसे शिवलिंग भी माना जाता है, क्योंकि इस शिवलिंग में चार मुख देखने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर को ब्रह्मा मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर ज्वालामुखी के पत्थरों से बना हुआ है।

 

वामन मंदिर खजुराहो – Vamana Temple Khajuraho

वामन मंदिर खजुराहो का एक छोटा सा मंदिर है। यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर में विष्णु भगवान जी के वामन अवतार के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में बगीचा बना हुआ है, जिसके बीच में मंदिर बना है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर की दीवारों में सुंदर नक्काशी की गई है, जो बहुत आकर्षक लगती है।

 

जवारी मंदिर खजुराहो – Javari Temple Khajuraho

जवारी मंदिर खजुराहो का एक छोटा सा और खूबसूरत मंदिर है। यह मंदिर वामन मंदिर के पास में है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। इस मंदिर के मुख्य गर्भगृह  में विष्णु भगवान जी की बहुत सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। मगर विष्णु भगवान जी की प्रतिमा को यहां पर खंडित कर दिया गया है। यहां पर उनके सर को अलग कर दिया गया है। इस मंदिर के चारों तरफ सुंदर बगीचा बना हुआ है। आप यहां पर आकर इस मंदिर को देख सकते हैं।

 

कुटनी बांध खजुराहो – Kutni Dam Khajuraho

कुटनी बांध खजुराहो के पास घूमने का एक मुख्य पर्यटन स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। कुटनी बांध एक सुंदर जलाशय है। कुटनी बांध एक शांत वातावरण प्रस्तुत करता है, जिससे आप यहां पर जाकर शांति का एहसास कर सकते हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है। यहां पर आकर आप मनोरंजक गतिविधियों का आनंद ले सकते हैं। यहां पर आकर आप नौकायन एवं अन्य गतिविधियों का आनंद ले सकते हैं। यह जगह फोटोग्राफी के लिए परफेक्ट है।

कुटनी बांध खजुराहो से करीब 15 किलोमीटर दूर है। यहां आप आसानी से आ सकते हैं। कुटनी बांध बहुत बड़ी एरिया में फैला हुआ है। यह बांध कुटनी नदी पर बना हुआ है। यहां पर एक रिजॉर्ट बना हुआ है, जो एमपी टूरिज्म की तरफ से ऑपरेट किया जाता है। आप यहां पर आकर बहुत मजे कर सकते हैं।

 

बेनी सागर बांध खजुराहो – Beni Sagar Dam Khajuraho

बेनी सागर जलाशय खजुराहो के पास घूमने के लिए एक शांत जगह (khajuraho me ghumne ki jagah) है। यहां पर जाकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय खजुराहो जाने वाले मार्ग में स्थित है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं।

यह मुख्य सड़क से करीब 1 किलोमीटर दूर है। यहां पर आकर आप इस जलाशय का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यह जलाशय से पहाड़ों और जंगलों से घिरा हुआ है। यहां पर शाम के समय सूर्यास्त का दृश्य देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर लगता है।

 

रनेह जलप्रपात खुजराहो – Raneh Falls Khujraho

रनेह जलप्रपात खजुराहो के पास घूमने का एक प्रमुख पर्यटन स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। यह एक सुंदर झरना है। यह झरना केन घड़ियाल सेंचुरी के अंदर स्थित है। इस झरने तक आप आसानी से आ सकते हैं। यह झरना बहुत सुंदर है।  इस झरने में प्रवेश शुल्क देना पड़ता है।

यहां पर कुछ अलग प्रकार की चट्टानें देखने के लिए मिलती हैं, जिनके ऊपर से यह झरना बहता है। यहां पर स्थित चट्टाने ज्वालामुखी चट्टाने हैं और यह चट्टाने काफी दूर तक फैली हुई है। आप इन्हें देख सकते हैं।

यहां पर आप बरसात के समय और ठंड के समय भी घूमने के लिए आ सकते हैं। इस झरने के आस-पास ढेर सारे व्यूप्वाइंट बने हुए हैं, जहां से आप झरने का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। झरने के पास में कैंटीन बनी हुई है, जहां पर चाय और काफी मिलती है। आप यहां पर आकर एंजॉय कर सकते हैं।

 

केन घड़ियाल अभ्यारण खजुराहो – Ken Gharial Sanctuary Khajuraho

केन घड़ियाल अभ्यारण खजुराहो के पास घूमने का एक दर्शनीय स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। यहां पर आपको केन नदी में घड़ियाल और मगरमच्छ देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर केन नदी का दृश्य बहुत मनोरम होता है। यहां पर वॉच टावर बने हुए हैं, जहां से आप मगरमच्छ और घड़ियाल को देख सकते हैं।

यहां पर मगरमच्छ और घड़ियाल के अलावा भी आपको अन्य जंगली जानवर भी देखने के लिए मिल जाते हैं। केन घड़ियाल अभ्यारण में प्रवेश के लिए एंट्री शुल्क लिया जाता है। यहां पर आपको गाइड भी मिल जाता है। इस अभ्यारण में बहुत सारे जंगली जानवर देख सकते हैं। यहां पर मोर, लोमड़ी, सियार और नीलगाय देखने के लिए मिल जाती है।

 

राजगढ़ का किला खजुराहो – Rajgarh Fort Khajuraho

राजगढ़ का किला खजुराहो के पास घूमने का एक ऐतिहासिक पर्यटन स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। यह किला खजुराहो के पास राजगढ़ गांव पर स्थित है। यहां पर एक प्राचीन किला देखने के लिए मिलता है। यह किला प्राइवेट प्रॉपर्टी है। आप परमिशन लेकर इस किले को देख सकते हैं।

 

पन्ना टाइगर रिजर्व खजुराहो – Panna Tiger Reserve Khajuraho

पन्ना टाइगर रिजर्व मध्य प्रदेश का एक मुख्य पर्यटन स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। पन्ना टाइगर रिजर्व खजुराहो के बहुत करीब है। पन्ना टाइगर रिजर्व का मुख्य आकर्षण बाघ है। यहां पर आपको ढेर सारे बाघ देखने के लिए मिल सकते हैं। यहां पर आकर आप सफारी का आनंद ले सकते हैं।

पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघ के अलावा अन्य जंगली जानवर भी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको जंगल, पहाड़ और केन नदी का दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप केन नदी में बोटिंग का मजा भी ले सकते हैं।

 

गगउ अभ्यारण खजुराहो – Gagau Sanctuary Khajuraho

गगउ अभ्यारण खजुराहो के पास घूमने की एक मुख्य पर्यटन स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। यह पन्ना टाइगर रिजर्व से लगी हुई एक छोटा सा अभ्यारण है। यहां पर आप आराम से जा सकते हैं। यह पन्ना छतरपुर हाईवे मार्ग पर स्थित है।

यहां पर एंट्री के लिए शुल्क लिया जाता है। आप यहां पर जाकर ढेर सारे जंगली जानवर देख सकते हैं। यहां पर जंगल का दृश्य और जंगली जानवर देखने के लिए मिलते हैं। गगउ अभ्यारण भी पन्ना नेशनल पार्क का एक हिस्सा है।

 

पांडव झरना एवं गुफा खजुराहो – Pandav Falls and Cave Khajuraho

पांडव झरना एवं गुफा खजुराहो के पास एक दर्शनीय स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। पांडव जलप्रपात खजुराहो के पास पन्ना छतरपुर मार्ग पर स्थित है। यहां पर प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर आप अपनी बाइक और कार से जा सकते हैं। यहां पर आपको गाइड की सुविधा भी मिलती है, जो आपको इस जगह के बारे में संपूर्ण जानकारी देता है।

पांडव जलप्रपात में आपको ढेर सारी जगह देखने के लिए मिलती है। यहां पर प्राचीन गुफा, सुंदर जलप्रपात, जलधारा देखने के लिए मिलती है। यहां पर जंगली जानवर देखने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर आकर अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं।

 

स्वर्गेश्वर मंदिर खजुराहो – Swargeswar Temple Khajuraho

स्वर्गेश्वर मंदिर खजुराहो के पास घूमने का एक प्रमुख धार्मिक स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर घने जंगलों के बीच में स्थित है। यह मंदिर खजुराहो के पास राजगढ़ गांव के पास में स्थित है।

इस मंदिर में आप बसंत पंचमी के समय ही जा सकते हैं, क्योंकि यहां पर बसंत पंचमी के समय बहुत सारे लोग जाते हैं और भगवान शिव के दर्शन करते हैं। यहां पर आपको चारों तरफ जंगल का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है।

यह भी पढ़े :- रीवा के प्रमुख पर्यटन स्थल

रघुवन बांध खजुराहो – Raghuvan Dam Khajuraho

रघुवन बांध खजुराहो के पास में स्थित एक पर्यटन स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह खजुराहो से करीब 20 किलोमीटर दूर होगा। आप यहां पर भी घूमने के लिए आ सकते हैं।

आप यहां पर बरसात के समय घूमने के लिए जाएंगे, तो आपके यहां पर ज्यादा मजा आएगा, क्योंकि बरसात के समय यह बांध पानी से ओवरफ्लो होकर बहता है, जिसका दृश्य देखने लायक रहता है।

 

पुरातत्व संग्रहालय खजुराहो – Archaeological Museum Khajuraho

पुरातत्व संग्रहालय खजुराहो में घूमने लायक एक प्रमुख स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। यह संग्रहालय मुख्य शहर में बना हुआ है। आप यहां पर आराम से पहुंच सकते हैं। इस संग्रहालय में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यह एक छोटा सा संग्रहालय है। यहां पर आपको ढेर सारी इनफार्मेशन मिलती है। यहां पर आपको ढेर सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं, जो बहुत सुंदर है। यहां पर चंदेल साम्राज्य के बारे में जानकारी मिलती है। अगर आपको इतिहास में रुचि है, तो आप यहां पर जरूर आएं और इस संग्रहालय में घूमे।

यह भी पढ़े :- उज्जैन के प्रसिद्ध मंदिर

आदिवर्त संग्रहालय खजुराहो – Adivarta Museum Khajuraho

आदिवर्त संग्रहालय खजुराहो में घूमने की सबसे अच्छी जगह (khajuraho me ghumne ki jagah) में से एक है। यह संग्रहालय मुख्य शहर में बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। इस संग्रहालय में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है।

इस संग्रहालय में मुख्य रूप से मध्य प्रदेश में रहने वाली विभिन्न आदिवासी जनजातियों के बारे में बताया गया है। यहां पर आपको आदिवासी जनजातियों का बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है।

यहां पर भारत में रहने वाली विभिन्न आदिवासी जनजातियों की संस्कृति, जीवन शैली, कलाकृति, धार्मिक विचार का सजीव चित्रण प्रस्तुत किया गया है।  आप यहां पर आकर बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह देख सकते हैं। आप उनके द्वारा उपयोग किए जाने वाले औजार, बर्तन, कपड़े एवं अन्य वस्तुएं देख सकते हैं। अगर आप खजुराहो में है, तो आपको इस जगह पर जरूर आना चाहिए।

यह भी पढ़े :- बालाघाट जिले के पर्यटन स्थल

खजुराहो का नाम कैसे पड़ा या खजुराहो क्यों कहा जाता है – How did Khajuraho get its name or why is it called Khajuraho?

खजुराहो को खजुराहो के नाम से क्यों जाना जाता है ? यह बहुत ही इंटरेस्टिंग प्रश्न है। खजुराहो नाम बहुत ही यूनिक है और यह नाम रखने के कारण विशेष कारण भी है। खजुराहो का खजुराहो नाम रखने के लिए दो-तीन मान्यताएं हैं। चलिए जानते हैं उनके बारे में

प्राचीन समय में मान्यता है, कि प्राचीन खजुराहो नगर के प्रवेश द्वार पर दो स्वर्ण से अलंकृत खजुराहो के वृक्ष थे, जिस कारण इस स्थान का नाम खजुराहो पड़ा।

एक अन्य उदाहरण के अनुसार सुर सुंदरियों की जंघा पर बिच्छुओं का अलंकरण है, जिसे आम बोलचाल की भाषा में खजूर कहते हैं, इससे स्पष्ट है कि सुर सुंदरियों के द्वारा खजूर को धारण करना या उसे वाहक बनाने से खजूरवाहक अथवा खजुराहो नाम पड़ा होगा।

एक मान्यता और भी है कि यहां पर प्राचीन समय में ढेर सारे खजूर के वृक्ष थे। इसलिए इसे खजुराहो के नाम से जाना जाता है। अलग-अलग लोगों के द्वारा अलग-अलग मान्यताएं हैं।

यह भी पढ़े :- कटनी जिले के पर्यटन स्थल

खजुराहो का बाजार – Khajuraho market

खजुराहो पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। खजुराहो में हर साल ढेर सारे पर्यटक घूमने के लिए आते हैं। खजुराहो में ढेर सारे पर्यटन स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। खजुराहो मुख्य शहर में खजुराहो का बाजार देखने के लिए मिलता है।

खजुराहो में आप जाते हैं, तो खजुराहो के बाजार देखने के लिए मिलता है। खजुराहो के बाजार में आपको बांस के सामान देखने के लिए मिलते हैं, क्योंकि यहां पर मैंने ज्यादातर बांस के समान ही देखे हैं।

यहां पर आपको बांस से बनी हुई साड़ी, बांस के बने हुए दुपट्टे, बांस के बने हुए सूट और बांस के बने हुए कुर्ते मिल जाते हैं। मगर यहां पर कपड़ों की क्वालिटी ज्यादा अच्छी नहीं रहती है, तो आप अपने हिसाब से यहां पर कपड़े लेना।

खजुराहो में आपको बहुत सारे एंटीक दुकानें मिल जाती हैं, जहां से आप एंटीक सामान ले सकते हैं। खजुराहो मंदिर के पास में छोटे-छोटे दुकानदार घूमते रहते हैं, जो यह एंटीक सामान आपको बेचते है। आप उनसे बारगेन करेंगे, तो आपको बहुत कम दामों में यह सामान मिल सकते हैं।

यह भी पढ़े :- मुरैना जिले के पर्यटन स्थल

खजुराहो कहां पर स्थित है – Where is Khajuraho located

खजुराहो मध्य प्रदेश का एक मुख्य स्थान है। खजुराहो मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित है। खजुराहो छतरपुर से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। खजुराहो छतरपुर पन्ना हाईवे सड़क में स्थित है। हाईवे सड़क से आपको 10 किलोमीटर से अंदर जाना पड़ता है, तो आपको खजुराहो देखने के लिए मिलता है।

यह भी पढ़े :- सीधी जिले के दर्शनीय स्थल

खजुराहो में ठहरने की व्यवस्था – Places to stay in Khajuraho

खजुराहो में ठहरने के लिए आपको होटल, लॉज और होमस्टे की सुविधा मिल जाती है।  खजुराहो में फाइव स्टार होटल बने हुए हैं, जहां पर बड़े तबके के लोग आराम से ठहर सकते हैं।

खजुराहो में सभी लोगों के ठहरने के लिए सुविधा उपलब्ध है। खजुराहो में अगर आपका बजट कम है या ज्यादा है। आपको हर तरह के रूम मिल जाएंगे। आप अपनी सुविधा के अनुसार यहां पर रूम बुक कर सकते हैं। आप यहां परऑनलाइन रूम बुक कर सकते हैं। आप यहां पर पहुंचकर भी रूम ले सकते हैं। खजुराहो में आप अपने बजट के अनुसार रूम ले सकते हैं। यहां पर आपको ₹500 से 50000 तक के रूम उपलब्ध रहते हैं। आप अपने बजट के अनुसार यहां पर रूम ले सकते हैं।

अगर आपका बजट कम है, तो आप छोटे होटलों में भी जा सकते हैं। यहां पर आपको होमस्टे भी मिल जाता है। आप यहां पर बहुत कम मूल्य पर अपनी रात बिता सकते हैं। खजुराहो के पश्चिमी मंदिर समूह के पास में ही बहुत सारे होटल है, जहां पर आप रुक सकते हैं।

यह भी पढ़े :- होशंगाबाद जिले के दर्शनीय स्थल

खजुराहो में कैसे पहुंचे – How to reach Khajuraho

खजुराहो मध्य प्रदेश का एक पर्यटन स्थल (khajuraho me ghumne ki jagah) है। खजुराहो में पहुंचने के लिए परिवहन की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर आप आसानी से पहुंच सकते हैं। खजुराहो में पहुंचने के लिए सड़क माध्यम, रेल माध्यम और हवाई माध्यम तीनों ही माध्यम आपको मिल जाते हैं।

 

सड़क मार्ग से खजुराहो कैसे पहुंचे – How to reach Khajuraho by road

खजुराहो में अगर आप सड़क माध्यम से आते हैं, तो आप पन्ना छतरपुर हाईवे मार्ग से यहां पर आ सकते हैं। पन्ना छतरपुर हाईवे मार्ग से खजुराहो करीब 10 किलोमीटर दूर पड़ता है। बमेठी से खजुराहो 10 किलोमीटर दूर पड़ता है। आप आराम से सड़क मार्ग से खजुराहो पहुंच सकते हैं।

 

रेल मार्ग से खजुराहो कैसे पहुंचे –  How to reach Khajuraho by rail

अगर आप रेल मार्ग से खजुराहो आना चाहते हैं, तो यहां पर रेलवे स्टेशन मौजूद है। रेलवे स्टेशन से खजुराहो करीब 5 किलोमीटर दूर है। रेलवे स्टेशन से आपको ऑटो मिल जाती है।

 

हवाई मार्ग से खजुराहो कैसे पहुंचे – How to reach Khajuraho by air

अगर आप हवाई माध्यम से खजुराहो आना चाहते हैं, तो यहां पर हवाई अड्डा बना हुआ है। यहां पर मुख्य शहर के पास में खजुराहो एयरपोर्ट बना हुआ है। एयरपोर्ट के पास में ढेर सारे होटल भी है।

 

खजुराहो क्यों प्रसिद्ध है – Why is Khajuraho famous

खजुराहो अपने कलात्मक मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। खजुराहो मेंप्राचीन मंदिर बने हुए हैं, जिनकी दीवारों और छतों में सुंदर मूर्ति कला देखी जा सकती है। यह मंदिर पत्थरों के बनाए गए हैं और इनमें बारीक नक्काशी की गई है। इन मंदिरों को देखने के लिए पूरे विश्व से लोग यहां पर हैं।

यह भी पढ़े :- सिरोंज के दर्शनीय स्थल

खजुराहो के प्रमुख शहरों से दूरी – Distance from major cities of Khajuraho

 

सागर से खजुराहो की दूरी कितनी है

सागर से खजुराहो की दूरी करीब 200 किलोमीटर है।

 

चित्रकूट से खजुराहो की दूरी कितनी है

चित्रकूट से खजुराहो की दूरी 160 किलोमीटर है।

 

छतरपुर से खजुराहो की दूरी कितनी है

छतरपुर से खजुराहो की दूरी 30 किलोमीटर है।

 

खजुराहो से जटाशंकर की दूरी कितनी है

खजुराहो से जटाशंकर धाम की दूरी 65 किलोमीटर है।

 

कटनी से खजुराहो की दूरी कितनी है

कटनी से खजुराहो की दूरी 162 किलोमीटर है।

 

महोबा से खजुराहो की दूरी कितनी है

महोबा से खजुराहो की दूरी 60 किलोमीटर है।

 

खजुराहो का मंदिर किसने बनवाया है

खजुराहो का मंदिर चंदेल राजाओं के द्वारा बनवाया गया है।

 

खजुराहो में कितने मंदिर हैं

खजुराहो में वर्तमान समय में 25 मंदिर है।

 

खजुराहो का मंदिर किस धर्म से संबंधित है

खजुराहो का मंदिर हिंदू और जैन धर्म से संबंधित है।

यह भी पढ़े :- सिवनी जिले के दर्शनीय स्थल

यह लेख अगर आपको अच्छा लगा हो, तो आप इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment