कानपुर में घूमने की जगह – Top 30 Kanpur me Ghumne ki Jagah

Kanpur me Ghumne ki Jagah :- कानपुर उत्तर प्रदेश का प्रमुख शहर है। इस लेख में हम आपको कानपुर में घूमने की जगह, कानपुर कैसे पहुंचे, कानपुर के प्रमुख धार्मिक स्थान और कानपुर के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानकारी देंगे।

Table of Contents

कानपुर जिले के बारे जानकारी – Information about Kanpur district

कानपुर उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। कानपुर भारत का मैनचेस्टर कहा जाता है। कानपुर एक औद्योगिक शहर है। यहां पर चमड़ा उद्योग पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है। कानपुर में गंगा नदी बहती है। कानपुर में बहुत सारे धार्मिक स्थल है। कानपुर में ढेर सारे धार्मिक स्थान है, जिनका पौराणिक महत्व है।

यहां पर वशिष्ठ ऋषि ने रामायण की रचना करी थी। इसी जगह पर सीता ने लव कुश को जन्म दिया था। यह जगह धार्मिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण है।

कानपुर में ढेर सारे पर्यटन स्थल है, जहां पर आप यात्रा कर सकते हैं। कानपुर में घूमने के लिए ऐतिहासिक, धार्मिक और प्राकृतिक जगह हैं, जहां पर आप जाकर घूम सकते हैं। इन जगहों में आप अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ जा सकते हैं। यह सभी जगह बहुत सुंदर है।

कानपुर में घूमने के लिए बहुत सारे पर्यटन स्थल है। उन सभी स्थलों के बारे में हमने इस ब्लॉग में जानकारी दी है। आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़े। ताकि आपको उन सभी जगहों के बारे में जानकारी मिले और आप अगर कानपुर घूमने का प्लान कर रहे हो, तो आप इन सभी जगहों में जाएं और घूमे।

इस ब्लॉग में हमने कानपुर में घूमने लायक प्रमुख जगह, कानपुर कैसे जाएं, कानपुर में कहां ठहरे, कानपुर में क्या प्रसिद्ध है, कानपुर में प्रसिद्ध भोजन इन सभी के बारे में बताया है।

 

कानपुर में घूमने की जगह – Kanpur me Ghumne ki Jagah

कानपुर के प्रमुख पर्यटन और दर्शनीय स्थलों की सूची – Kanpur tourist Places list in Hindi

  1. श्री राधा कृष्ण मंदिर कानपुर
  2. इस्कॉन मंदिर कानपुर
  3. कानपुर प्राणी उद्यान
  4. मोती झील कानपुर
  5. फूल बाग कानपुर
  6. कानपुर मेमोरियल चर्च
  7. मैस्कर घाट कानपुर
  8. ब्रह्मवर्त घाट कानपुर
  9. नाना राव पेशवा स्मारक एवं पार्क कानपुर
  10. वाल्मीकि आश्रम कानपुर
  11. लव कुश जन्म भूमि कानपुर
  12. सुधांशु जी मंदिर और आश्रम कानपुर
  13. कांच मंदिर कानपुर
  14. नाना राव पार्क कानपुर
  15. कारगिल पार्क कानपुर
  16. श्री बाराह देवी मंदिर कानपुर
  17. अटल घाट कानपुर
  18. ब्लू वर्ल्ड थीम पार्क कानपुर
  19. जापानी गार्डन कानपुर
  20. गंगा बैराज कानपुर
  21. जाजमऊ कानपुर
  22. कमला रिट्रीट कानपुर
  23. भीतरगांव मंदिर कानपुर
  24. ईंटों के प्राचीन दो मंदिर कानपुर
  25. नजफगढ़ घाट कानपुर
  26. धोरी घाट और हनुमान टेम्पल
  27. सिद्धनाथ टेंपल
  28. तपेश्वरी देवी मंदिर
  29. बाबा आनंदेश्वर मंदिर परमट
  30. खेरेश्वर मंदिर शिवराजपुर

 

कानपुर में घूमने लायक जगह – Kanpur me Ghumne ki Jagah

 

श्री राधा कृष्ण मंदिर कानपुर – Shri Radha Krishna Temple Kanpur

श्री राधा कृष्ण मंदिर कानपुर सर्वोदय नगर में मुख्य रोड में बना है। इस मंदिर को जेके मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर की वास्तुकला बहुत सुंदर है। इस मंदिर का निर्माण सिंघानिया परिवार की देखरेख में किया गया था। मंदिर का प्रबंधन जे के ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। मंदिर के गर्भ गृह में राधा कृष्ण जी की मूर्ति  दर्शन करने।

इस मंदिर में पांच शिखर देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही आकर्षक लगते हैं। यह मंदिर पूरा सफेद संगमरमर से बना हुआ है। इस मंदिर में भगवान शिव हनुमान जी, लक्ष्मी नारायण जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के बाहर एक बड़ा सा गार्डन बना हुआ है, जहां पर एक झील बनी हुई है और मंदिर के सामने फव्वारा भी बना हुआ है।

 

इस्कॉन मंदिर कानपुर – Iskcon temple kanpur

इस्कॉन मंदिर कानपुर का एक अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल है। इस्कॉन मंदिर कानपुर में 4 किलोमीटर दूर मैनावती में बिठूर रोड स्थित है। यह मंदिर श्री कृष्ण जी को समर्पित है। मंदिर के अंदर राधे कृष्ण जी की बहुत सुंदर प्रतिमा देखी जा सकती है। मंदिर परिसर में और भी बहुत सारे देवी देवताओं की मूर्तियां है। मंदिर के बाहर बहुत बड़ा गार्डन है और एक तालाब है और म्यूजिकल फाउंटेन देखने के लिए मिलता है। यहां जन्माष्टमी और राधा अष्टमी के समय बहुत बड़ा उत्सव मनाया जाता है।

यह पूरा मंदिर संगमरमर से बनाया गया है। यहां पर संगमरमर से बहुत सुंदर नक्काशी की गई है। मंदिर में संगीतमय फव्वारे है, जो शाम को चलाया जाता है। मंदिर में एक छोटी सी शॉप भी है, जहां से आप गिफ्ट खरीद सकते हैं। यहां पर शाकाहारी भोजन भी परोसा जाता है, जो आप यहां पर खा सकते हैं।

 

कानपुर प्राणी उद्यान – Kanpur Zoological Park

कानपुर प्राणी उद्यान कानपुर का एक प्रमुख आकर्षण स्थल है। यहां पर आप आकर बहुत सारे जंगली जानवरों को देख सकते हैं। इस चिड़ियाघर  को कानपुर जू और एलेन फॉरेस्ट जू के नाम से भी जाना जाता है। यह उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा चिड़ियाघर है। यहां पर जानवरों को उनके प्राकृतिक आवास पर रखा गया है। यहां पर प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यह उद्यान 76 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

यहां पर दरियाई घोड़ा, हिमालयन भालू, देसी भालू, गेंडा, तेंदुआ, सियार, लकड़बग्घा, सांभर, हिरण, चौसिंगा, बारहसिंघा, मगरमच्छ, बाघ, शेर   यह सभी जानवर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर मछली घर भी बना हुआ है, जहां पर मछलियों की प्रजातियां देखी जा सकती है। यहां पर हिरण की बहुत सारी प्रजाति देखी जा सकती है। इस उद्यान में टॉय ट्रेन उपलब्ध है, जिससे पूरे पार्क का चक्कर लगाया जा सकता है।

यहां पर बटरफ्लाई पार्क बना हुआ है। यहां डायनासोर पार्क बना हुआ है, जिसमें डायनासोर के स्टैचू बनाए गए हैं। यह जगह बच्चों को बहुत पसंद आने वाली है। इस पार्क में आप घूमने के लिए आएंगे, तो आपका दो-तीन घंटा आराम से लग जाएगा। इस पार्क के खुलने का समय सुबह 8:00 से शाम के 5:30 बजे तक है।

 

मोती झील कानपुर – Moti Lake Kanpur

मोती झील कानपुर के  कारगिल पार्क के पास बनी है। यह एक बहुत सुंदर झील है। यह झील अंग्रेजो के द्वारा बनाई गई थी। प्राचीन समय में पानी पीने के पानी के लिए झील का निर्माण किया गया था। यहां पर बच्चों के खेलने के लिए पार्क बना दिया गया है। झील में स्वामी विवेकानंद स्मारक भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर स्वामी विवेकानंद की मूर्ति देखने के लिए मिलती है।

झील में बोटिंग की जाती है। आप यहां पर आकर बोटिंग का मजा ले सकते हैं। इस पार्क में प्रवेश निशुल्क है। यहां पर झील के आसपास और भी बहुत सारे पार्क बने हुए हैं। यह झील कानपुर का एक पसंदीदा स्थल है। झील के किनारे बहुत सारे बदक देखे जा सकते हैं। यहां पर झील के बाहर बहुत सारे फूड स्टॉल मिल जाते हैं, जहां पर आपको खाने पीने का सामान मिलता है।

 

फूल बाग कानपुर – Phool Bagh Kanpur

फूल बाग कानपुर का एक ऐतिहासिक स्थान है। यह पार्क कानपुर रेलवे स्टेशन के करीब स्थित है। इस जगह में सबसे अधिक राजनीतिक रैलियों और सार्वजनिक बैठकों का आयोजन हुआ है। फूल बाग को 19वीं शताब्दी में ब्रिटिश प्रशासन के मनोरंजन के लिए बनाया गया था। यहां पर कानपुर संग्रहालय भी बना हुआ है, जहां पर बहुत सारी प्राचीन वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिलेगा।

फूल बाग को श्री गणेश शंकर विद्यार्थी उद्यान के नाम से जाना जाता है। यह पार्क बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इस पार्क में एक भवन बना है। इस भवन को प्राचीन समय में किंग एडवर्ड VII के नाम से जाना जाता था। इस भवन का नाम बदलकर गांधी स्मारक रख दिया गया है।

यहां पर बहुत सारे स्वतंत्रता सेनानियों की मूर्तियां देखी जा सकती है। इस पार्क में विभिन्न तरह के पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यहां पर बच्चों के लिए प्ले एरिया भी बनाया गया है। यहां पर एक छोटा सा तालाब बना हुआ है।  इस पार्क के खुलने का समय सुबह के 7 बजे से शाम के 7 बजे तक रहता है।

 

कानपुर मेमोरियल चर्च – Kanpur Memorial Church

कानपुर मेमोरियल चर्च कानपुर का एक प्राचीन स्थल है। यह ईसाइयों का एक धार्मिक स्थल है। यह चर्च अट्ठारह सौ सत्तावन की क्रांति में शहीद हुए लोगों को समर्पित किया गया है। यह चर्च 1875 में ब्रिटिश लोगों के द्वारा बनाया गया है। यह चर्च कानपुर के कंटोनमेंट एरिया में बना हुआ है।

चर्च का डिजाइन गोथिक स्टाइल में बना हुआ है। यह चर्च बहुत सुंदर है। चर्च के अंदर एक बड़ा सा प्रार्थना हॉल बना हुआ है, जहां पर सभी लोग बैठकर प्रार्थना करते हैं। यह चर्च लाल पत्थरों से बना हुआ है। चर्च के बाहर एक बहुत बड़ा ओपन एरिया है।

 

मैस्कर घाट कानपुर – Maiskar Ghat Kanpur

मैस्कर घाट कानपुर का एक ऐतिहासिक घाट है। यह घाट गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। इस घाट में १८५७ की क्रांति के समय 300 ब्रिटिश सैनिकों के द्वारा कत्लेआम किया गया था। यहां पर पुरुष, महिला और बच्चों का कत्ल कर दिया गया था, जो भी लोग इस कत्लेआम से बचे थे।  उन्हें बाद में बीवीघर में मार दिया गया था। इस भयानक नरसंहार के कारण इस घाट को मैस्कर घाट कहा जाता था।

आजादी के बाद, इस घाट का नाम बदलकर नाना राव घाट रख दिया गया। यह घाट वर्तमान में बहुत सुंदर है। यहां पर बहुत साफ-सफाई है। यहां पर आप आकर अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। यहां पर बोटिंग भी की जाती है। यहां पर मंदिर बने हुए हैं, जहां पर आप घूम सकते हैं।

 

ब्रह्मवर्त घाट कानपुर – Brahmavart Ghat Kanpur

ब्रह्मवर्त घाट कानपुर सिटी के बिठूर में, गंगा नदी के किनारे बना हुआ एक सुंदर घाट है। यहां पर ब्रह्मा जी का मंदिर बना हुआ है। इसलिए इस जगह को ब्रह्मा खूंटी के नाम से भी जाना जाता है। इस घाट को ब्रह्म तीर्थ के नाम से भी जाना जाता है। इस जगह के बारे में प्राचीन मान्यता है, कि जब सबसे पहले ब्रह्मा जी पृथ्वी आए थे, तो यहीं पर आए थे। यहां पर उनके चरण चिन्ह के दर्शन भी किए जा सकते हैं। यहां पर शाम के समय गंगा माता की महाआरती होती है। ब्रह्मवर्त घाट बहुत सुंदर है। यहां पर आप नाव के सवारी का भी आनंद ले सकते हैं।

ब्रह्मवर्त घाट में आकर स्नान करने से, जो भी पाप किए होते हैं। वह मिट जाते हैं। इस घाट में आकर बहुत सारे रिती रिवाज, पुण्य कर्म किया जाते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर गंगा नदी का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है।

 

नाना राव पेशवा स्मारक एवं पार्क कानपुर – Nana Rao Peshwa Memorial and Park Kanpur

नाना राव पेशवा स्मारक एवं पार्क कानपुर के बिठूर में स्थित है। यह पार्क एवं स्मारक प्राचीन है। यहां पर एक बहुत बड़ा और सुंदर पार्क बना हुआ है और स्मारक को संग्रहालय में बदल दिया गया है। यहां पर योग और ध्यान केंद्र भी देखने के लिए मिलता है। पार्क में बच्चों के लिए चिल्ड्रन पार्क बना हुआ है, जिनमें बच्चे लोगों के झूले और फिसल पट्टी बनी हुई है। यहां पर नौका विहार की सुविधा भी उपलब्ध है।

संग्रहालय में बहुत सारी पुरानी वस्तुएं देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर प्राचीन आभूषण, रानी लक्ष्मीबाई की असली तस्वीर, प्राचीन सिक्के, पेंटिंग, पुरानी मशीन, पुराने नोट यह सभी चीजें देखने के लिए मिलती है और आप यहां पर आकर बहुत सारी जानकारी हासिल कर सकते हैं। यहां पर नाना साहब, तात्या टोपे और रानी लक्ष्मीबाई की मूर्तियां भी बनी हुई है। यहां पर उनके जीवन परिचय लिखे हुए हैं। यह जगह महल के रूप में बनी हुई है और बहुत सुंदर लगती है।

 

वाल्मीकि आश्रम कानपुर – Valmiki Ashram Kanpur

वाल्मीकि आश्रम कानपुर के बिठूर में स्थित है। यह आश्रम वाल्मीकि जी का है। यहां पर वाल्मीकि जी ने रामायण की रचना करी थी। जब श्री राम जी ने, माता सीता जी को त्याग दिया था, तो ऋषि वाल्मीकि जी ने सीता जी को शरण दी थी। यहां पर लव कुश का जन्म हुआ है। लव कुश ने अपनी शिक्षा दीक्षा यहीं पर पूरी की है। यहां पर वाल्मीकि जी ने पिता राम और पुत्र लव कुश का मिलन करवाया है।

यहां पर सीता जी ने धरती पर प्रवेश होने किया था। आज भी वह कुंड यहां देखा जा सकता है। इस मंदिर का पुनर्निर्माण पेशवा बाजीराव द्वितीय द्वारा करवाया गया है। मंदिर के गर्भ गृह में काले रंग के शिवलिंग के दर्शन किए जा सकते हैं। यह शिवलिंग मध्यकालीन माना जाता है। यहां पर सीता रसोई और सीता स्तंभ भी देखने के लिए मिलेगा।

 

लव कुश जन्म भूमि कानपुर – Luv Kush Janmabhoomi Kanpur

लव कुश जन्म भूमि कानपुर के बिठूर में स्थित है। इस जगह के बारे में कहा जाता है, कि यहां पर लव और कुश का जन्म हुआ था। यहां पर श्री राम जी, श्री लवकुश जी, माता सीता जी, लक्ष्मण जी, सुग्रीव जी, शंकर भगवान जी, संकट मोचन हनुमान जी की मूर्तियां रखी गई है और आप इन सभी के दर्शन कर सकते हैं। यहां से थोड़ी ही दूरी पर महर्षि वाल्मीकि जी का आश्रम भी बना हुआ है। यह जगह धार्मिक महत्व रखती है। यहां पर बरगद का प्राचीन पेड़ देखने के लिए मिलेगा, जिसे 12 बीघा बरगद के नाम से जाना जाता है।

 

सुधांशु जी मंदिर और आश्रम कानपुर – Sudhanshu Ji Temple and Ashram Kanpur

सुधांशु जी मंदिर और आश्रम कानपुर में बिठूर में स्थित है। यहां पर हिंदू देवी-देवताओं की बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर बहुत अच्छी तरह से प्रबंधित किया गया है। यहां पर शिव जी, पार्वती जी, गणेश जी, कार्तिकेय जी के दर्शन करने के लिए मिलेंगे।

यहां पर एक मानव निर्मित छोटा सा जलप्रपात भी बनाया गया है। यहां पर एक गुफा देखने के लिए मिलती है। यहां पर रामायण के बहुत सारे दृश्य को चित्रित किया गया है। यह जगह बहुत अच्छी हैं और यहां पर आप आकर घूम सकते हैं।

 

कांच मंदिर कानपुर – Kanch Mandir Kanpur

कांच मंदिर कानपुर शहर के बीचो बीच बना हुआ है। यह मंदिर पूरे कानपुर में ग्लास मंदिर और कांच मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है। यह पूरा मंदिर कांच से बना हुआ है और यहां पर कांच की बहुत सुंदर सुंदर आकृतियां बनाई गई है। यहां पर रंग-बिरंगे कांच का इस्तेमाल किया गया है। यहां पर ॐ और स्वास्तिक जैसी आकृतियां देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर महावीर स्वामी जी को समर्पित है। इस मंदिर में जैन तीर्थ कारों की प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती है।

 

नाना राव पार्क कानपुर – Nana Rao Park Kanpur

नाना राव पार्क कानपुर का एक प्रमुख पार्क है। इस पार्क को कंपनी बाग के नाम से भी जाना जाता है। यह पार्क मुख्य रूप से पेशवा नाना राव जी को और 1857 की क्रांति में शहीद हुए वीर जवानों को समर्पित है। इस पार्क में म्यूजियम बना हुआ है, जहां पर बहुत सारी प्राचीन वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको मेमोरियल वॉल देखने के लिए मिलेगी।

इस पार्क में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। पार्क में आपको एक बूढा बरगद देखने के लिए मिलता है। यह पेड़ बहुत पुराना है। माना यह जाता है, कि यह पेड़ 1857 की क्रांति से भी ज्यादा पुराना है और इसने बहुत सारी लड़ाईया देखी है। यहां पर फव्वारा देखने मिलेगा। इस पार्क में आप आ कर इंजॉय कर सकते हैं।

 

कारगिल पार्क कानपुर – Kargil Park Kanpur

कारगिल पार्क कानपुर का एक प्रमुख पार्क है। यह पार्क कानपुर में हमारे वीर जवानों को सम्मान देने के लिए बनाया गया है। इस पार्क में एक बड़ा सा स्तंभ बनाया गया है, जिसमें हमारे वीर शहीदों के नामों को लिखा गया है। यहां पर कारगिल में शहीद हुए वीर जवानों की तस्वीर भी देखी जा सकती है।

यह उद्यान बहुत बड़ा है और उद्यान में चारों तरफ पेड़ पौधे लगाए गए हैं। यहां पर बहुत सारे झूले भी हैं, जिनमें बच्चे इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर आप अपना समय शांति से बिता सकते हैं।

 

श्री बाराह देवी मंदिर कानपुर – Shri Barah Devi Temple Kanpur

श्री बाराह देवी मंदिर कानपुर का एक फेमस मंदिर है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर 1700 साल पुराना है। यह मंदिर बाराह देवी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत ही सुंदर तरीके से बना हुआ है। मंदिर में विष्णु भगवान जी की सुंदर प्रतिमा देखी जा सकती है, जिसमें विष्णु भगवान जी शेष शैया में लेटे हुए हैं। यहां पर महिषासुर मर्दिनी और शिव पार्वती की प्रतिमा भी देखी जा सकती है। नवरात्रि के समय यहां मेला भरता है और बहुत सारे लोग आते हैं।

 

अटल घाट कानपुर – Atal Ghat Kanpur

अटल घाट कानपुर में गंगा नदी के किनारे बना हुआ एक सुंदर घाट है। इस घाट में बोटिंग की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर छोटा सा गार्डन भी बना हुआ है, जहां पर आप जाकर शांति से गंगा नदी का दृश्य देख सकते हैं। यहां पर आकर अपना समय अच्छा बताया जा सकता है।

 

ब्लू वर्ल्ड थीम पार्क कानपुर – Blue World Theme Park Kanpur

ब्लू वर्ल्ड थीम पार्क कानपुर शहर से 22 किलोमीटर दूर बना हुआ है। ब्लू वर्ल्ड थीम पार्क कानपुर का एक सुंदर पार्क है। यह पर 25 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। इस पार्क में विभिन्न तरह के झूले देखने के लिए मिलते हैं। इस पार्क में विभिन्न राइड और फाउंटेन शो देखे जा सकते हैं।

यहां पर आप अपनी फैमिली और फ्रेंड्स के साथ आकर इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर एक रेस्तरां बना हुआ है, जहां पर खाने पीने का बहुत सारा आइटम मिलता है। यहां पर आपको वेब पूल देखने के लिए मिल जाएगा, जहां पर समुद्र की लहरें आती है। यह बहुत मनोरंजक होता है। यहां पर गर्मी में बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं।

 

जापानी गार्डन कानपुर – Japanese Garden Kanpur

जापानी गार्डन कानपुर में मोती झील के किनारे बना हुआ है। जापानी गार्डन जापानी वस्तुकला में बनाया गया है। इसलिए इससे जापानी गार्डन के नाम से जाना जाता है। यह गार्डन बहुत बड़ा और बहुत सुंदर है। यहां पर बच्चों के खेलने के लिए प्ले एरिया बनाया गया है।

यहां पर बहुत सारे झूले हैं। यहां पर झील भी बनी हुई है। यहां पर आप आकर झील का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर शाम को समय बहुत सारे लोग आते हैं। यह पार्क सुबह 8:00 बजे से 6:00 बजे तक खुला रहता है।

 

गंगा बैराज कानपुर – Ganga Barrage Kanpur

गंगा बैराज कानपुर का एक फेमस स्पॉट है। गंगा बैराज मरीन ड्राइव के रूप में जाना जाता है। इस बैराज को लव कुश बैराज के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर गंगा नदी का भव्य स्वरूप देखने के लिए मिलता है। यहां पर शाम के समय बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं।

यहां पर बहुत सारे स्ट्रीट शॉप भी लगता है, जहां पर खाने का बहुत सारा आइटम मिलता है। यहां पर आप शाम के समय आकर घूम सकते। आपको मजा आएगा। यहां पर प्रवेश शुल्क नहीं लिया जाता है। बरसात में  यह जगह  और भी ज्यादा सुंदर लगती है।

 

जाजमऊ कानपुर – Jajmau Kanpur

जाजमऊ कानपुर का एक औद्योगिक नगर है। यह नगर चमड़े के उद्योग के लिए प्रसिद्ध है। यहां पर चमड़े का बाजार देखने के लिए मिलता है। यहां पर जाजमऊ में पुरानी मस्जिद भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर गंगा नदी का घाट भी देखा जा सकता है। इस नगर में जाजमऊ का पुराना किला देखने के लिए मिलता है, जो प्राचीन है और इस किले में आप घूमने के लिए जा सकते हैं।

 

कमला रिट्रीट कानपुर – Kamala Retreat Kanpur

कमला रिट्रीट कानपुर का एक सुंदर महल है। यह महल सिंघानिया परिवार की एक निजी प्रॉपर्टी है। यह महल बहुत सुंदर है। इसमें अगर आप घूमना चाहते हैं, तो आपको पहले परमिशन लेनी पड़ेगी। उसके बाद ही आप यहां पर घूम सकते हैं।

यह महल बहुत अच्छी तरह से बनाया हुआ है और महल में सिंघानिया परिवार के द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली बहुत सारी वस्तुओं को संभाल के रखा गया है। यहां पर एक स्विमिंग पूल बना हुआ है। यहां पर बाहर एक बड़ा बगीचा बना हुआ है।

 

भीतरगांव मंदिर कानपुर – Bhitargaon Temple Kanpur

भीतरगांव मंदिर कानपुरके पास घूमने का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर कानपुर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर भीतरगांव नाम के गांव में बना हुआ है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। यह मंदिर बहुत अच्छी तरह से बना हुआ है।

भीतरगांव मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर को ईंटों के द्वारा बनाया गया है। यह मंदिर गुप्त साम्राज्य के द्वारा छठवीं शताब्दी में निर्मित किया गया था। यह सबसे पुराना टेराकोटा हिंदू मंदिर है। यह मंदिर पूर्व मुखी है। मंदिर के गर्भगृह के ऊपर ऊंचा पिरामिड नुमा शिखर बना है। मंदिर की दीवारों में भगवान विष्णु के वराह अवतार, चार भुजाओं वाली देवी दुर्गा और चार भुजाओं वाले भगवान गणेश और शिव का अंकन मिलता है। आप अपने कानपुर की यात्रा में इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं।

 

ईंटों के प्राचीन दो मंदिर कानपुर – Two ancient brick temples, Kanpur

ईंटों के प्राचीन दो मंदिर कानपुरके पास घूमने का एक मुख्य स्थान है। यह कानपुर से करीब 30 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर आराम से अपने वाहन से पहुंच सकते हैं। यह मंदिर कानपूर के पास कुर्था गांव में बने हुए हैं।

यह मंदिर प्राचीन है। इन मंदिरों को संरक्षित करके रखा गया है। आप यहां पर आकर इन मंदिरों के अवशेष देख सकते हैं। यहां पर मंदिर के टूटे हुए अवशेष बिखरे पड़े हुए हैं। यह मंदिर ऊंची चबूतरे के ऊपर बने हुए हैं। मंदिर की दीवारों में सुंदर नक्काशी की गई है, जो देखा जा सकता है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है। यह मंदिर बहुत बड़ा एरिया में है। इस मंदिर को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा संरक्षित किया गया है।

 

नजफगढ़ घाट कानपुर – Najafgarh Ghat Kanpur

नजफगढ़ घाट कानपुर का मुख्य आकर्षण स्थल है। नजफगढ़ घाट कानपुर में गंगा नदी के किनारे बना हुआ एक सुंदर घाट है। आप यहां पर आराम से पहुंच सकते हैं। नजफगढ़ घाट सरसौल के पास स्थित है। यह सरसौल से करीब 7 किलोमीटर अंदर स्थित है। आप यहां पर सड़क मार्ग से पहुंच सकते हैं।

नजफगढ़ घाट बहुत ही आकर्षक है। नजफगढ़ घाट में ज्यादा भीड़भाड़ नहीं होती है। यहां पर आप नहाने का आनंद उठा सकते हैं। यहां पर महिलाएं और पुरुष आराम से नहा सकते हैं। महिलाओं के लिए यहां पर चेंजिंग रूम बना हुआ है। यहां पर मंदिर भी बना हुआ है।

यहां पर भोले बाबा का मंदिर बना हुआ है, जहां पर आप भोले बाबा का दर्शन कर सकते हैं। माना जाता है कि यह मंदिर बहुत प्राचीन है। यहां पर आकर आप प्राकृतिक नजारे का आनंद उठा सकते हैं। अगर आप कानपुर की यात्रा कर रहे हैं, तो अपनी यात्रा में इस जगह को भी शामिल कर सकते हैं।

 

धोरी घाट और हनुमान मंदिर कानपुर – Dhori Ghat and Hanuman Temple Kanpur

धोरी घाट और हनुमान मंदिर कानपुर के पास घूमने का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह घाट और मंदिर कानपुर से करीब 20 किलोमीटर दूर गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यहां पर आने के लिए सड़क मार्ग बना हुआ है।

मंदिर तक की यात्रा बहुत ही सुखद रहती है। आप यहां पर आराम से अपने वाहन से पहुंच सकते हैं। यहां पर पहुंचकर आपको गंगा नदी पर बना हुआ एक सुंदर घाट देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही आकर्षक है। यहां पर आप नहाने का आनंद उठा सकते हैं। यहां पर आप बैठकर गंगा नदी का सुंदर दृश्य देख सकते हैं।

घाट के पास में ही आपको हनुमान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह हनुमान मंदिर भी बहुत प्राचीन है और इस मंदिर को लेकर बहुत सारी मान्यताएं हैं। कहा जाता है कि यहां पर कोई भी भक्त गुरु पूर्णिमा के दिन गंगा में स्नान करने के बाद भगवान बजरंग बली के दर्शन करता है, तो उसके हर रोग दूर हो जाते हैं।

इस मंदिर के बारे में माना जाता है, की गंगा नदी में कितनी भी बाढ़ क्यों न जाए, मगर नदी का पानी सीढ़यों के नीचे ही रहता है। मंदिर के अंदर पानी नहीं जाता है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।

इस हनुमान मंदिर में हर साल गुरु पूर्णिमा के दिन मेला भरता है, जिसमें बहुत सारे श्रद्धालु मेले में भाग लेते हैं। यहां पर हनुमान जी की पत्थर की मूर्ति विराजमान है। इस मंदिर में आकर अच्छा लगता है। मंदिर एवं घाट का माहौल बहुत अच्छा है और सकारात्मक है। यहां पर आकर आपको शांति का एहसास होगा। यहां पर ज्यादा भीड़भाड़ नहीं रहती है। अगर आप कानपुर यात्रा कर रहे हैं, तो आप इस जगह को भी अपनी यात्रा में शामिल कर सकते हैं।

 

सिद्धनाथ मंदिर कानपुर – Siddhnath Temple Kanpur

सिद्धनाथ मंदिर कानपुर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। सिद्ध नाथ मंदिर कानपुर शहर से 15 किलोमीटर दूर जाजमऊ रोड पर स्थित है। यहां मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है। इस मंदिर में आप आ सकते हैं।

यह एक निजी मंदिर है। इस मंदिर में आप आकर भगवान भोलेनाथ के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर आपको स्फटिक शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में आकर अच्छा लगता है। यहां पर महाशिवरात्रि और सावन के समय बहुत सारे लोग यहां पर आते हैं।

यह भी पढ़े :- चंदौली के प्रमुख दर्शनीय स्थल

तपेश्वरी माता मंदिर कानपुर – Tapeshwari Mata Temple Kanpur

तपेश्वरी माता मंदिर कानपुर में घूमने का प्रसिद्ध और प्राचीन मंदिर है। तपेश्वरी माता मंदिर कानपुर में बिरहाना रोड में पटकापुर में बना हुआ है। इस मंदिर में आप आराम से आ सकते हैं। यह मंदिर घनी बस्ती वाले क्षेत्र में स्थित है।

इस मंदिर में आकर बहुत अच्छा लगता है। इस मंदिर में आकर आपको मां दुर्गा के रूप तपेश्वरी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर नवरात्रि के समय बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे लोग यहां पर माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। नवरात्रि के समय मंदिर को बहुत ही अच्छी तरह से सजाया जाता है।

तपेश्वरी मंदिर को लेकर मान्यता है, कि जब भगवान श्री राम ने माता सीता को अयोध्या से निर्वासित किया था। तब वह बिठूर में रुकी थी। माता सीता प्रतिदिन इस मंदिर में आया करती थी और तपस्या किया करती थी। अपने दोनों पुत्रों का मुंडन संस्कार भी उन्होंने इस मंदिर में किया था।

माता सीता यहां पर कमला, विमला, सरस्वती नाम की तीन अन्य स्त्रियों के साथ तपस्या किया करती थी। इस कारण इस मंदिर को तपेश्वरी मंदिर कहा जाता है। इस मंदिर में कमला, विमला, सरस्वती और माता सीता की मूर्तियां विराजमान है। आप इस मंदिर में आकर घूम सकते हैं। अगर आप कानपुर की यात्रा कर रहे हैं, तो अपनी यात्रा की लिस्ट में इस मंदिर को जरूर शामिल करें।

यह भी पढ़े :- शामली के प्रमुख दर्शनीय स्थल

बाबा आनंदेश्वर मंदिर कानपुर – Baba Anandeshwar Temple Kanpur

बाबा आनंदेश्वर मंदिर कानपुर का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर कानपुर में गंगा नदी के तट में बना हुआ है। यह मंदिर परमट मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर में आप आराम से आ सकते हैं। यह मंदिर बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है।

इस मंदिर में आपको भोले बाबा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको प्राचीन शिवलिंग देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही आकर्षक है। इस मंदिर को लेकर एक कहानी प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि यह मंदिर महाभारत कालीन है।

यहां पर प्राचीन समय में दानवीर कर्ण भगवान शिव की पूजा करने के लिए आते थे। दानवीर कर्ण गंगा नदी में स्नान करके भगवान शिव की पूजा करते थे। इस मंदिर में वर्तमान में बहुत सारे लोगों के दर्शन के लिए लाइन लगा कर आते हैं और भगवान शिव के दर्शन करते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है और शांति मिलती है।

यहां पर गंगा नदी पर सुंदर घाट बना हुआ है, जहां पर जाकर आप नौकायन का आनंद ले सकते हैं। यह कानपुर के सबसे शांत और सकारात्मक जगह में से एक है। यहां पर आप अपने फैमिली और दोस्तों के साथ आकर अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- अयोध्या में घूमने की जगह

खेरेश्वर शिव मंदिर कानपुर – Khereshwar Shiv Temple Kanpur

खेरेश्वर शिव मंदिर कानपुर के पास घूमने का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर कानपुर के पास शिवराजपुर में बना हुआ है। यह मंदिर अपने चमत्कारों के लिए प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि यहां पर प्रतिदिन सुबह के समय अश्वत्थामा आते हैं, जो आठ चरंजीवियों में से एक है। वह यहां पर भगवान शिव की पूजा करने के लिए आते हैं। यहां पर सुबह जब पुजारी गेट खोलते हैं, तो शिवजी पर ताजे फूल और जल चढ़ा हुआ मिलता है।

यह मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर के पास में एक तालाब बना हुआ है, जहां पर कमल के फूल लगे हुए हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। इस मंदिर में महाशिवरात्रि और सावन के समय बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे लोग यहां पर आते हैं। आप भी यहां पर जाकर भगवान शिव के दर्शन कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- संत कबीर नगर में घूमने की जगह

कानपुर कैसे जाएं – How to reach Kanpur

कानपुर उत्तर प्रदेश का प्रमुख जिला है। कानपुर अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप उत्तर प्रदेश राज्य के अन्य जिलों से कानपुर आसानी से पहुंच सकते हैं। कानपुर में पहुंचने के लिए बहुत सारे माध्यम उपलब्ध है। यहां पर सड़क मार्ग, वायु मार्ग और रेल मार्ग से पहुंचा जा सकता है।

कानपुर में वायु मार्ग से कैसे पहुंचे – How to reach Kanpur by air

कानपुर पहुंचने के लिए वायु मार्ग उपलब्ध है। यहां पर एक छोटा सा हवाई अड्डा बना हुआ है, जहां पर बहुत लिमिटेड फ्लाइट आती हैं।  यह हवाई अड्डा कानपुर में चकेरी में बना हुआ है। आप यहां पर फ्लाइट के द्वारा आ सकते हैं और अगर आपको यहां पर फ्लाइट नहीं मिल रही है, तो आप लखनऊ आ सकते हैं। लखनऊ कानपुर से 80 किलोमीटर दूर है। लखनऊ में आप आकर, उसके बाद कैब के द्वारा या बस के द्वारा कानपुर पहुंच सकते हैं।

कानपुर में सड़क मार्ग से कैसे पहुंचे – How to reach Kanpur by road

कानपुर सड़क मार्ग द्वारा देश के मुख्य शहरों से कनेक्टेड है। कानपुर में नेशनल हाईवे 2, और नेशनल हाईवे 25 गुजरता है। कानपुर मुख्य शहरों जैसे – लखनऊ, इलाहाबाद, वाराणसी, आगरा मुख्य सिटी से सड़क मार्ग द्वारा सकते हैं। आप यहां बस के द्वारा आ सकते हैं। यहां आने के लिए बस की सुविधा उपलब्ध है। आपको यहां पर आने के लिए लोकल और सरकारी बसें मिल जाएगी।

कानपुर में रेल मार्ग से कैसे पहुंचे – How to reach Kanpur by rail

कानपुर में, कानपुर सेंट्रल रेलवे स्टेशन बना हुआ है। यह स्टेशन मुख्य शहर से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। यह रेलवे स्टेशन मुख्य सिटी में बना हुआ है। आप देश की किसी भी शहर से यहां पर आ सकते हैं। यहां पर लोकल एवं सुपरफास्ट दोनों ही ट्रेनें चलती हैं। इस रेलवे स्टेशन में अच्छी सुविधाएं उपलब्ध हैं और रेलवे स्टेशन के बाहर आपको ऑटो या कैब मिल जाती है।

यह भी पढ़े :- मैनपुरी में घूमने की जगह

कानपुर में कहा ठहरे – Where to stay in Kanpur

कानपुर में ठहरने के लिए बहुत सारे होटल मिल जाते हैं। कानपुर में आप आकर अपने बजट के अनुसार होटल में रुक सकते हैं। यहां पर धर्मशालाएं बनी हुई है, जहां पर बहुत कम प्राइस में आप रुक सकते हैं। आप होटल की बुकिंग ऑनलाइन कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- अलीगढ़ के प्रमुख दर्शनीय स्थल

कानपुर में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Kanpur

कानपुर में घूमने का सबसे अच्छा समय ठंड का रहता है। आप यहां पर अक्टूबर से मार्च तक घूम सकते हैं। कानपुर में गर्मी के समय बहुत ज्यादा टेंपरेचर हाई रहता है, जिससे आप गर्मी के समय यहां घूमेंगे, तो आपको धूप और उमस के अलावा और कुछ नहीं मिलेगा। इसलिए आप यहां पर ठंड में आकर आराम से घूम सकते हैं। आपको यहां मजा आएगा।

यह भी पढ़े :- अलीराजपुर में घूमने की जगह

कानपुर कहां पर है – Where is Kanpur

कानपुर उत्तर प्रदेश का एक मुख्य शहर है। कानपुर उत्तर प्रदेश राज्य में गंगा नदी के किनारे स्थित है। कानपुर में  पहुंचने के लिए बहुत सारे साधन है।

यह भी पढ़े :- इटावा में घूमने की जगह

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे, तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment