जींद के प्रमुख दर्शनीय स्थल – Top 10 Jind me Ghumne ki Jagah

Jind me Ghumne ki Jagah :- जींद हरियाणा का एक प्रमुख जिला है। इस लेख में हम आपको जींद जिले में घूमने की प्रमुख जगह (jind me ghumne ki jagah), जींद जिले के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल, जींद जिला कैसे जाएं और जींद जिले के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानकारी देंगे।

Table of Contents

जींद जिले की जानकारी – Information about Jind district

जींद हरियाणा राज्य का एक प्रमुख जिला है। जींद भारत देश की राजधानी दिल्ली से करीब 123 किलोमीटर दूर है। जींद एक प्राचीन नगर है। इस नगर की स्थापना महाभारत काल के समय पर की गई थी।  पौराणिक कथा के अनुसार, पांडवों ने यहां पर जयंती देवी का मंदिर बनवाया था।

कौरव और पांडवों का युद्ध हुआ, जिसमें पांडव ने अपनी सफलता के लिए, माता से प्रार्थना की थी। जींद शहर को पहले जैतपुरी के नाम से जाना जाता था। फिर इसका नाम बदलकर जींद हो गया।

जींद में घूमने के लिए बहुत सारे पर्यटन स्थल (jind me ghumne ki jagah) हैं, जहां पर जाकर अच्छा वक्त व्यतीत किया जा सकता है। इस ब्लॉग में हमने जींद में घूमने वाले प्रमुख स्थल (jind me ghumne ki jagah), जींद कैसे पहुंचे, जींद घूमने का सबसे अच्छा समय, जींद में कहा ठहरे, जींद कहां पर है, इन सभी की जानकारी दी है। आप इस ब्लॉग को पूरा पढ़े। ताकि आपको पूरी जानकारी मिल सके।

 

जींद में घूमने की जगह – Jind me Ghumne ki Jagah

जींद के प्रमुख दर्शनीय और पर्यटन स्थलों की सूची – Jind tourist Places list in Hindi

  1. भूतेश्वर शिव मंदिर जींद
  2. हर्बल पार्क जींद
  3. पांडू पिंडारा जींद
  4. सफीदों तीर्थ स्थल जींद
  5. गुरुद्वारा साहिब जींद
  6. शहीद स्मारक जींद
  7. जयंती देवी मंदिर जींद
  8. राम राय जींद
  9. नेहरू पार्क जींद
  10. गुरुद्वारा धमतान साहिब जींद

 

भूतेश्वर शिव मंदिर जींद – Bhuteshwar Shiv Temple Jind

भूतेश्वर शिव मंदिर जींद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर जींद जिले में अर्जुन स्टेडियम के पास में बना हुआ है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर तालाब के बीच में बना हुआ है। इस तालाब को रानी तालाब के नाम से जाना जाता है। इस तालाब में बोटिंग की सुविधा उपलब्ध है।

यहां पर मंदिर तक जाने के लिए पुल बनाया गया है। मंदिर में शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर जींद शहर के बीचो बीच बना हुआ है। इस मंदिर का निर्माण जींद के राजा रघुवीर सिंह ने करवाया था।

इस मंदिर को इस तरह से डिजाइन किया गया था, की रानी इस मंदिर में शिव भगवान जी के दर्शन करके, अपने महल वापस लौट जाया करती थी। बिना किसी को देखे। यहां पर वर्तमान समय में बहुत सारे लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं और यहां पर सोमवार और महाशिवरात्रि, सावन सोमवार के समय बहुत ज्यादा भीड़ लगती है।

यह मंदिर बहुत ही अच्छे तरीके से बना हुआ है और यहां आकर अच्छा लगता है। शाम के समय मंदिर में लाइट जलती है, जो इस जगह को और भी ज्यादा खूबसूरत बना देती है।

 

हर्बल पार्क जींद – Herbal Park Jind

हर्बल पार्क जींद जिले का एक मुख्य आकर्षण स्थल (jind me ghumne ki jagah) है। यह पार्क जींद जिले में भारतीय योग संस्थान केंद्र के पास बना हुआ है। यहां पर बहुत सारे पेड़ पौधों की प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। यहां पर मेडिकल प्लांट, घर को सजाने वाले प्लांट, बहुत सारे फूलों वाले पौधे, मसाले वाले पौधे देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह चारों तरफ पेड़ पौधों से घिरी हुई है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं और यहां आकर योगा करते हैं।

 

पांडू पिंडारा जींद – Pandu Pindara Jind

पांडु पिंडारा जींद का एक टूरिस्ट एक तीर्थ स्थल है। यह jind-gohana मार्ग पर स्थित है। यह जगह बहुत पवित्र है। यहां पर एक बड़ा सा तालाब देखने के लिए मिलता है। इसे तालाब के बारे में कहा जाता है, कि यहां पर पांडवों ने अपने रिश्तेदारों का, जो युद्ध में मारे गए थे। उनका पिंडदान यहां पर किया था। यहां पर सोमवती अमावस्या के दिन बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे लोग यहां पर आते हैं। इस तालाब के किनारे बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं।

 

सफीदों तीर्थ स्थल जींद – Safidon Pilgrimage Place Jind

सफीदों तीर्थ स्थल जींद का एक प्रमुख स्थान (jind me ghumne ki jagah) है। सफीदों शहर का संबंध महाभारत काल से रहा है। इस शहर को पुराणों एवं महाभारत में सर्पद   देवी अथवा सर्पदधि नाम से उल्लेखित किया गया है। आज यह स्थान सफीदों के नाम से जाना जाता है। संभवत सर्पदमन से इसका नाम सफीदों पड़ा।

महाभारत के नायक पांडू पुत्र अर्जुन के पुत्र अभिमन्यु की सब लोग जानते हैं। उसी अभिमन्यु के पुत्र, राजा परीक्षित थे और राजा परीक्षित के पुत्र जन्मजेय ने, इसी स्थान पर अपने पिता परीक्षित की मृत्यु का बदला लेने के लिए, महा सर्पदमन यज्ञ करवाया था।

यहां पर वर्तमान समय में, आप आकर प्राचीन मंदिर देख सकते हैं। यहां पर एक तालाब देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर लगता है। तालाब के किनारे मंदिर बना हुआ है। यहां पर मां दुर्गा का मंदिर बना हुआ है। यह जगह बहुत सुंदर है। इस मंदिर इस तालाब के पास में नागक्षेत्र पार्क बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है। यहां नागक्षेत्र मंदिर भी बना हुआ है। यहां पर शिव भगवान की मूर्तियां और भी बहुत सारी वस्तुएं देखने के लिए मिलती है।

 

गुरुद्वारा साहिब जींद – Gurdwara Sahib Jind

गुरुद्वारा साहिब जींद में एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह सिख धर्म का एक पवित्र स्थल है। यह गुरुद्वारा प्राचीन है। यह गुरु तेग बहादुर जी की याद में बनाया गया है। यहां पर गुरु तेग बहादुर जी अपनी यात्रा के दौरान आए थे। यह गुरुद्वारा जींद में सफीदों के पास में बना हुआ है।

आप यहां पर आ सकते हैं। गुरुद्वारा बहुत अच्छी तरह से बना हुआ है। पूरा गुरुद्वारा सफेद कलर का है। गुरुद्वारा में धर्मशाला बनाई गई है। यहां पर लंगर चलता है। इस गुरुद्वारे में एक तालाब बना हुआ है।

 

शहीद स्मारक जींद – Martyr Memorial Jind

शहीद स्मारक जींद का एक प्रमुख स्थान (jind me ghumne ki jagah) है। यह पार्क हमारे देश के वीर जवानों को समर्पित है, जिन्होंने अपनी जान की परवाह न करते हुए देश के लिए अपनी जान दे दी। यह जगह उन्हें को याद करके बनाई गई है। और इस जगह पर सुंदर बगीचा बना हुआ है।

 

जयंती देवी मंदिर जींद – Jayanti Devi Temple Jind

जयंती देवी मंदिर जींद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। जींद शहर का नाम जयंती देवी के नाम पर ही रखा गया है। इस मंदिर का निर्माण महाभारत काल के समय में किया गया था। पौराणिक कथा के अनुसार इस मंदिर का निर्माण पांडवों के द्वारा किया गया था। पांडवों ने यहां पर महाभारत युद्ध में विजय प्राप्ति के लिए देवी से प्रार्थना की थी और मंदिर में पूजा करवाई थी।

यह मंदिर मुख्य हाईवे सड़क पर बना हुआ है। यहां आकर आप मां जयंती देवी के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर संग्रहालय बना हुआ है, जहां पर प्राचीन वस्तुओं को संभाल कर रखा गया है। मंदिर के बाहर गार्डन बना हुआ है। यहां पर और भी बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन किए जा सकते हैं। यहां नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे लोग आकर यहां पर मां के दर्शन करते हैं।

 

राम राय जींद – Ram Rai Jind

राम राय जींद जिले के पास घूमने के लिए एक प्रमुख तीर्थ स्थल (jind me ghumne ki jagah) है। यह जगह बहुत सुंदर है। यहां पर एक बहुत बड़ी झील बनी हुई है। यह जींद जिले से करीब 8 किलोमीटर दूर पश्चिम में स्थित है। इस जगह के बारे में कहा जाता है, कि क्षत्रियों के विनाश के बाद यहां पर परशुराम जी ने अपने खून से 5 ताल भरे थे और अपने पुरखों को यहां पर पूजा की थी। इस जगह को रामहरदा तीर्थ के नाम से भी जाना जाता है।

यहां पर एक पवित्र तालाब बना हुआ है, जिसमें स्नान करने से पुण्य मिलता है। यहां पर एक पवित्र तालाब बना हुआ है, जिसमें लोग आकर स्नान करते हैं। यहां परशुराम जी का प्राचीन मंदिर बना हुआ है।

 

नेहरू पार्क जींद – Nehru Park Jind

नेहरू पार्क जींद जिले के पास नरवाना तहसील में बना हुआ है। यह पार्क नरवाना तहसील के मध्य में बना हुआ है। इस पार्क के पास में, तालाब बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है। यहां पर दो वॉटर टैंक बने हुए हैं। यहां पर बहुत सारे लोग मॉर्निंग में और इवनिंग में घूमने के लिए आते हैं।

यहां पर योग किया जाता है। यहां पार्क बहुत सुंदर है। इस पार्क के चारों तरफ पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यहां पर सार्वजनिक लाइब्रेरी है, जहां पर किताबें पढ़ी जा सकती है।

यह भी पढ़े :- पंचकूला के प्रमुख पर्यटन स्थल

गुरुद्वारा धमतान साहिब जींद – Gurdwara Dhamtan Sahib Jind

गुरुद्वारा धमतान साहिब जींद का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह सिख धार्मिक स्थल है। यह गुरुद्वारा प्राचीन है। यह गुरुद्वारा जींद जिले के नरवाना तहसील के पास में बना हुआ है। यह नरवाना और कैथल मार्ग में स्थित है। यह गुरुद्वारा बहुत सुंदर है और बहुत अच्छी तरह से बनाया गया है।

इस गुरुद्वारे के पास में एक तालाब बना हुआ है।  यह तालाब प्राचीन है। यह द्वारा पूरा सफेद कलर का है और बहुत ही आकर्षक दिखता है। गुरुद्वारे में सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध है। यहां पर एक बड़ा सा प्रार्थना हॉल बना हुआ है। यहां पर धर्मशाला बनी हुई है।

यहां पर लंगर होता है, जहां पर लोगों को खाना खिलाया जाता है। यहां पर सभी धर्म के लोग आ सकते हैं। यह गुरुद्वारा सिखों के नौवें गुरु, गुरु तेग बहादुर जी की याद में बनाया गया है। यह गुरुद्वारा तोहाना कैथल मार्ग पर बना हुआ है।

यह भी पढ़े :- फतेहाबाद में घूमने की जगह

जींद में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Jind

जींद में घूमने का सबसे अच्छा समय ठंड का रहता है, क्योंकि यहां पर गर्मी के समय बहुत ज्यादा धूप रहती है और तपन रहती है। आप गर्मी के समय अगर यहां पर घूमेंगे, तो आपको परेशानी हो सकती है। इसलिए आप यहां ठंड में आए। यहां पर अक्टूबर से मार्च महीने के बीच आ सकते है।

यह भी पढ़े :- पलवल में घूमने की जगह

जींद कैसे पहुंच सकते हैं – How to reach Jind

जींद हरियाणा का प्रमुख शहर है। जींद अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। जींद में आप आसानी से आ सकते हैं। जींद में पहुंचने के लिए हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग उपलब्ध है। इन तीनों माध्यम से जींद आसानी से पहुंचा जा सकता है।

 

वायु मार्ग से जींद कैसे पहुंचे – How to reach Jind by air

जींद में वायु मार्ग से पहुंचा जा सकता है। जींद का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा दिल्ली और चंडीगढ़ में बना हुआ है। दिल्ली में इंदिरा गांधी इंटरनेशनल हवाई अड्डा बना हुआ है, जो जींद से 145 किलोमीटर दूर है और चंडीगढ़ में चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बना हुआ है, जो जींद से 195 किलोमीटर दूर है। आप दिल्ली या चंडीगढ़ में हवाई मार्ग से आकर, टैक्सी या बस के द्वारा जींद पहुंच सकते हैं।

 

रेल मार्ग से जींद कैसे पहुंचे – How to reach Jind by rail

रेल मार्ग से जींद में पहुंचना बहुत आसान है और रेल मार्ग से यात्रा करने में पैसा कम लगता है। जींद में, जींद रेलवे स्टेशन बना हुआ है। यह रेलवे स्टेशन प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। इस स्टेशन में गरीब रथ, एक्सप्रेस और शताब्दी ट्रेन रूकती है। आप जींद के रेलवे स्टेशन में आकर, पर्यटन स्थलों में घूमने के लिए जा सकते हैं।

 

सड़क मार्ग से जींद कैसे पहुंचे – How to reach Jind by road

सड़क मार्ग से जींद पहुंचा जा सकता है। जींद में सड़क मार्ग से पहुंचना आसान है। जींद सड़क मार्ग द्वारा देश के विभिन्न हिस्सों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है, जींद आने के लिए बस की सुविधा उपलब्ध है। आप यहां पर लोकल बस या लग्जरी बस के द्वारा पहुंच सकते हैं।

यह भी पढ़े :- सिरसा में घूमने की जगह

जींद में कहां ठहरे – Where to stay in Jind

जींद में ठहरने के लिए होटल एवं लॉज मिल जाते हैं। यहां पर आप ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं। यहां पर आप अपने बजट के अनुसार होटल में ठहर सकते हैं। यहां पर ठहरने के लिए धर्मशाला भी मिल जाती है, जहां पर बहुत कम चार्ज लिया जाता है।

यह भी पढ़े :- यमुनानगर में घूमने की जगह

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे, तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment