ग्वालियर चिड़ियाघर या गांधी प्राणी उद्यान ग्वालियर – Big and beautiful Gwalior Chidiyaghar

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) ग्वालियर का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध चिड़ियाघर है। यह चिड़ियाघर मध्य प्रदेश के सबसे सुंदर प्राणी उद्यानों में से एक है। यहां पर ढेर सारे जंगली जीव देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर शेर, चीता, भालू, हिप्पोपोटामस, ऑस्ट्रिच जैसे जानवर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर देशी और विदेशी जंगली जानवर देखने के लिए मिलते हैं। अगर आप ग्वालियर आते हैं, तो आप इस चिड़ियाघर में जरूर आए और यहां पर जानवरों को देखें।

ग्वालियर चिड़ियाघर या गांधी प्राणी उद्यान ग्वालियर मध्य प्रदेश की जानकारी – Information about Gwalior Chidiyaghar or Gandhi Zoological Park Gwalior Madhya Pradesh

ग्वालियर का चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) ग्वालियर का एक दर्शनीय स्थल है। ग्वालियर शहर में बहुत सारे आकर्षक स्थल है, जो बहुत प्रसिद्ध है। ग्वालियर का किला पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है और पूरे देश से पर्यटक इस किले को देखते के लिए आते हैं। ग्वालियर का किला देखने के लिए हर साल हजारों और लाखों पर्यटक आते हैं और इस किले की खूबसूरती को निहारते हैं। मगर ग्वालियर में और भी बहुत सारे स्थल है, जहां पर पर्यटक आकर घूम सकते हैं। इन स्थलों में ग्वालियर ज़ू भी शामिल है।

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) ग्वालियर रेलवे स्टेशन से करीब 2 किलोमीटर दूर है। ग्वालियर रेलवे स्टेशन से इस चिड़िया घर में आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट से आसानी से आ सकते हैं। ग्वालियर किले से यह चिड़ियाघर 3 किलोमीटर दूर है। यह चिड़ियाघर ग्वालियर में घूमने का एक आदर्श स्थान है। यहां पर पर्यटक सबसे ज्यादा घूमने के लिए आते हैं।

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) को ग्वालियर जू के नाम से भी जाना जाता है। इस चिड़ियाघर को गांधी प्राणी उद्यान के नाम से भी जाना जाता है। ग्वालियर चिड़ियाघर मुख्य शहर में बना हुआ है। ग्वालियर चिड़ियाघर ग्वालियर सिटी में स्वर्ण रेखा नदी के पास बना हुआ है। यह बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। इस चिड़िया घर में आपको ढेर सारे जंगली जानवर और पक्षियों की प्रजातियां देखने के लिए मिलती है।

यहां पर आपको देशी और विदेशी पक्षी और जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं। इन पक्षी और जंगली जानवरों को बहुत अच्छी तरह से चिड़ियाघर में रखा गया है। यहां पर उनकी अच्छी तरह से देखभाल की जाती है। इस चिड़ियाघर में जानवरों को देखने के अलावा और भी बहुत सारे स्थल हैं, जहां पर आप इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर ढेर सारे झूले लगे हुए हैं, जिनमें बच्चे लोग एंजॉय कर सकते हैं।

आप इस चिड़ियाघर में घूमने के लिए आ सकते है। ग्वालियर के चिड़िया घर में आकर आप विभिन्न प्रकार के जानवरों को देख सकते हैं। इस चिड़ियाघर को गांधी प्राणी उद्यान (gandhi prani udyan) के नाम से भी जाना जाता है। ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) में आप किसी भी प्रकार का खाद्य पदार्थ नहीं लेकर जा सकते है। ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) के अंदर एक केंटीन है, जहां पर आप खाने का मजा ले सकते है।

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) 1922 में शाही परिवार मधाव राव सिंधिया द्वारा स्थापित किया गया था। आपको यहां पर दुर्लभ जानवर देखने मिलते हैं। इस चिड़ियाघर में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) में प्रवेश के शुल्क बहुत कम है।

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) का प्रबंधन नगर निगम के द्वारा किया जाता था। यहां पर बच्चों के मनोरंजन के लिए बोंटिग की सुविधा है। बच्चे यहां पर बहुत मजे कर सकते है। चिड़ियाघर पर एक मजार भी है, जिसे चिड़ियाघर वाला बाबा का मजार कहते हैं।

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) पर आप ईमू देख सकते है, यह एक विदेशी पक्षी है। ईमू ऑस्ट्रेलिया का राष्ट्रीय पक्षी है। ईमू उड़ नहीं सकता है। यह एक विशालकाय पक्षी है। यह हल्के भूरे कलर का होता है। यह पक्षी देखने में खूबसूरत लगता है।

आप यहाँ शुतुरमुर्ग देख सकते है। शुतुरमुर्ग विदेशी पक्षी है और यह उड़ नहीं सकता है। यह अंडे देता है और 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ता है। यहां देखने में बहुत खूबसूरत लगता है।

आप यहां पर सफेद शेर देख सकते हैं। सफेद शेर एक विचित्र प्राणी है। सफेद शेर रीवा में खोज गया था। यहां पर आपको मगरमच्छ देखने मिलते हैं। यह पर घड़ियाल भी आप देख सकते है। यह मकाउ तोता भी देखने मिलता है। मकाउ एक प्रकार का तोते की प्रजाति है। यह विदेशी पक्षी है। आपको यहां पर भारतीय बब्बर शेर देखने मिलता है।

यहां पर जानवरों को रखने के लिए अलग-अलग एंक्लोजर बनाए गए हैं। यह एंक्लोजर बहुत अच्छी तरह से बनाए गए हैं, ताकि जानवर यहां पर आराम से रह सके। आप यहां पर मगरमच्छ का स्टैचू देख सकते है। आप इस चिड़ियाघर पर आकर अपना अच्छा समय बिता सकते है। यहां पर आप अपने फैमिली मेम्बर एवं दोस्तों के साथ आ सकते है।

इस चिड़िया घर का एक विशाल हिस्सा फूल बाग के नाम से जाना जाता है, जिसे 1922 में माधवराव सिंधिया ने बनवाया था। 1922 में वेल्स प्रिंस ने इस जगह का उद्घाटन किया था। फूल बाग परिसर में एक गुरुद्वारा, एक मस्जिद, एक थियोसोफिकल लॉज और एक प्रार्थना पक्ष है। यह सभी प्राचीन है और बहुत सुंदर है। आप इन सभी जगह में घूम सकते हैं और इन्हें देख सकते हैं।

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) बहुत खूबसूरत है। यहां पर आकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आप जंगली जानवरों को बहुत करीब से देख सकते हैं। इस चिड़िया घर का रखरखाव बहुत ही अच्छी तरह से किया गया है। इस चिड़ियाघर में बच्चों को बहुत मजा आएगा। बच्चे यहां पर बहुत एंजॉय कर सकते हैं। छोटे बच्चों के लिए यहां पर बहुत सारी मनोरंजक गतिविधियों उपलब्ध है, जिनके वह आनंद ले सकते हैं।

चिड़ियाघर के बाहर बहुत सारे स्ट्रीट फूड वेंडर हैं, जिनसे आप भोजन ले सकते हैं। मगर जू के अंदर भोजन ले जाने की मनाही है। आप बाहर ही भोजन खा सकते हैं। उसके बाद चिड़ियाघर में घूमने के लिए जा सकते हैं। चिड़ियाघर के अंदर एक छोटी सी कैंटीन बनी हुई है, जहां पर आपको खाने-पीने का सामान मिल जाता है। आप इस चिड़ियाघर में आकर एंजॉय कर सकते हैं।

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) में सभी प्रकार की व्यवस्थाएं उपलब्ध है। ग्वालियर चिड़ियाघर में पीने के पानी की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर वाहन पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्पेस दिया गया है, जहां पर अपनी कार और बाइक को पार्क कर सकते हैं। यह चार्जेबल है।

यहां पर बाथरूम की व्यवस्था है। यहां पर पर्यटकों के बैठने के लिए अलग-अलग जगह पर शेड लगाए गए हैं, ताकि पर्यटक जाते हैं, तो वह इन शेड के नीचे बैठकर आराम कर सकते हैं। यहां पर बच्चों के लिए चिल्ड्रन पार्क बना हुआ है, जहां पर बच्चे एंजॉय कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- ओरछा के प्रमुख 18 दर्शनीय स्थल

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar)में कौन-कौन से जीव जंतु हैं – What animals are there in Gwalior Zoo

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) में बहुत सारे जीव जंतु हैं। ग्वालियर चिड़ियाघर में आपको भारतीय जंगली जानवर और विदेशी जंगली जानवरों की बहुत सारी प्रजाति देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको ढेर सारे पक्षियों के प्रजातियां भी देखने के लिए मिलती हैं।

यहां पर आपको शुतुरमुर्ग, मकाउ (एक प्रकार का तोता), एमु, भारतीय भालू, मगरमच्छ, घड़ियाल, उल्लू, गिद्धों, हिप्पोपोटामस, सांप, सियार, चीतल, सांभर, नीलगाय, कछुआ, चीता, शेर, तेंदुआ, लोमड़ी देखने मिलता है। यह सभी जानवर देखने के लिए मिलते हैं ग्वालियर।

यह भी पढ़े :- कैक्टस गार्डन सैलाना रतलाम

ग्वालियर चिड़ियाघर या ग्वालियर जू के खुलने का समय – Gwalior Zoo Opening Timings

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) या ग्वालियर जू के खुलने का समय सुबह 10 बजे से शाम के 5:30 बजे तक है। यह सुबह 10:00 बजे से खुल जाता है और शाम को 5:00 बजे तक खुला रहता है। आप इस समय यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह चिड़ियाघर सप्ताह के 6 दिन खुला रहता है। यह चिड़ियाघर शुक्रवार को बंद रहता है।

 

ग्वालियर चिड़ियाघर में प्रवेश के लिए शुल्क – Fees for entry into Gwalior Zoo

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर भारतीय व्यक्तियों का ₹50 लिया जाता है। यहां पर फौरन व्यक्ति का अलग-अलग शुल्क लिया जाता है।

यह भी पढ़े :- पचमढ़ी के 22 प्रमुख दर्शनीय स्थल

ग्वालियर चिड़ियाघर में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Gwalior Zoo

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) में घूमने का सबसे अच्छा समय ठंड में रहता है। आप यहां पर ठंड में जाकर घूम सकते हैं। गर्मी के समय यहां पर घूमने में थोड़ी परेशानी हो सकती है। गर्मी के मौसम में बहुत ज्यादा तापमान रहती है, जिससे घूमने में परेशानी हो सकती है। ठंड में जाकर आप यहां पर आराम से अपना समय व्यतीत कर सकते हैं और जानवरों को देख सकते हैं। ठंड में ग्वालियर में बहुत सारे पर्यटक घूमने लिए आते हैं।

यह भी पढ़े :- नरसिंहगढ़ के प्रमुख आकर्षण दर्शनीय स्थल

ग्वालियर चिड़ियाघर कहां पर स्थित है – Where is Gwalior Zoo located

ग्वालियर चिड़ियाघर (Gwalior Chidiyaghar) मुख्य शहर में बना हुआ है। ग्वालियर में आप आसानी से आ सकते हैं। यहां पर आने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट उपलब्ध है। आप यहां पर आसानी से पहुंचकर घूम सकते हैं। यहां पर आप बाइक और कार से भी आ सकते हैं। चिड़ियाघर के बाहर पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्पेस दिया गया है।

यह भी पढ़े :- खजुराहो के प्रमुख दर्शनीय स्थल

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment