गोविंद सागर बांध ललितपुर शहर – Govind Sagar Dam Lalitpur UP

गोविंद सागर बांध ललितपुर जिले के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गोविंद सागर बांध (Govind Sagar Dam) बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। यह शहर का मुख्य आकर्षण स्थल है। यहां पर आपको एक बहुत विशाल बांध देखने के लिए मिलता है, जो बहुत दूर तक फैला हुआ है। गोविंद सागर बांध भारत के सबसे पुराने बांधों में से एक है। गोविंद सागर बांध (Govind Sagar Dam) मुख्य रूप से सिंचाई और कृषि के उपयोग के लिए बनाया गया है। यह ललितपुर जिले में पानी की आपूर्ति के लिए एक महत्वपूर्ण संसाधन है। गोविंद सागर बांध (Govind Sagar Dam) जितना लोगों के लिए महत्वपूर्ण है, उतना प्रकृति के लिए भी महत्वपूर्ण है। यह बांध चारों तरफ से प्राकृतिक सुंदरता से परिपूर्ण है। यहां पर आकर अच्छा समय बिताया जा सकता है।

गोविंद सागर बांध की जानकारी – Information about Govind Sagar Dam

गोविंद सागर बांध ललितपुर शहर में घूमने के लिए एक अच्छी जगह है। इस बांध का निर्माण शहजाद नदी पर 1947-1953 के दौरान किया गया था। इस बांध में साइफन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया है। साइफन तकनीक (Siphon Technology) का उपयोग कर बनाए गए बांध में यह सबसे पुराना बांध है। साइफन तकनीक का प्रयोग करके भारत में 3 और बांध बनाए गए है, जिसमें से भारत का भागडा नांगल बांध भी शामिल है। साइफन तकनीक में बांध का जलस्तर बढा जाता है, तो बांध का पानी स्वयं ही निकल जाता है।

साइफन तकनीक बहुत ही यूनिक है। इस तकनीक में किसी भी तरह की ऊर्जा का प्रयोग नहीं किया जाता है। साइफन प्रणाली में हवा के दबाव के द्वारा पानी की निकासी होने लगती है। इसमें एक पाइप के जरिए बांध के पानी को निकाला जाता है, जो बहुत ही आश्चर्यजनक है। अगर आपको ललितपुर जाने का मौका मिले तो आप इस बांध को और साइफन प्रक्रिया किस तरह से काम करती है, जरूर देखें ।

गोविंद सागर बांध (Govind Sagar Dam) ललितपुर शहर के पास में स्थित है। यह बांध ललितपुर रेलवे स्टेशन से 2 किमी दूर हैं। इस बांध में आसानी से पहुंचा जा सकता है। यह बांध बहुत सुंदर है। ललितपुर बांध का सबसे अच्छा दृश्य बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। बरसात के समय यह बांध पूरी तरह पानी से भर जाता है और इसका पानी ओवरफ्लो होता है और बहता है, जो देखकर बहुत सुंदर लगता है। इस बांध के चारों तरफ प्राकृतिक वातावरण है जहां पर पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यहां पर आकर आपको शांति मिलेगी।

गोविंद सागर बांध का निर्माण पहली पंचवर्षीय योजना में हुआ था। बरिश में इस डैम के जब गेट खुलते हैं तो बहुत ही मनमोहक दृश्य होते हैं। यह पर अपार जल राशि बरिश के मौसम में निकलती है। यहां पर बारिश के समय में भारी संख्या में लोग आकर बांध का सुंदर दृश्य देखते हैं। यहाँ आकर लोग पिकनिक मना सकते हैं।

गोविंद सागर बांध शहजाद नदी पर बना हुआ है। शहजाद नदी उत्तर प्रदेश की प्रमुख नदी है। यह जामनी नदी की सहायक नदी है। शहजाद नदी का उद्गम मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा के पास में होता है।

आप अगर गोविद सागर बांध (Govind Sagar Dam) जाने का प्लान बनाते है, तो अपने वाहन से जायें या आप चाहे तो टैक्सी या ऑटो बुक कर सकते है। परिवार और दोस्तों के साथ आने के लिए यह एक बढ़िया जगह है। आप यहां पर नहा भी सकते है। बरसात में जब बांध ओवरफलो होता है, या कह जाये बांध का जलस्तर खतरे का पार चला जाता है, जिससे बांध को नुकसान हो सकता है, तो साइफन प्रणाली से बांध से पानी निकल जाता है। आप यहां जाकर अच्छा समय बिता सकते है। यह पर दोस्तो और परिवार के साथ आया जाता है।

ललितपुर जिले में यह एक पर्यटन स्थल के रूप में प्रसिद्ध है। यहां पर सुबह शाम लोग सैर के लिए आते हैं। यह बांध ललितपुर शहर के बहुत करीब है। इस बांध को एक इको टूरिज्म पर्यटन स्थल की तरह डेवलप किया जा रहा है, जिससे लोग यहां पर अधिक से अधिक संख्या में आए और इस बांध की खूबसूरती का आनंद ले। यहां पर आप शाम के समय जाकर सनसेट का दृश्य देख सकते हैं। यहां पर सनसेट का दृश्य बहुत ही आकर्षक लगता है। यह जगह शहर के शोर शराबे से दूर प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है।

यह भी पढ़े :- श्री ममलेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर

गोविंद सागर बांध किस नदी पर है – Govind Sagar Dam is on which river?

गोविंद सागर बांध शहजाद नदी पर बना हुआ है। शहजाद नदी उत्तर प्रदेश की प्रमुख नदी है।

गोविंद सागर बांध किस राज्य में है – Govind Sagar Dam is in which state?

गोविंद सागर बांध भारत देश के उत्तर प्रदेश राज्य में है। गोविंद सागर बांध उत्तर प्रदेश राज्य के ललितपुर जिले में स्थित है। यह बांध मुख्य शहर के पास स्थित है। यहां पर आप आसानी से जा सकते हैं।

गोविंद सागर बांध कहां स्थित है – Where is Govind Sagar Dam?

गोविंद सागर बांध ललितपुर शहर का एक प्रमुख स्थल है। गोविंद सागर बांध ललितपुर शहर के बहुत करीब है। यह ललितपुर शहर से करीब दो या ढाई किलोमीटर दूर है।
इस बांध में आप आसानी से आ सकते हैं। इस बांध तक पहुंचने के लिए सड़क मार्ग उपलब्ध है। यहां पर आने के लिए अच्छी सड़क व्यवस्था है। यहां पर आप अपने स्वयं के वाहन से आ सकते हैं। यहां पर आप ऑटो या टैक्सी बुक करके भी आ सकते हैं।

यह भी पढ़े :- सोन नदी का उद्गम स्थल अमरकंटक

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है। अगर आपको पसंद आया हो, तो आप इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment