बालाघाट जिले के पर्यटन और दर्शनीय स्थल – Top 15 Balaghat Tourist Places in Hindi

Balaghat Tourist Places in Hindi :- बालाघाट मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध जिला है। इस लेख में हम आपको बालाघाट में घूमने की जगह, बालाघाट कैसे पहुंचे, बालाघाट के प्रमुख धार्मिक स्थान के बारे में जानकारी देंगे।

Table of Contents

बालाघाट जिले के बारे में जानकारी – Information about Balaghat district

बालाघाट मध्य प्रदेश का प्रमुख जिला है। बालाघाट की प्रमुख नदी बैनगंगा है। बैनगंगा  नदी बालाघाट जिले के बीचो-बीच से बहती है। बालाघाट जिला जंगलों और पहाड़ों से घिरा हुआ है। बालाघाट जिला बहुत खूबसूरत है। बालाघाट में घूमने के लिए ढेर सारी जगह है, जहां पर जाकर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं।

बालाघाट जिला अपने कॉपर माइंस के लिए प्रसिद्ध है। बालाघाट जिले में बहुत सारी कॉपर माइंस है, जहां पर बहुत अधिक मात्रा में कॉपर का उत्खनन किया जाता है। बालाघाट जिले में घूमने के लिए ऐतिहासिक, प्राकृतिक और धार्मिक जगह हैं, जहां पर जाकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं।

इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपको बालाघाट के प्रमुख पर्यटन (Balaghat Tourist Places) और दर्शनीय स्थलों के बारे में जानकारी देंगे, जो बहुत सुंदर हैं। अगर आप बालाघाट के पर्यटन स्थलों (Balaghat Tourist Places) की यात्रा करना चाहते हैं, तो इस ब्लॉग पोस्ट  को पढ़ सकते हैं, जिसमें आपको बालाघाट के पर्यटन स्थलों (Balaghat Tourist Places) की जानकारी दी गई है।

 

बालाघाट में घूमने वाली जगह – Balaghat Tourist Places

बालाघाट जिले के पर्यटन और दर्शनीय स्थल की सूची – Balaghat Tourist Places list in Hindi

  1. कान्हा टाइगर रिजर्व बालाघाट
  2. गांगुलपारा बांध बालाघाट
  3. गांगुलपरा झरना बालाघाट
  4. बजरंग घाट बालाघाट 
  5. शंकर घाट बालाघाट 
  6. काली माता का मंदिर बालाघाट 
  7. दादा कोटेश्वर धाम बालाघाट 
  8. बॉटनिकल गार्डन बालाघाट 
  9. लांजी का किला बालाघाट
  10. हट्टा की बावड़ी बालाघाट 
  11. गोमजी सोमजी मंदिर बालाघाट 
  12. नहलेसरा बांध बालाघाट 
  13. धुटी बांध बालाघाट 
  14. राजीव सागर बांध बालाघाट
  15. मोती तालाब और पार्क बालाघाट 

 

कान्हा टाइगर रिजर्व बालाघाट – Kanha Tiger Reserve Balaghat

कान्हा टाइगर रिजर्व मध्य प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थलों (Balaghat Tourist Places) में से एक है। कान्हा टाइगर रिजर्व मध्य प्रदेश के बालाघाट और मंडला जिले में फैला हुआ है। कान्हा टाइगर रिजर्व में घूमने के लिए देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। कान्हा टाइगर रिजर्व की स्थापना 1955 में की गई थी। 1955 में यह एक राष्ट्रीय उद्यान के रूप में स्थापित किया गया था। कान्हा टाइगर रिजर्व के अंदर बंजर और हेलोन नदी बहती है, जो इस अभ्यारण की जीवन रेखा है।

कान्हा टाइगर रिजर्व में आपको टाइगर देखने के लिए मिलता है। टाइगर पृथ्वी में पाए जाने वाली सबसे बड़ी बिल्लियों की प्रजातियां में से एक है। यहां पर आपको ढेर सारे टाइगर देखने के लिए मिल सकते हैं। यहां पर आपको और भी बहुत सारे जंगली जानवर देखने के लिए मिलते हैं।

यहां पर आप सफारी का मजा ले सकते हैं। कान्हा टाइगर टाइगर रिजर्व में ठहरने के लिए बहुत सारे होटल मिल जाते हैं। यहां पर आपको टाइगर के अलावा भी बहुत सारे जंगली जानवर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आप जंगल के सुंदर दृश्य और झरने को देख सकते हैं।

 

गंगुलपारा बांध बालाघाट – Gangulpara Dam Balaghat

गंगुलपारा बांध बालाघाट का एक मुख्य पर्यटन स्थल (Balaghat Tourist Places) है। यह एक सुंदर जलाशय है। गंगुलपारा बांध बालाघाट का एक ईको पर्यटन स्थल है। यह जलाशय बालाघाट से बैहर जाने वाली सड़क पर स्थित है। यह जलाशय जंगल के बीच में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह बालाघाट से करीब 15 किलोमीटर दूर है। यहां पर आप अपने वाहन से पहुंच सकते हैं।

यह जलाशय बहुत बड़ी एरिया में फैला हुआ है और बहुत सुंदर लगता है। यहां पर चारों तरफ पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यहां पर आकर आप पिकनिक मना सकते हैं। यह  बालाघाट का एक पिकनिक स्थल है। यहां पर आप बरसात के समय आएंगे, तो आपको और भी अच्छा लगेगा। बरसात के समय यह जलाशय पूरी तरह पानी से भर जाता है और इसका पानी ओवरफ्लो होता है, जिसका दृश्य देखने लायक रहता है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं।

 

गांगुलपरा झरना बालाघाट – Gangulpara Waterfall Balaghat

गांगुलपरा झरना बालाघाट में स्थित एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल (Balaghat Tourist Places) है। यहां पर आपको एक खूबसूरत झरना देखने के लिए मिलता है, जो जंगलों के बीच में स्थित है। यह झरना जंगल के बीच में बना हुआ है। इस झरने तक पहुंचने के लिए ट्रैकिंग करनी पड़ती है। इस झरने में पहुंच कर बहुत अच्छा लगता है। यह झरना बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। बरसात के समय झरने में पानी की बहुत ज्यादा मात्रा रहती है और झरना बहुत ही आकर्षण रहता है। यहां पर आकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं।

बरसात के समय यहां पर चारों ओर का दृश्य भी बहुत मनोरम रहता है। यह झरना मुख्य सड़क से करीब 2 से 3 किलोमीटर दूर है। आपको 2 से 3 किलोमीटर ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यह झरना गांगुलपरा बांध के पास में है। आप यहां पर जाकर एंजॉय कर सकते हैं। यह झरना बहुत खूबसूरत है। झरने में आप नहाने का मजा भी दे सकते हैं। यह झरना गांगुलपरा बांध से करीब 5 किलोमीटर दूर होगा।

 

बजरंग घाट बालाघाट – Bajrang Ghat Balaghat

बजरंग घाट बालाघाट का एक पर्यटन स्थल (Balaghat Tourist Places) है। यहां पर आपको एक घाट देखने के लिए मिलता है। यह घाट बहुत खूबसूरत है। यह घाट वैनगंगा नदी के किनारे बना हुआ है। आप इस घाट में आसानी से पहुंच सकते हैं। यह घाट मुख्य शहर से थोड़ा दूरी पर स्थित है। यह घाट बहुत सुंदर है।

इस घाट में ज्यादातर तैराकी के शौकीन लोग आते हैं। यहां पर नदी ज्यादा गहरी नहीं है। इसलिए लोग यहां पर तैरना सीखते हैं। इस घाट के किनारे मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है। इसलिए इस घाट को बजरंग घाट के नाम से जाना जाता है।

 

शंकर घाट बालाघाट – Shankar Ghat Balaghat

शंकर घाट बालाघाट में स्थित एक घूमने लायक जगह है। शंकर घाट बालाघाट में वैनगंगा नदी के किनारे बना हुआ एक घाट है। यह घाट मुख्य शहर में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यह घाट बहुत ही सुंदर है। इस घाट में आप आकर शाम का  बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं।

 

काली माता का मंदिर बालाघाट – Kali Mata Temple Balaghat

काली माता का मंदिर बालाघाट में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर काली माता को समर्पित है। कहा जाता है कि यहां पर स्थित काली माता की मूर्ति स्वयंभू है और यह मूर्ति धीरे-धीरे आकार में बढ़ रही है। लोग यहां पर बड़ी दूर दूर से आते हैं। नवरात्रि के समय यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ रहती है।

 

दादा कोटेश्वर धाम बालाघाट – Dada Koteshwar Dham Balaghat

दादा कोटेश्वर धाम बालाघाट में स्थित एक धार्मिक स्थल है।  यहां पर आपको शिव मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह  मंदिर करीब 12 वीं सदी का है। यहां पर मूर्तिकला भी देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही अद्भुत लगती है। यहां पर बहुत दूर-दूर से लोग इस मंदिर के दर्शन करने के लिए आते हैं। यह मंदिर बहुत सुंदर है।

 

बॉटनिकल गार्डन बालाघाट – Botanical Garden Balaghat

बॉटनिकल गार्डन बालाघाट में घूमने की एक प्रमुख जगह है। बॉटनिकल गार्डन बेनगंगा नदी के किनारे स्थित है। आप यहां पर आसानी से घूमने लिए जा सकते हैं। यह गार्डन बहुत ही अच्छी तरह से बनाया गया है। यहां पर ढेर सारे पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यहां पर आप अपने बच्चों के साथ आ सकते हैं। बच्चों को यह जगह बहुत ज्यादा ही मनोरंजक लगती है।

यहां पर आपको आयुर्वेदिक पौधे देखने के लिए मिलते हैं। इस गार्डन में झूले भी लगे हुए हैं, जो बच्चों के लिए बहुत अच्छे हैं। यह गार्डन बहुत सुंदर है। इस गार्डन से वैनगंगा नदी का अच्छा दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर आप अपना समय बिता सकते हैं। यहां पर आपको शांति मिलेगी।

 

लांजी का किला बालाघाट – Lanji Fort Balaghat

लांजी का किला बालाघाट का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह बालाघाट में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह किला बालाघाट के लांजी में स्थित है। लांजी बालाघाट से करीब 60 किलोमीटर दूर है। लांजी मुख्य शहर में यह किला बना हुआ है। आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। किले के बाहर पार्किंग के लिए स्थल बना हुआ है। किले में निशुल्क प्रवेश उपलब्ध है।

लांजी का किला बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। इस किले में देखने लायक बहुत सारी जगह है। यहां पर आपको प्राचीन किला देखने के लिए मिलता है। अभी यहां किला नष्ट हो गया है। मगर यहां पर आप किले के खंडहर देख सकते हैं। यहां पर किले के कुछ भाग अभी भी देखने लायक हैं। किले में आपको सुंदर  नक्काशी देखने मिलती है। यह किला चारों तरफ बाउंड्री वॉल से घिरा हुआ है और किले में एक जलाशय भी है। वह भी आप देख सकते हैं।

 

हट्टा की बावड़ी बालाघाट – Hatta’s Stepwell Balaghat

हट्टा की बावड़ी बालाघाट का एक प्रसिद्ध आकर्षक स्थल है। हट्टा की बावड़ी एक ऐतिहासिक स्थान है। यह बालाघाट का एक प्राचीन धरोहर है। यह बावड़ी बालाघाट के हटा तहसील में स्थित है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। इस बावड़ी को अच्छी तरह से संरक्षित करके रखा गया है। यहां पर आप जाकर घूम सकते हैं।

इस बावड़ी का निर्माण18वीं शताब्दी ईस्वी में विशाल चट्टानों को काटकर और तराशकर किया गया था। इस बावड़ी में अलंकृत स्तंभ देखने के लिए मिलते हैं, जिनमें सुंदर नक्काशी की गई है। हैय्य वंशीय राजाओ के बाद गोंड राजा हटे सिंह वल्के ने इस बावली का निर्माण कराया था। माना जाता है की हटे सिंह वल्के के राजा होने के कारण इस गांव का नाम हट्टा रखा गया है।

राजा ने सैनिकों के छिपने, पेयजल, स्नान आदि के प्रबंध के लिए इस बावड़ी का निर्माण करवाया था। गोंड काल के बाद भी मराठा शासक एवं भोंसले साम्राज्य के द्वारा इस बावड़ी का प्रयोग होता रहा है। इस वजह से बावड़ी में मराठा शासक और भोंसले साम्राज्य की कई कलाकृति देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर घूमने आ सकते हैं और इस बावड़ी की सुंदरता को देख सकते हैं।

 

गोमजी सोमजी मंदिर बालाघाट – Gomji Somji Temple Balaghat

गोमजी सोमजी मंदिर बालाघाट में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको ज्वाला देवी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर पहाड़ी के ऊपर स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां मिल जाती है। इस मंदिर से चारों तरफ का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर बालाघाट के भरवेली क्षेत्र में स्थित है।

 

नहलेसरा बांध बालाघाट – Nahlesara Dam Balaghat

नहलेसरा बांध बालाघाट जिले के पास घूमने की एक प्रमुख जगह है। यहां पर आपको एक सुंदर जलाशय देखने के लिए मिलता है। इस जलाशय की खूबसूरती बरसात के समय और भी ज्यादा बढ़ जाती है, क्योंकि चारों तरफ हरियाली होती है। यहां पर आपको एक मंदिर भी देखने के लिए मिलता है, जो अंबा माई को समर्पित है और अंबा माई की बहुत ही भव्य मूर्ति यहां पर विराजमान है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यह जलाशय जंगल के अंदर स्थित है।

 

धुटी बांध बालाघाट – Dhuti Dam Balaghat

धुटी बांध बालाघाट में स्थित एक पर्यटन स्थल (Balaghat Tourist Places) है। यह बांध अंग्रेजों के समय में बनाया गया था। यह बहुत पुराना बांध है। इस बांध का पानी जब ओवरफ्लो होता है, तो ऐसा लगता है। जैसे झरना बह रहा है। यह बहुत सुंदर लगता है। आप बांध की संरचना देख सकते हैं, जो बहुत ही खूबसूरत है। इस बांध में सिंचाई के लिए नहर भी निकाली गई हैं। आप यहां बरसात के समय घूमने आओगे, तो आपको बहुत अच्छा लगेगा।

यह भी पढ़े :- होशंगाबाद जिले के दर्शनीय स्थल

राजीव सागर बांध बालाघाट – Rajeev Sagar Dam Balaghat

राजीव सागर बांध बालाघाट में बालाघाट का एक पर्यटन स्थल (Balaghat Tourist Places) है। यह बांध मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र की सीमा पर स्थित है।  राजीव सागर बांध को बाबनथडी बांध भी कहते हैं, क्योंकि यह बांध  बाबनथडी नदी पर बना हुआ है। इस बांध में अगर आप बरसात के समय घूमने के लिए आते हैं, तो आपको ज्यादा आनंद आएगा। क्योंकि बरसात के समय बांध में पानी भरा रहता है और चारों तरफ का माहौल हरियाली भरा रहता है। बांध के गेट खोले जाते हैं, जिससे पानी बाहर आता है और बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है।

 

मोती तालाब और पार्क बालाघाट – Moti Talab and Park Balaghat

मोती तालाब बालाघाट में स्थित एक घूमने वाली जगह है। यहां पर आपको एक जलाशय देखने के लिए मिलता है। यह जलाशय बहुत ही सुंदर है। जलाशय के पास एक गार्डन भी बना हुआ है, जिसे मोती तालाब पार्क कहा जाता है। मोती तालाब में बोटिंग की सुविधा भी उपलब्ध है। आप चाहे तो, यहां पर वोटिंग भी कर सकते हैं। मोती तालाब पार्क भी सुंदर है। यहां पर बहुत सारे लोग जोगिंग करने के लिए आते हैं। यह बालाघाट में स्थित एक मुख्य घूमने लायक जगह (Balaghat Tourist Places) है।

यह भी पढ़े :- सीधी जिले के दर्शनीय स्थल

बालाघाट में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Balaghat

बालाघाट में घूमने का सबसे अच्छा समय ठंड का रहता है। आप यहां पर ठंड में आकर सभी जगह की सैर कर सकते हैं। बालाघाट में घूमने के लिए ढेर सारे पर्यटन स्थल हैं, जहां पर जाकर आप अपना समय बिता सकते हैं। ठंड का मौसम बहुत बढ़िया रहता है, जिससे आपको घूमने में कोई भी दिक्कत नहीं रहती है। बालाघाट में कुछ जलप्रपात भी हैं, जहां पर आप बरसात के समय घूमने के लिए जा सकते हैं।

यह भी पढ़े :- सीहोर जिले में घूमने पर्यटन स्थल

बालाघाट कैसे पहुंचे – How to reach Balaghat

बालाघाट मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध जिला है। बालाघाट जिला बहुत सुंदर है। बालाघाट जिले में पहुंचने के लिए सड़क मार्ग, रेल मार्ग और वायु मार्ग की सुविधा उपलब्ध है। चलिए जानते हैं बालाघाट कैसे पहुंचे

 

बालाघाट वायु मार्ग से कैसे पहुंचे – How to reach Balaghat by air

बालाघाट के बिरवा में हवाई पट्टी बनी हुई है, जो बालाघाट को हवाई मार्ग से अन्य शहरों से जोड़ती है। आप बालाघाट में हवाई मार्ग से आ सकते हैं।

 

बालाघाट में रेल मार्ग से कैसे पहुंचे – How to reach Balaghat by rail

बालाघाट मुख्य शहर में रेलवे स्टेशन बना हुआ है, जिसके द्वारा आप यहां पर रेलवे मार्ग द्वारा आसानी से आ सकते हैं। बालाघाट रेलवे स्टेशन जबलपुर गोंदिया रूट पर स्थित है। यहां पर आप जबलपुर और गोंदिया जैसे शहरों से डायरेक्ट आ सकते हैं। जबलपुर से बालाघाट जाने के लिए दो ट्रेन डायरेक्ट चलती हैं।

 

सड़क मार्ग से बालाघाट कैसे पहुंचे – How to reach Balaghat by road

बालाघाट में हाईवे रोड गुजरती है, जिसके द्वारा आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। आप यहां पर बस के द्वारा भी आ सकते हैं। यहां पर बस की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर सरकारी और प्राइवेट बस की सुविधा उपलब्ध है।

यह भी पढ़े :- विदिशा जिले के पर्यटन स्थल

यह लेख अगर आपको अच्छा लगा हो, तो आप इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment