असीरगढ़ का किला बुरहानपुर – Famous Asirgarh ka kila Burhanpur

असीरगढ़ का किला मध्य प्रदेश (asirgarh ka kila madhya pradesh) के प्रसिद्ध किलो में से एक है। असीरगढ़ का किला (asirgarh ka kila) मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले में स्थित है। यह किला बहुत बड़ी एरिया में फैला हुआ है। यह किला सतपुड़ा की पहाड़ियों में स्थित है। अगर आपको बुरहानपुर आने का मौका मिलता है, तो आप इस किले में जरूर घूमने के लिए जाये।

असीरगढ़ का किला बुरहानपुर मध्य प्रदेश की जानकारी – Information about Asirgarh ka Kila Burhanpur Madhya Pradesh

असीरगढ़ का किला बुरहानपुर (asirgarh ka kila burhanpur) का एक प्रसिद्ध दर्शनीय स्थान है। यह किला असीरगढ़ से करीब 30 किलोमीटर दूर है। यह किला असीरगढ़ गांव में घने जंगलों के बीच में बना हुआ है। यहां पर आप आसानी से आ सकते हैं। यह किला इंदौर बुरहानपुर मार्ग पर स्थित है।

असीरगढ़ का किला (asirgarh ka kila) मध्य प्रदेश का एक प्राचीन किला है। असीरगढ़ का किला (asirgarh ka kila) सतपुड़ा की पहाड़ियों के बीच में बना हुआ है। असीरगढ़ का किला (asirgarh ka kila) एक अभेद किला है। इस किले में प्रवेश करना बहुत मुश्किल था। यह ढक्कन का दरवाजा भी कहलाता है, जिस पर अधिकार करने वाले शासको के लिए न केवल ढक्कन विजय के रास्ते खुल जाते हैं, बल्कि जल थल मार्गो पर नियंत्रण कर देसी विदेशी व्यापार के जरिए आर्थिक संपन्नता भी प्राप्त की जा सकती है।

इस किले पर आक्रमण कर विजय प्राप्त करना बहुत मुश्किल था। इस पहाड़ी के पश्चिमी भाग में तीन बार किले बंदी की गई है। सबसे नीचे मलयगढ़, फिर कमरगढ़ तथा पहाड़ी के सबसे ऊपरी भाग में असीरगढ़ किला है। विभिन्न राजवंशों ने समय-समय पर किले के विस्तार एवं सुधारीकरण किया मजबूत दीवारों तथा बुर्जों से किले को अभेद बनाया है। इस किले में मुख्यतः सात दरवाजे हैं।

असीरगढ़ का किला (asirgarh ka kila) मुख्य हाईवे सड़क से थोड़ा अंदर जंगल में स्थित है। इस किले में आप आसानी से जा सकते हैं। इस किले तक पहुंचाने के लिए सड़क मार्ग बना हुआ है। यहां पर आप बाइक और कार से पहुंच सकते हैं। किले तक आने के लिए पक्की सड़क उपलब्ध है। यह किला मुख्य सड़क से करीब दो या तीन किलोमीटर दूर होगा। यहां पर पहुंचकर वाहन पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्थल है, जहां पर आप अपनी गाड़ी आराम से खड़ी कर सकते हैं। यहां पर फ्री पार्किंग उपलब्ध है।

पार्किंग में अपनी गाड़ी खड़ी करने के बाद, आप इस किले में जा सकते हैं। इस किले में जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। यहां पर पत्थरों की सीढ़ियां बनी हुई है। आप आराम से सीढ़ियां से चढ़कर किले तक पहुंच सकते हैं। किले में आपको भव्य प्रवेश द्वार देखने के लिए मिलता है। किले के प्रवेश द्वार को पार करने के बाद आप किले में पहुंच जाते हैं।

असीरगढ़ किले में में प्रवेश करने के लिए आपको आइडेंटी कार्ड की जरूरत पड़ती है। यहां पर आपका नाम लिखा जाता है। उसके बाद आप किले में प्रवेश करके घूम सकते हैं। किले में घूमने का सबसे अच्छा समय बरसात का है। यहां पर बरसात के समय बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं।

असीरगढ़ का किला (asirgarh ka kila) को आशा अहीर गढ़ के नाम से भी जाना जाता था क्योंकि इस किलें का निर्माण आशा अहीर नाम के एक जमीदार ने करवाया था। इस किलें का निर्माण 15 वीं शताब्दी में हुआ था। असीरगढ़ किला (asirgarh kila) समुद्र तल से 701 मीटर ऊंचाई पर स्थित है। असीरगढ़ किले (asirgarh kila) में देखने के लिए अब सिर्फ खंडहर रह गए हैं।

असीरगढ़ किले के अंदर बहुत सारी जगह हैं जहां पर आप घूम सकते हैं।असीरगढ़ किले के अंदर घूमने के लिए आपको ब्रिटिश कालीन भवन, महादेव का गुप्तेश्वर मंदिर, जामा मस्जिद, रानी महल, सैनिकों के रहने का स्थान, चर्च, मामा भांजा टैंक, फांसी घर, परेड ग्राउंड और भी बहुत सारे स्थल देखने के लिए मिलते हैं।

असीरगढ़ किले में प्रवेश करने पर, रानी महल देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर रानी महल और तालाब आसपास ही बने हुए हैं। आप इन जगहों में जाकर घूम सकते हैं। रानी महल अब पूरी तरह से बर्बाद हो चुका है। यहां पर देखने के लिए कुछ नहीं है। यहां पर आप महल की दीवारें और छत को देख सकते हैं, जो खंडहर में तब्दील हो रहे हैं। यहां पर मामा भांजा तालाब बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है और आकर्षक लगता है।  इस तालाब में हमेशा पानी रहता है।

असीरगढ़ किले में आपको ब्रिटिश छावनी भी देखने के लिए मिलती है। असीरगढ़ किले (asirgarh kila) में अंग्रेजों के प्राचीन इमारतें और कब्रिस्तान भी देख सकते हैं। किले के दक्षिण पश्चिमी भाग में ब्रिटिश काल के अनेक इमारत मौजूद है। असीरगढ़ किले (asirgarh kila) में अंग्रेजों ने भी हुकूमत किया है। अंग्रेजों द्वारा निर्मित इमारतों में अंग्रेजों द्वारा पकड़े गए विद्रोहियों को कैद करके रखा जाता था और उन्हें यातानाएं दी जाती थी। इन दुर्गम पहाड़ियों के कारण किले से कैदियों का भाग जाना भी असंभव था।

असीरगढ़ किले (asirgarh kila) में आप प्राचीन तालाब एवं कुएं देख सकते है। असीरगढ़ किले (asirgarh kila) में जल का प्रबंध बहुत अच्छा था। यहां पर तालाब बनाया गया है। असीरगढ़ किले (asirgarh kila) में कुछ कुंड बनाए गए थे। यहां पर मामा भांजा नाम का एक तालाब है, जो प्राकृतिक पानी का स्त्रोत है।  इन कुंड में गर्मी में भी पानी रहता था। इसके अलावा यहां पर कई तालाब और कुएं बनाये गए है। जिन्हें आप आज भी देख सकते है।

असीरगढ़ किले (asirgarh kila) में गुप्तेश्वर महादेव मंदिर एक प्राचीन शिव मंदिर है। इस मंदिर का संबंध महाभारत काल से जोड़ा जाता है, कहा जाता है कि महाभारत के गुरु द्रोण के पुत्र अश्वत्थामा भगवान शिव की पूजा करने के लिए आज भी यहां पर आते हैं। यहां पर प्रत्येक सुबह भगवान शिव का फूल चढ़े हुए मिलते हैं, जो इस बात का प्रतीक है कि आज भी अश्वत्थामा इस मंदिर में आते हैं। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। आप यहां पर शिव भगवान का शिवलिंग देख सकते है।

इस मंदिर में एक गर्भगृह तथा एक मंडप है। गर्भगृह में शिवलिंग विराजमान है। गर्भगृह  में आपको और भी बहुत सारी प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती है। मंदिर के पास में स्थित मंदिर के पास में ही एक बावड़ी बनी हुई है। यह बावड़ी चट्टानों को काटकर बनाई गई है। यहां पर कुछ कक्ष और गलियारे बनाए गए हैं। यह मंदिर अंडरग्राउंड है और बहुत सुंदर लगता है। इस मंदिर के पास में ही थोड़ी ही दूरी पर एक बड़ा सा तालाब देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर लगता है और इस तालाब में पानी हमेशा ही भरा रहता है।

असीरगढ़ किले में जमा मस्जिद बनी हुई है। यह मस्जिद बहुत ही सुंदर तरीके से बनाई गई है। इस मस्जिद की ऊंची इमारत बहुत ही आकर्षक है। इस मंदिर में आपको अंडरग्राउंड महल भी देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही आकर्षक है। इस मस्जिद का निर्माण आदिलशाह चतुर्थ ने सन 1590 में किया था। इस मस्जिद को एक उचें पहाड पर बनाया गया है और इसकी दो मीनार आपको दूर से भी देख सकते है।

असीरगढ़ किले में एक फांसी घर बना हुआ है, जिसमें स्वतंत्रता सेनानियों को फांसी दी जाती थी। इस फांसी घर में स्वतंत्रता सेनानियों को फांसी दी जाती थी और उनके यहां पर लाश को निकालने के लिए भी जगह दी गई है। आप इस फांसी घर को देख सकते हैं।

असीरगढ़ किले में व्यू प्वाइंट बना हुआ है, जहां से आप चारों तरफ का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर आपको दूर-दूर तक फैली हुई सतपुड़ा की सुंदर घटिया देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर अगर आप बरसात के समय आएंगे, तो आप को यहां पर ज्यादा मजा आएगा। यह जगह बहुत ही सुंदर है। आप यहां पर अपने फैमिली और दोस्तों के साथ आ सकते हैं और अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है और यहां का शांति भरा माहौल बहुत आकर्षक है।

 

आशापुरा माता का मंदिर असीरगढ़ – Ashapura Mata Temple Asirgarh

असीरगढ़ किले के पास में आशापुरा माता का मंदिर बना हुआ है। इस मंदिर में आप घूमने के लिए जा सकते हैं। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यह मंदिर असीरगढ़ गांव से करीब 1 किलोमीटर दूर होगा। इस मंदिर में आपको आशापुरा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। पहाड़ी में जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है।

आप इस मंदिर में जा सकते हैं। यहां पर नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे लोग यहां पर आते हैं। यहां पर एक छोटा सा झरना बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। इस मंदिर के पास में दुकान भी देखने के लिए मिलती है, जहां पर आपको खाने-पीने का सामान मिल जाता है। यहां पर आप शांत वातावरण में आकर अच्छा समय बिता सकते हैं।

यह भी पढ़े :- लांजी का किला बालाघाट

असीरगढ़ का किला में घूमने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit in Asirgarh ka Kila 

असीरगढ़ किले में घूमने का सबसे अच्छा समय बरसात का है। आप यहां पर बरसात में आएंगे, तो आपके यहां पर ज्यादा मजा आएगा। बरसात में यह जगह खूबसूरत लगती है। बरसात में यहां पर चारों तरफ आपको हरियाली देखने के लिए मिलती है।

बरसात में पूरे किले में बड़ी-बड़ी झाड़ियां उग जाती है, जिनके बीच से आपको किले में घूमना होता है। मगर यहां पर आस-पास की वादियों का दृश्य देखने लायक रहता है। आप इस किले में ठंड के समय भी आ सकते हैं। ठंड के समय भी इस किले में घूमने में मजा आता है।

यह भी पढ़े :- मदन महल का किला जबलपुर

असीरगढ़ का किला कहां पर स्थित है – Where is Asirgarh ka Kila  located

असीरगढ़ किला मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले में स्थित है। असीरगढ़ किला बुरहानपुर से करीब 22 किलो मीटर दूर असीरगढ़ नाम के गांव में स्थित है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यह गांव मुख्य हाईवे सड़क पर बना हुआ है। यहां पर आप बाइक और कार से आ सकते हैं।

असीरगढ़ किला मुख्य हाइवे मार्ग से करीब 2 से 3 किलोमीटर अंदर जंगल में बना हुआ है। यहां पर आप अपनी गाड़ी से आराम से जा सकते हैं। यहां पर पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्पेस दिया गया है, जहां पर आप गाड़ी पर कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- देवगढ़ का किला छिंदवाड़ा

असीरगढ़ का किले में कैसे जाएं – How to reach Asirgarh ka Kila 

असीरगढ़ का किला (asirgarh ka kila) मध्यप्रदेश के बुरहानपुर जिले में स्थित है। असीरगढ़ का किला (asirgarh ka kila) बुरहानपुर जिले से करीब 21 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह किला खंडवा से करीब 48 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह किला बुरहानपुर खंडवा हाइवे रोड पर स्थित है। आप इस किला में अपने वाहन से आ सकते हैं, या टैक्सी बुक करके आ सकते हैं। यह किला पहाडी की चोटी पर स्थित है।

यह भी पढ़े :- माधवगढ़ का किला सतना

यह लेख आपकी जानकारी के लिए लिखा गया है, अगर आपको अच्छा लगे, तो इसे शेयर जरूर करें।

Leave a Comment